हैलो दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। आज हम आपको बतायेंगे  अखरोट के फायदे के बारे में, तथा इसके ज्यादा खाने के नुकसान, कब, कैसे और कितना खाना चाहिए। सूखे मेवे की श्रेणी में आने वाले अखरोट को Energy का Powerhouse कहा जाता है। यह स्वास्थ्य से सौंदर्य तक के लिए बहुत फायदेमंद है। क्योंकि ये आवश्यक पोषक तत्वों और सूक्ष्म पोषक तत्वों से भरे होते हैं। अखरोट में Vitamin B, E,Fiber, मैग्नीशियम (Magnesium), और प्रोटीन (Protein) प्रचुर मात्रा में होते हैं। दोस्तों, तो चलिए जानते है अखरोट के फायदे के बारे में जो हमने आपको नीचे विस्तार पूर्वक बताया है। 

अखरोट के फायदे

अखरोट के फायदे – Benefits of Walnut

1. दिमाग के लिये (For Mind)

 मानव मस्तिष्क के आकार वाला अखरोट मस्तिष्क के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें भरपूर मात्रा में Omega-3 फैटी एसिड (Fatty Acids) पाया जाता है जो मस्तिष्क के कार्य पर लाभकारी प्रभाव डालता है। साथ ही पॉलीअनसैचुरेटेड फैट याददाश्त (memory power) को बढ़ाने में मदद करता है व डिप्रेशन को कम करता है। 

2. दिल के लिए (For Heart)

अन्य ड्राई फ्रूट की अपेक्षा अखरोट में अल्फा लिनोलेनिक एसिड की मात्रा अधिक होती है जो ओमेगा 3 फैटी एसिड का ही एक रूप है। ये रक्त धमनियों में फैट के जमाव (blood clot) को रोकता है। इसमें पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (PUFA) भी होता है जो हृदय प्रणाली के लिए फायदेमंद होता है।

3. रक्तचाप नियंत्रण (Blood Pressure Control) 

अखरोट का सेवन उच्च रक्तचाप को कम करने का काम कर सकता है। इसमें पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (PUFA) भी होता है यह हमारे शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) को कम करके अच्छे कोलेस्ट्रॉल (HDL) के निर्माण में सहायता करता है और रक्तचाप को भी कम करते हैं जिससे हृदय संबंधी बीमारियों से बचा जा सकता है।

4. प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System)

अखरोट में मौजूद प्रोटीन में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव पाए जाता है, जो रोगों से लड़ने में हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली इम्यून सिस्टम को मजबूत करते हैं।

5 हड्डियों की मजबूती के लिये (To Strengthen Bones)

हड्डियों की मजबूती के लिए भी अखरोट का सेवन बहुत फायदेमंद है। क्यों कि अखरोट में अल्फा लिनोलेनिक एसिड पाया जाता है जिससे हड्डियां मजबूत बनती हैं। अखरोट में कैल्शियम और फास्फोरस भी पाया जाता है, जो हड्डियों में ऑस्टियोपोरोसिस होने से रोकता है, साथ ही कॉपर बोन मिनरल डेंसिटी को बनाए रखता है।  

ये भी पढ़े:- विटामिन-डी की कमी कैसे दूर करें

6. वजन कम करने में सहायक (To Lose Weight)

 यद्यपि अखरोट फैट और कैलोरी से भरपूर होता है फिर भी यह भूख को कंट्रोल करता है। यह फाइबर युक्त होने के कारण फैट को कम करने में सहायक हो सकता है। इसके उपयोग से वजन घटाने में मदद मिल सकती है।

7. मधुमेह (Diabetes)

 मधुमेह यानी डायबिटीज के रोगियों के लिए जो टाइप 2 डायबिटीज से बचना चाहते हैं अखरोट बहुत ही सहायक है। इसमें मौजूद मोनो पॉली असंतृप्त वसा इंसुलिन संवेदनशीलता के लिए बेहतर है। अखरोट के पेड़ और पत्तों में एंटी-डायबिटिक प्रभाव पाए जाते हैं। इस प्रभाव के कारण यह रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को कम करने का काम कर सकता है।

8. कैंसर (Cancer)

 अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण, अखरोट में ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर में कैंसर सेल्स के विकास को रोकते हैं। अखरोट में पॉलिफेनॉल इलागिटैनिन्स पाए जाते हैं जो कई तरह के कैंसर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करने में मदद करता है। एंटी कैंसर प्रभाव के कारण यह कैंसर के ट्यूमर को पनपने से रोक सकता है। अखरोट खाने से हार्मोन से जुड़े कैंसर का खतरा भी कम होता है। ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोरेक्टल कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों के खतरे को कम किया जा सकता है। यहां स्पष्ट करना चाहेंगे कि केवल घरेलू उपचार से कैंसर को ठीक करना संभव नहीं है इसका डॉक्टर से उचित इलाज करवाना चाहिए। 

9. गर्भावस्था (Pregnancy)

डॉक्टर की सलाह से गर्भावस्था में अखरोट खाना मां और होने वाले बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है। अखरोट में पाए जाने वाले फैटी एसिड, विटामिन-ए, ई और बी-कॉम्प्लेक्स होने वाले शिशु के मानसिक विकास में मदद कर सकते हैं।  इसमें आयरन और कैल्शियम भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो एनीमिया से बचाता है। 

10. अच्छी नींद/कम तनाव (Good Sleep)

अखरोट में मेलाटोनिन होता है जो बेहतर नींद लाने में मदद करता है। इसमें  विटामिन-बी 6, ट्रिप्टोफैन, प्रोटीन और फोलिक एसिड जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं,  जो तनाव से राहत दिलाते हैं। ओमेगा-3 फैटी एसिड भी ब्लड प्रेशर को संतुलित कर तनाव को खत्म करता है। 

11. पित्त की पथरी (Gallstones)

कुछ अन्य नट्स की भांति अखरोट में भी अनसैचुरेटेड फैटी एसिड, फाइबर और मिनरल होते हैं जो पित्त की पथरी से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकते हैं। परन्तु याद रहे कि यह पित्त की पथरी का यथोचित इलाज नहीं है।

12.  उदर रोगों से राहत (Stomach Diseases)

यदि आप रोजाना अखरोट का सेवन करते हैं, तो आपका पेट भी सही रहेगा और कब्ज भी नहीं होगा। भीगे हुए अखरोट को पचाना भी आसान होता है। अखरोट फाइबर से भरपूर होता है इसमें रिबोफ्लेविन यानी विटामिन-बी2 भी होता है जो पाचन तंत्र को ठीक रखते हैं। यह कब्जियत को समाप्त कर पेट और आंतों की सफाई के लिए भी मददगार साबित होता है। एक शोध के अनुसार, 8 सप्ताह तक प्रतिदिन 43 ग्राम अखरोट का सेवन करने से एक स्वस्थ व्यक्ति में प्रोबायोटिक और ब्यूटिरिक एसिड का उत्पादन होता है, जो अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ावा देते हैं। इससे आंतों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद मिल सकती है। 

13.  त्वचा संबंधी समस्याएं (Skin Problems) 

त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए अखरोट का तेल अच्छा उपाय है। इसे लगाने से त्वचा संबंधी समस्याओं से निजात पाई जा सकती है। अखरोट में विटामिन-ई होता है, जो त्वचा में नमी बनाए रखता है और खुश्की को दूर करता है। इसलिए, त्वचा प्रसाधनों में इसका उपयोग किया जाता है।

14.  बालों के लिए  (For Hair)

बालों के लिए अखरोट  बहुत फायदेमंद हो सकते हैं। अखरोट में पोटेशियम, ओमेगा 3, ओमेगा 6 और ओमेगा 9 पाया जाता है। ये सभी पोषक तत्व बालों के लिए आवश्यक होते हैं। नियमित रूप से बालों में अखरोट का तेल लगाने से बाल काले, लंबे और मजबूत होते हैं।

15. बढ़ती उम्र के प्रभाव को रोके (Increasing Age)

अखरोट में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट आपको युवा बनाए रखने में सहायक सिद्ध होते हैं।  बढ़ते उम्र के प्रभाव को तेजी से बढ़ने से रोकने के लिए अखरोट का सेवन सहायक हो सकता है। एंटीऑक्सीडेंट न केवल आपकी त्वचा को बेहतरीन बनाता है बल्कि आंखों और बालों के लिए भी फायदेमंद होते हैं।

अखरोट को कब और कैसे खाएं – How to Eat Walnuts

1. अखरोट की तासीर गर्म होती है, यदि किसी पर गर्म चीजों का प्रभाव नकारात्मक तरीके से पड़ता है, तो उसे एक दिन छोड़कर अखरोट का खाना चाहिए या फिर सिर्फ सर्दियों में इसका सेवन करें। 

2. हर किसी की खाने की क्षमता अलग अलग होती है इसलिये सही मात्रा के लिये विशेषज्ञ की सलाह ले लेनी चाहिये। वैसे युवा व्यक्ति प्रतिदिन 30 ग्राम तक अखरोट का सेवन कर सकता है।  

3. अखरोट को कच्चा खाने की अपेक्षा भिगोकर खाया जाए तो इसके गुण बढ़ जाते हैं। इसलिए रात को 2 अखरोट भिगोकर रख दें और सुबह खाली पेट खाएं। बिना भीगे हुए अखरोट कभी खाली पेट न खाएं क्योंकि इसके तेल से पेट में जलन हो सकती है।

4. रात को सोते समय एक गिलास दूध के साथ अखरोट के दो-तीन टुकड़े खाना सबसे आसान और फायदेमंद होता है।

5.  दूध में एक चम्मच अखरोट का पाउडर और एक चम्मच शहद का भी सेवन कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:- दिमाग तेज करने के तरीके 

6.  ब्रेड स्प्रेड के तौर पर भी अखरोट का सेवन किया जा सकता है। बटर में अखरोट का पाउडर मिलाएं और ब्रेड पर लगाकर सुबह के नाश्ते में खा सकते हैं। 

7. अखरोट को भूनकर शाम के स्नैक्स के तौर पर खा सकते हैं।

8. दही/योगर्ट में केले और अखरोट की दो-तीन गोलियां मिलाकर भी इसे खाया जा सकता है। इसमें स्वाद के लिए एक चम्मच शहद भी मिला सकते हैं। दोपहर के खाने के बाद मीठे के तौर पर आप इस स्मूदी के तौर पर का खा सकते हैं।

अखरोट खाने/ज्यादा के नुकसान – Loss of Eating Walnuts

दोस्तो किसी भी चीज की अति हानिकारक होती है। अखरोट में कैलोरी ज्यादा होती है। इसलिये उन्हें संयम के साथ खाने की सलाह दी जाती है। अखरोट खाने या ज्यादा खाने के हो सकते हैं ये नुकसान :

1.  एलर्जी (Allergies)

 यदि आपको एलर्जी है तो आपको अखरोट नहीं खाना चाहिए। क्योंकि एलर्जी के दौरान अखरोट का सेवन करने से आपकी छाती में खिंचाव हो सकता है और सांस लेने में भी दिक्कत हो सकती है।

2.  वजन (Weight) 

अधिक मात्रा में सेवन से आपका वजन बढ़ सकता है।

3.  चकत्ते (skin Rashes) 

 काले अखरोट खाने से बचना चाहिए क्योंकि इसके छिलके में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो त्वचा पर लाल रैशेज पैदा कर सकते हैं। 

4.  त्वचा का कैंसर (Skin Cancer)

काले अखरोट में मौजूद कुछ केमिकल तत्वों  के कारण त्वचा के कैंसर का खतरा बढ़ने की संभावना हो सकती है। 

5.  अन्य (Others)

अखरोट का अधिक मात्रा में सेवन करने से पेचिश (Dysentery) हो सकती है या पेट से सम्बंधित अन्य बीमारी हो सकती है।

Conclusion

दोस्तो, आज इस लेख के माध्यम से हमने आपको अखरोट के फायदे के बारे विषय में जानकारी दी। इसको खाने का समय, खाने की उचित मात्रा, खाने का सही तरीका, इसके फायदे, नुकसान आदि से अवगत कराया। आशा है आपको यह अवश्य पसन्द आयेगा। कृपया अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय अवश्य भेजिये। धन्यवाद।

Disclaimer:- यह लेख केवल जानकारी मात्र है। किसी रोग का उपचार/विकल्प नहीं। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर उत्तरदायी नहीं है।


2 Comments

Shivkumarkardam · November 22, 2020 at 12:13 pm

Really it’s too good. Interesting Article perfectly covered the vital information. Thank you so much Blogger

Ram Mohan haldia · November 22, 2020 at 2:35 pm

Really very nicely explained advantage and disadvantage. Thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!