Advertisements

दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। दोस्तो, शरीर पर विशेषकर चेहरे पर दाग, धब्बे, कील, मुंहासे किसी को भी अच्छे नहीं लगते। यह सब त्वचा विकार के कारण होता है इनसे लुक भी खराब होता है। ऐसे ही एक त्वचा विकार के बारे में हम बतायेंगे जिसमें चेहरे पर छोटी-छोटी कील उभर आती हैं ये चेहरे के अतिरिक्त शरीर के अन्य हिस्सों पर भी हो जाती हैं और इनकी सतह काली हो जाती है। इनको ब्लैकहेड्स के नाम से जाना जाता है। इनको हटाने के लिये अक्सर लोग इनको  नोंचने लगते हैं। ऐसा करने से त्वचा पर दाग धब्बे बन जाते हैं और त्वचा पर सूजन भी आ जाती है। आखिर इनको हटाने के लिये क्या किया जाये। दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक “ब्लैकहेड्स के घरेलू उपाय”। देसी हैल्थ क्लब इस आर्टिकल के माध्यम से आज आपको ब्लैकहेड्स के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बतायेगा कि ब्लैकहेड्स को हटाने के क्या घरेलू उपाय हैं। तो, सबसे पहले जानते हैं कि ब्लैकहेड्स क्या होते है और इनके बनने के क्या कारण होते हैं।

Advertisements
ब्लैकहेड्स के घरेलू उपाय
Advertisements

ब्लैकहेड्स क्या होते हैं? – What are Blackheads?

ब्लैकहेड्स छोटे-छोटे कील के समान दाने होते हैं। इनको हल्के मुंहासे का एक प्रकार भी कहा जा सकता है। त्वचा में छोटे-छोटे छिद्र होते हैं। त्वचा के यही छेद मृत त्वचा कोशिकाओं, धूल, मिट्टी या तेल का उत्पादन ज्यादा होने से भर जाते हैं। त्वचा का हवा के साथ सम्पर्क होने पर, ऑक्सीजन के साथ प्रतिक्रिया करके ये काले दिखाई देने लगते है, इसी वजह से इन्हें ब्लैकहेड्स कहा जाता है। इन छोटी-छोटी कील को बॅम्प (Bumps) कहा जाता है और इन बॅम्प को ब्लैकहेड्स कहते हैं। ये अधिकतर नाक, कान, ठोढी और माथे के ऊपर होते हैं, क्योंकि इन जगहों पर ज्यादा ग्रंथियां होती है जिनसे सीबम (Sebum – वसा) निकलता है। इनके अतिरिक्त ये गर्दन, कंधे, पीठ, छाती और हाथ और पर भी हो सकते हैं। यद्यपि यह समस्या किसी भी आयु में हो सकती है लेकिन अधिकतर यौवन के शुरु होने की अवस्था या हार्मोन असंतुलन/स्तर में परिवर्तन होने पर सीबम का उत्पादन बढ़ जाने पर यह ब्लैकहेड्स की समस्या होना आम स्थिति है। 

Advertisements

ब्लैकहेड्स होने के कारण – Cause of Blackheads

ब्लैकहेड्स होने के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं –

1. त्वचा के छिद्रों का मृत त्वचा कोशिकाओं, धूल, मिट्टी या तेल का उत्पादन ज्यादा होने से भर जाना यह  ब्लैकहेड्स का मुख्य कारण है। 

2. हार्मोन्स् में परिवर्तन। 

Advertisements

3. सौंदर्य प्रसाधनों के अधिक उपयोग से त्वचा के रोमछिद्र बंद हो जाते हैं।

4. कुछ विशेष प्रकार के या निम्न गुणवत्ता वाले सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग करना।

5. कुछ विशेष दवाईयों जैसे गर्भनिरोधक गोलियां, मसल्स बनाने वाली दवाऐं आदि की प्रतिक्रिया।

6. कुछ स्टेरॉयड आधारित दवाओं का उपयोग करना जैसे कॉर्टिकोस्टेरॉइड आदि। 

7. तनाव, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) और प्रीमेंसट्रूअल सिंड्रोम (पीएमएस) जैसी स्वास्थ संबंधी समस्याऐं।

8. प्रदूषित वातावरण में अधिक समय तक रहना या अधिक पसीना आना।

9. कार्बोहाइड्रेट्स युक्त खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करना।

10. शेविंग या अन्य गतिविधियां जो बालों के रोम छिद्रों को प्रभावित करें। 

ये भी पढ़े – ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स को हटाने के घरेलू उपाय

ब्लैकहेड्स के घरेलू उपाय – Home Remedies for Blackheads

दोस्तो, अब आपको बताते हैं कुछ निम्नलिखित घरेलू उपाय जिनको अपनाकर आप ब्लैकहेड्स की समस्या से राहत पा सकते हैं – 

1. अंडा और शहद (Egg and Honey)- अंडे के सफेद भाग में मौजूद एल्ब्यूमिन नामक तत्व त्वचा में अतिरिक्त तेल को कम करने में अपनी सक्रिय भूमिका निभाता है और रोमछिद्रों में कसाव लाता है। ब्लैकहेड्स के लिये अंडे के सफेद भाग और शहद का पेस्ट बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिये अंडे के सफेद भाग में एक चम्मच शहद मिलाकर अच्छी तरह मिक्स करके चेहरे पर लगायें। कुछ देर बाद सूख जाने पर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें। इसे हफ्ते में दो बार करें। यह ऑयली और कॉम्बिनेशन त्वचा के लिये लाभकारी है।  

2. एलोवेरा जैल (Aloe Vera Gel)- एलोवेरा त्वचा के रोम छिद्रों की सफाई करने और सीबम को हटाने के काम में मदद करता है। यह मुहांसों और त्वचा के अन्य विकारों/रोगों से राहत दिलाने में मदद करता है। ब्लैकहेड्स के लिये एलोवेरा का ताजा जैल निकाल कर प्रभावित स्थान पर लगाकर छोड़ दें। लगभग 15 मिनट बाद त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें। इसे आप रोजाना कर सकते हैं। यह सभी प्रकार की त्वचा के लिये उपयुक्त है। 

3. नींबू, दही और नमक (Lemon, Yogurt and Salt)- नींबू त्वचा की गंदगी को साफ करने में और रोमछिद्रों को टाइट करने में अत्यंत प्रभावी ढंग से काम करता है और दही प्राकृतिक मॉइचराइज़र के रूप में काम करता है और त्वचा में नमी बनाये रखता है। नमक एक्सफोलिएटर की तरह काम करता है। एक चम्मच नींबू के रस में एक चम्मच दही और आधा चम्मच नमक मिलाकर अच्छी तरह मिक्स कर लें। इसे प्रभावित त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। 15 मिनट बाद गुनगुने पानी से धो लें। यह सभी प्रकार की त्वचा के लिये उपयुक्त है। इसे एक या दो दिन छोड़कर लगायें। 

4. ओट्स (Oats)- ओटमील को बहुत अच्छा एक्सफोलिएंट माना जाता है। इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाये जाते हैं। दो चम्मच ओटमील में दो चम्मच दही, एक चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच जैतून का तेल अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को प्रभावित त्वचा पर लगायें और 15 मिनट बाद ठंडे पानी से धो लें। याद रखिये ठंडे पानी से धोना है ना कि गुनगुने पानी से। दही और जैतून का तेल त्वचा को पोषण देते हैं और उन्हें चमकदार और स्वस्थ बनाये रखने में मदद करते हैं। या ओट्स पाउडर में दूध मिलाकर स्क्रबिंग कर सकते हैं। यह उपाय सभी प्रकार की त्वचा के लिये लाभकारी है। 

5. केला और ओट्स (Banana and Oats)- एक मसले हुऐ केले में दो चम्मच मसले हुऐ ओट्स और एक चम्मच शहद डालकर अच्छी तरह मिक्स करलें। इस मिश्रण को चेहरे पर लगाकर धीरे धीरे स्क्रब करें और छोड़ दें। 10 मिनट बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। यह उपाय सभी प्रकार की त्वचा के लिये फायदेमंद है। 

6. दालचीनी (Cinnamon)- दालचीनी ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करती है, रोमछिद्रों के आकार को भी कम करती है और त्वचा में कसावट बनाये रखती है। ब्लैकहेड्स के उपचार के लिये दो चम्मच दालचीनी पाउडर में दो चम्मच शहद मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को प्रभावित त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। 20 मिनट बाद त्वचा को सामान्य पानी से धोलें। शहद के स्थान पर आप नींबू का रस मिलाकर भी पेस्ट बनाकर लगा सकते हैं। यह ऑयली, सामान्य और कॉम्बिनेशन त्वचा के लिये उपयुक्त है। इसे हफ्ते में तीन या चार बार लगा सकते हैं। दालचीनी पर विस्तार से जानकारी के लिये हमारा पिछला आर्टिकल “दालचीनी के फायदे और नुकसान” पढ़ें।

7. हल्दी (Turmeric)- हल्दी एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक है। इसमें एंटीबैक्टीरियल, एंटीइंफ्लामेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं। एक चम्मच हल्दी पाउडर में दो चम्मच पुदीना का रस मिलाकर पेस्ट बनायें और त्वचा पर लगायें। 15 मिनट बाद सूखने पर गुनगुने पानी से धोकर मॉइचराइज़र लगा लें। इसे हफ्ते में एक बार करें। यह सभी प्रकार की त्वचा के लिये ठीक है। 

8. ग्रीन टी (Green Tea)- ग्रीन टी के एंटीऑक्सीडेंट त्वचा को साफ़ करने में मदद करते हैं, उसे स्वस्थ और चमकदार बनाते हैं।  ग्रीन टी मृत त्‍वचा कोशिकाओं को हटाने और रोम छिद्रों को साफ़ करने में मदद करती है। यह बैक्‍टीरिया को भी खत्म करती है। इसका उपयोग एक्‍सफोलिएशन के लिए किया जाता है। दो ग्रीन टी बैग को काटकर इसकी पत्तियों को एक कप पानी में उबाल लें। उबली हुई ग्रीन टी की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें। आप चाहें तो इनको पीसते समय इसमें एलोवेरा जैल भी मिला सकते हैं। इस पेस्ट को प्रभावित त्वचा पर लगाकर छोड़ दें और 10-15 मिनट बाद ठंडे पानी से धो लें। इसे हफ्ते में दो बार कर सकते हैं और यह सभी प्रकार की त्वचा के लिये लाभदायक है। ग्रीन टी पर विस्तार से जानकारी के लिये हमारा पिछला आर्टिकल “ग्रीन टी के फायदे और नुकसान” पढ़ें।

9. मुल्तानी मिट्टी(Multani Mitti) – मुलतानी मिट्टी का उपयोग सौंदर्यीकरण के लिये प्राचीन काल से किया जाता रहा है। ब्लैकहेड्स के लिये इसका उपयोग निम्न प्रकार किया जा सकता है –

(i) एक चम्मच मुलतानी मिट्टी में दो चम्मच टमाटर का गूदा और थोड़ा-सा गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर छोड़ दें। जब यह सूख जाये तो सामान्य पानी से धो लें। इसे हर तीसरे दिन कर सकते हैं। 

(ii) एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी पाउडर में एक चम्मच गुलाब जल और एक चम्मच चंदन पाउडर मिलाकर पेस्ट बना लें। आप चाहें तो इसमें 2-3 बूंद नींबू का रस भी मिला सकते हैं। इस पेस्ट को त्वचा पर लगायें और सूखने दें। 15-20 मिनट बाद त्वचा को गुनगुने पानी से धोलें। इसे हफ्ते में दो बार कर सकते हैं। 

(iii) दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी पाउडर, दो चम्मच शहद और आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को त्वचा पर लगायें और सूख जाने पर गुनगुने या ठंडे पानी से धो लें। 

(iv) दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी पाउडर में एक चम्मच गुलाब जल और कुछ ताजी पत्तियां नीम की पीसकर पेस्ट बनालें। इस पेस्ट को त्वचा पर लगायें। सूखने पर ठंडे पानी से धो लें। मुल्तानी मिट्टी के ये सभी उपाय तैलीय त्वचा पर प्रभावशाली हैं। मुल्तानी मिट्टी पर विस्तार से जानकारी के लिये हमारा पिछला आर्टिकल “मुल्तानी मिट्टी के फायदे और नुकसान” पढ़ें। 

10. बेकिंग सोडा (Baking soda)- बेकिंग सोडा में एंटीफंगल एवं एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं जो फंगस और बैक्टीरिया को खत्म करके त्वचा को स्वस्थ और कोमल बनाये रखते हैं। एक चम्मच बेकिंग सोडा में दो चम्मच पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। चाहें तो पेस्ट बनाने के लिये इसमें टूथपेस्ट या फिर नींबू के रस की कुछ बूंद मिला सकते हैं। इस पेस्ट को प्रभावित त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। 15-20 मिनट बाद सूख जाने पर गुनगुने पानी से धो लें। इसे आप रोजाना कर सकते हैं। यह उपाय ऑयली और कॉम्बिनेशन त्वचा के लिये फायदेमंद है। 

11.  टमाटर (Tomato)- टमाटर में पाये जाने वाले एसिड त्वचा के रोमछिद्रों की गंदगी साफ़ करके ब्लैकहेड्स की समस्या से राहत दिलाते हैं। टमाटर को गोल-गोल काटकर त्वचा पर अच्छे से रगड़ें इसके गूदे को लगा रहने दें। 15-20 मिनट बाद त्वचा को सामान्य पानी से धो लें। इसे रोजाना लगा सकते हैं।

12. कॉफी – कॉफी भी ब्लैकहेड्स की समस्या से राहत दिला सकती है।  एक चम्मच कॉफी में एक चम्मच दही और एक चम्मच बेसन डालकर अच्छी तरह से मिक्स करके पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को प्रभावित त्वचा पर लगाकर हल्के-हल्के मसाज करें। 10-15 मिनट बाद सामान्य पानी से धो लें।

13. टूथपेस्ट (Toothpaste)- कोलगेट या कोई अन्य मिंट वाले टूथपेस्ट से भी ब्लैकहेड्स की समस्या से राहत मिल सकती है। ये प्रभावित त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। सूख जाने पर गीले तौलिये से या किसी अन्य कपड़े साफ़ कर लें। मृत त्वचा को हटाने के लिये एक चम्मच कोलगेट या अन्य टूथपेस्ट में आधा चम्मच नमक अच्छी तरह मिला लें। इसे प्रभावित त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। 10-15 मिनट बाद सामान्य पानी से धो लें।

14. एस्पिरिन की गोली (Aspirin Tablet)- एस्पिरिन के एंटीइंफ्लेमेटरी गुण ब्लैकहेड्स की सूजन और लालिमा को खत्म करने में मदद करते हैं और मृत त्वचा को हटाकर ब्लैकहेड्स की समस्या से राहत दिलाते हैं। एस्पिरिन की तीन चार गोलियों को तोड़कर पानी में मिक्स करके पेस्ट बना लें। इसमें अपनी त्वचा की प्रकार के अनुसार बादाम के तेल की कुछ बूंदें (ड्राई स्किन के लिये) या नींबू के रस की कुछ बूंदें (ऑयली स्किन के लिये) मिलाकर त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। 10-15 मिनट बाद सामान्य पानी से धोकर मॉइस्चराइज़र लगा लें। 

कुछ सावधानियां – Some Precautions

दोस्तो, ब्लैकहेड्स हो जाने पर कुछ निम्नलिखित सावधानियां बरतनी चाहियें :-

1. त्वचा रोगों का उपचार (Treatment of Skin Diseases)- यदि पहले से ही कोई त्वचा रोग है जैसे मुंहासे, एक्जिमा आदि, तो सबसे पहले इनका उपचार करायें क्योंकि ये समस्याऐं ब्लैकहेड्स के उपचार में बाधक बन सकती हैं। 

2. मुंहासों की रोकथाम के लिये (Acne Prevention)- यदि मुंहासे हैं तो ऐसे सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग करें जो मुंहासों की रोकथाम करें, रोमछिद्रों को खोलने और मृत त्वचा को हटाने में मदद करें।

3. सौंदर्य प्रसाधन (Beauty Product)- सामान्य स्थिति में भी अच्छी गुणवत्ता वाले सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग करें। ऑयल बेस्ड मेकअप का उपयोग न करें।

4. हल्का और कम मेकअप (lighter and less makeup)- मेकअप भी हल्का और कम करना चाहिये। गहरे मेकअप और ज्यादा करने से भी रोमछिद्र बंद होते हैं।

5. क्लींजिंग (Cleansing)- एक्सफोलिएटिंग स्क्रब के लिये ऐसे उत्पादों का उपयोग करें जो सुगंध रहित हों और आपकी त्वचा को ड्राई ना करें। 

6. बहुत अधिक स्क्रबिंग न करें (Don’t Scrub Too Much)- बहुत अधिक स्क्रबिंग से  बचें। ज्यादा स्क्रबिंग करने से त्वचा का सीबम निकल जाता है।  इस वजह से वसामय ग्रंथियां और अधिक मात्रा में सीबम का उत्पादन करने लगती हैं।  इससे ब्लैकहेड्स और ज्यादा बढ़ने की संभावना रहती है। 

7. भोजन (Meal)- पोषक तत्वों से भरपूर मगर कम वसा और कम कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करें। ताजा फल और फलों के जूस का सेवन करें। 

8. पर्याप्त मात्रा में पानी पीयें (Drink Enough Water)- प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में पानी पीयें। इससे त्वचा हाइड्रेट रहेगी और विषाक्त पदार्थ मूत्र विसर्जन के जरिये बाहर निकलते रहेंगे।

9. पर्याप्त नींद लें (Get Enough Sleep)- रात को जल्दी सोने की कोशिश करें ताकि आप आठ घंटे की भरपूर नींद ले सकें। इससे आपके शरीर को आराम मिलेगा और मस्तिष्क भी शांत रहेगा। तनाव या अवसाद से राहत मिलेगी। तनाव से भी सीबम का उत्पादन बढ़ता है। 

10. व्यायाम करें(Exercise) – प्रतिदिन लगभग एक घंटे तक व्यायाम करें। व्यायाम करने से भी तनाव कम होता है। शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है और मस्तिष्क भी स्वस्थ रहता है।

11. दबा कर ना निकालें (Don’t Press Down)- ब्लैकहेड्स को दबाकर, नोंचकर या खुरचकर निकालने की कोशिश ना करें। क्योंकि ऐसा करने से ये और अधिक फैलते हैं और त्वचा की समस्या को और अधिक बढ़ा सकते हैं।

12.  रिमूवर से बचें (Avoid the Remover)- ब्लैकहेड्स को निकालने के लिये रिमूवर से बचें।  ब्यूटी पार्लर में उपयोग किये जाने वाले ब्लैकहैड रिमूवर से भी नहीं क्योंकि यह त्वचा में समस्या उत्पन्न कर स्थिति को और भी खराब कर सकता है। रिमूवल स्ट्रिप्स, मास्क और वैक्यूम आदि का उपयोग करना ही है तो सावधानी से करें। 

Conclusion – 

दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको ब्लैकहैड्स के घरेलू उपाय बारे में विस्तार से जानकारी दी। ब्लैकहेड्स क्या होते हैं और ब्लैकहेड्स होने के कारण, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस लेख के माध्यम से ब्लैकहेड्स से राहत पाने के लिये बहुत सारे घरेलू बताये और कुछ सावधानियां भी बताईं। आशा है आपको ये आर्टिकल अवश्य पसन्द आयेगा। 

दोस्तो, इस आर्टिकल से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो लेख के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह लेख आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और  सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह आर्टिकल केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
ब्लैकहेड्स के घरेलू उपाय
Article Name
ब्लैकहेड्स के घरेलू उपाय
Description
दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको ब्लैकहैड्स के घरेलू उपाय बारे में विस्तार से जानकारी दी। ब्लैकहेड्स क्या होते हैं और ब्लैकहेड्स होने के कारण, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.