हैलो दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। आज हम आपका परिचय कराएंगे एक ऐसे खट्टे मीठे फल से जो आप सबने खाया होगा और जिसका नाम सुनकर ही मुंह में पानी आ जाता है।  जी हां, हम बात कर रहे हैं सर्दी में पाये जाने वाले फल “कमरख” यह दिखने में तारों के आकार की तरह ही होते है इसलिए इसे स्टार फ्रूट भी कहा जाता है। यह ‘अम्रख’ या ‘अमरख’ के नाम से भी जाना जाता है।  पुराणों और कई आयुर्वेदिक ग्रंथों में इसका जिक्र “कर्मरंग” के नाम से मिलता है।  जब कच्चा होता है तो हरे रंग का होता है और जब पक जाता है पीला हो जाता है।  यह भारत के गर्म क्षेत्रों में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गुजरात, महाराष्ट्र तथा उड़ीसा के मैदानी एवं पहाड़ी क्षेत्रों में 1200 मी की ऊँचाई तक तथा बाग बगीचों में पाया जाता है।  स्वाद में खट्टा मीठा होता है।  इसकी तासीर गर्म और भारी होती है। तो आइये जानते है हम कमरख के फायदे के बारे में,जो हम सभी के लिए बहुत ही फायदेमंद है 

कमरख के फायदे

कमरख के फायदे – Benefits of Kamrakh

1.  हृदय को स्वस्थ रखें (Keep the Heart Healthy)- कमरख में फॉलिक एसिड, विटामिन-बी समूह विटामिन-सी और एंटीऑक्सीडेंट काफी मात्रा में होता है, जो हृदय की समस्याओं से बचाव करता है।  यह स्ट्रोक के जोखिम को भी कम करने में मदद करता है।  इसमें पाये जाने वाला फाइबर भी हृदय रोगों को ठीक करने में सहायक हो सकता है।  एनजाइना (Angina) नामक बीमारी में कमरख के पत्तों का काढ़ा बनाकर सेवन करें।  10 से 20 मिली सेवन करने से लाभ होता है। 

2. कोलेस्ट्रोल स्तर को संतुलित रखे (Cholesterol Level Balanced)– कमरख के सेवन से कोलेस्ट्रोल के बढ़ने का खतरा नहीं होता क्यों कि कमरख में कोलेस्ट्रोल की मात्रा नहीं  के बराबर होती है।  बढ़ता हुआ  कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग का एक मुख्य कारण बन सकता है।  इसलिये कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम/नियंत्रित करने के लिए कमरख का सेवन फायदेमंद हो सकता है।  

3.  ब्लड प्रेशर (Blood Pressure)- कमरख, पोषक तत्व जैसे पोटेशियम से भरपूर होने के कारण, रक्त वाहिकाओं और धमनियों पर तनाव से राहत के द्वारा एथेरोसिलेरोसिस, हार्ट अटैक और स्ट्रोक के जोखिम को कम करने में मदद करता है।  पोटेशियम और सोडियम शरीर में ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं।  इसके अलावा कमरख में फाइबर पाया जाता है जो कि शरीर में कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ को ठीक रखता है।  

ये भी पढ़े:- खजूर के फायदे

4.  डायबिटीज नियंत्रण (Diabetes Control)- वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च के बाद स्पष्ट किया है कि कमरख पौधे की पत्तियों से निकलने वाले अर्क सीरम ग्लूकोज के स्तर में सुधार कर सकते हैं।  इसमें व्याप्त अघुलनशील फाइबर, खाने के बाद शरीर में ग्लूकोज को रिलीज़ होने से रोकता है और साथ ही इंसुलिन के स्तर को आसानी से नियंत्रित करने में मदद करता है।   इस प्रकार डायबिटीज से होने वाले खतरे को कम किया जा सकता है। 

5.  कैंसर के खतरे को कम करें (Reduce Cancer)- कमरख फल में बीटा-कैरोटीन की मात्रा पाई जाती है जो एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करते हैं।  बीटा-कैरोटीन की मात्रा का सेवन कैंसर होने की संभावना को कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है।  इस समस्या से बचने के लिए कमरख का सेवन लाभकारी हो सकता है। 

6.  प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System)- एक मध्यम आकार के फल में लगभग दैनिक मात्रा का 50% विटामिन सी होता है, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखने में मदद करता है।  कमरख में विटामिन सी की प्रचुर मात्रा होती है जो कि शरीर के लिए एक बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है जो कि हमारे यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करता है।  साथ ही सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाता है।  कमरख में बीटा-कैरोटीन भी पाया जाता है।  मानव शरीर बीटा-कैरोटीन को विटामिन-ए में बदल देता है, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करता है। 

7.  पाचन तंत्र को सही रखे (Digestive System)– पाचन एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जिसके द्वारा हमारा शरीर पोषक तत्वों को अवशोषित कर पाता है।  कमरख में सॉल्युबल फाइबर भरपूर मात्रा में होता है जबकि पानी में घुलकर पाचन क्रिया को बेहतर करते हैं। पाचन क्रिया बेहतर होती है तो आप कई गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं से बच पाते हैं।  इसके अलावा, यह पोषक तत्वों की तेजता और अन्य आवश्यक खनिजों और विटामिन की जैव उपलब्धता में सुधार करने में मदद करता है। 

8. भूख बढ़ाये (Increase Appetite)- पानी की कमी से हमारे शरीर में  डिहाइड्रेशन की समस्या हो जाती है।  इससे शरीर कमजोर हो सकता है।  कुछ लोग सर्दी के दिनों में बहुत कम पानी पीते हैं और खाना भी कम खाते हैं जो कि नुकसानदायक है।  सुबह के समय कमरख का जूस पीने से दो-तीन दिनों में ही भूख-प्यास लगने लग जाएगी। 

9.  हड्डियों के लिए (Bones)- स्वस्थ और मजबूत हड्डियों के लिये कैल्शियम की आवश्यकता होती है और कमरख में कैल्शियम तथा अन्य पोषक तत्व जैसे लोहा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, जस्ता आदि पर्याप्त मात्रा में होते हैं।  ये सब हड्डियों को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।  कमरख हर उम्र में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा कम करने में मदद करता है।  

10.श्वास संबंधी समस्याओं में (Respiratory)- कमरख में एंटीऑक्सीडेंट आयरन, जिंक, फास्फोरस और मैग्नीशियम जैसे गुण पाए जाते हैं।  कमरख खाने से अस्थमा जैसी श्वास संबंधी समस्या को ठीक किया जा सकता है।  कमरख के बीज का 1 से 2 ग्राम चूर्ण का सेवन से दमा पर नियंत्रित होता है और शीघ्र आराम मिलता है। 

11. पेट के रोग (Stomach Disease)- कमरख पेट के अनेक रोगों में लाभकारी है।  इसके पत्तों का काढ़ा बनाकर 10 से 20 मि। ली।  पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।  कमरख के बीज के 1/2 ग्राम चूर्ण से पेट का दर्द ठीक हो जाता है। 

12.  उल्टी और दस्त में फायदा (Vomiting and Diarrhea)- कमरख के सेवन से उल्टी और दस्त में बहुत आराम मिलता है।  अत्यधिक प्यास लगनी भी रुक जाती है।   कमरख का रस (5 से 10 मिली) पीने से खूनी पेचिश में आराम मिलता है।  

13.  खूनी बवासीर में फायदेमंद (Bloody Piles)- कमरख का रस 5 से 10 मिली रस रोज पीने से खूनी बवासीर में लाभ होता है।  रस ना हो तो 1 या 2 फल को रोज खा सकते हैं।  इससे भी खून आना बंद हो जाता है।   

14.  बुखार में फायदेमंद (Fever)-  कमरख का चूर्ण (कमरख को सुखाकर बनाया हुआ) या कमरख की जड़ का काढ़ा (1 या 2 ग्राम) लेने से बुखार उतर जाता है और कमजोरी भी दूर होती है।  यदि बुखार के कारण शरीर में जलन भी हो तो कमरख के 2 से 5 ग्राम पत्तों को पीसकर, इसमें 125 से 250 मि। ग्रा।  काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर पानी के साथ मिक्स कर लें।  इस घोल को छान कर पीने से शरीर की जलन समाप्त हो जाती है। 

15.  ब्रेस्ट मिल्क (Breast Milk)- कई माताओं को शिशुओं के लिये पर्याप्त मात्रा में स्तनों में दूध नहीं आता।  कमरख इसमें भी बहुत लाभकारी है।  इसका सेवन किसी भी प्रकार से किया जा सकता है।  

16.  त्वचा रोगों में फायदेमंद (Skin Diseases)- दाद, खाज, खुजली आदि रोगों में, कमरख के पत्तों और टहनियों को पीसकर बनाये गये लेप को, प्रभावित जगह पर लगाने से बहुत लाभ होता है।  

17.  मुंहासों के लिए (Acne)- विटामिन-सी की कमी के कारण मुंहासों की समस्या होती है जिससे चेहरा ख़राब लगने लगता है।  कमरख में विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।  3-4 कमरख के छोटे-छोटे टुकड़ों का पेस्ट बना कर एक छोटा चम्मच नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगा लगायें फिर 15 मिनट बाद चेहरा धो लें।  यह सप्ताह में एक बार करें।  ऐसा करने से मुंहासों की समस्या दूर हो सकती है। 

18.  आंखों के लिए (Eyes)- कमरख में मैग्नीशियम और विटामिन बी 6 के गुण होते हैं जो आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।  कमरख का सेवन आंखों में सूजन, दर्द, पानी निकलना और कम दिखाई देने आदि की समस्या दूर करने में सहायक हो सकता है।  

19.  डैंड्रफ की समस्या से छुटकारा (Dandruff)- कमरख में विटामिन-बी का समूह होता है जो बालों के लिये लाभकारी होता है।  सर्दी के मौसम में अक्सर रूसी (Dandruff ) की समस्या हो जाती है।  कमरख को बादाम के तेल में पकाकर सप्ताह में दो-तीन बार लगाने से रूसी की खत्म हो जाएगी और बालों में अद्भुत चमक आ जाएगी।  अथवा 5 कमरख के रस में एक चम्मच नींबू का रस और जैतून के तेल की दो-तीन बूंदें मिलाकर बालों में अच्छी तरह लगाएं और आधा घंटा बाद शैम्पू से धो लें।  यह सप्ताह में एक बार करें। 

20.  बालों को बढ़ाने के लिए (Hair)- बालों को बढ़ाने के लिए विटामिन बी-6 कॉम्प्लेक्स की जरुरत होती है जो कि बालों को मजबूत और स्वस्थ रखने में मदद करता है। कमरख में विटामिन बी-6 उपयुक्त मात्रा में पाया जाता है जिसके सेवन से बालों को बढ़ाने में मदद मिलती है।  विटामिन-बी समूह वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बाल जड़ से मजबूत होते हैं।  कमरख के सेवन से विटामिन-बी मिल जाता है।  

ये भी पढ़े:- अखरोट के फायदे

कमरख के गुण – Properties of kamarkh

कमरख फल ही नहीं अपितु आयुर्वेदिक दवा का रूप है।  इसका उपयोग कई तरह की दवाओं को बनाने में किया जाता है।  कमरख में प्रचुर मात्रा में फाइबर, विटामिन-सी, ई, बी-6, आयरन, पोटेशियम, जिंक और कैल्शियम पाया जाता है।  कमरख के उपयोग से कफ-वात, पित्त विकार को ठीक किया जा सकता है।  

कमरख का उपयोग – Use of kamarkha

दोस्तो अब आपको बताते हैं कि कमरख का कब, कितना और कैसे सेवन करना चाहिये। 

1.  कमरख को सुबह फल के रूप में, शाम को सूप के रूप में और डिनर में फ्रूट सलाद के रूप में खा सकते हैं।  

2.  आप कमरख का रस भी ले सकते हैं। 

3.  इसकी सब्जी और चटनी भी बनाई जा सकती है। 

4.  कमरख का अचार भी बना सकते हैं। 

5.  कमरख को ऐसे ही काट कर खा सकते हैं। 

कितना खाएं – कमरख का रस 5-10 मि। ली।  और कमरख फल लगभग 132 ग्राम एक दिन में सेवन किया जा सकता है। वैसे आहार विशेषज्ञ/डॉक्टर से इसके सेवन की उचित मात्रा की सलाह लेना बेहतर होगा।  

कमरख के नुकसान – Side effects of Kamrakh

1.  कमरख में कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा होती है, जिसका अधिक सेवन करने से हृदय रोग का खतरा हो सकता है। 

2.  कमरख में फाइबर भी होता है।  अधिक सेवन से पेट फूलने, सूजन और पेट में ऐंठन की हो सकती है।  

ये भी पढ़े:- घुटने के दर्द का देसी इलाज

3.  कब्ज पैदा हो सकती है। 

4.  छाती में दर्द तथा जलन हो सकती है। 

5.  कमरख में मौजूद कुछ यौगिक कुछ लोगों के लिए खतरनाक हो सकते हैं।  इसलिए यदि आपको किडनी की बीमारी है और आपका शरीर न्यूरोटॉक्सिन को फ़िल्टर करने में असमर्थ हैं, तो स्टार फ्रूट के सेवन से आपको सिरदर्द, मतली, दौरे आदि कि शिकायत हो सकती है। 

6 .  यदि आपका शरीर सोडियम के प्रति संवेदनशील है, तो आप हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से परेशान हो सकते हैं क्योंकि कमरख सोडियम से समृद्ध होता है। 

Conclusion

दोस्तो, आज इस लेख के माध्यम से हमने आपको कमरख के फायदे के बारे में जानकारी दी।  इसको खाने के फायदे, अधिक खाने के नुकसान आदि के बारे में बताया।  आशा है आपको यह अवश्य पसन्द आयेगा।  कृपया अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके।  और हम आपके लिए ऐसे ही Health- Related Topic लाते रहें।  धन्यवाद। 

Disclaimer- किसी भी रोग/समस्या के लिये कृपया डॉक्टर/आहार विशेषज्ञ से सलाह लें।  यह लेख केवल जानकारी मात्र है।  किसी रोग का उपचार/विकल्प नहीं।  किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर उत्तरदायी नहीं है। 


2 Comments

Ram mohan haldia · November 29, 2020 at 4:16 am

Bahut hi sunder tarike se likha h
Applicable

    Shiv Kumar Kardam · November 29, 2020 at 6:25 am

    Fantastic information

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!