दोस्तो, आपका स्वागत है हमारे ब्लॉग पर। हमारा आज का टॉपिक एक ऐसा सूखा मेवा है जिसकी खेती पानी के अंदर की जाती है। जी हां, हम बात कर रहे हैं मखाने की जिसका अपना स्वाद तो कुछ भी नहीं होता यानि खाने में फीका लगता है लेकिन व्यंजनों के स्वाद को महका देता है। मखाने खाने के फायदे केवल स्वास्थ के लिये ही लाभदायक नहीं होते अपितु औषधीय गुणों से सम्पन्न होते हैं। तो जानते हैं इसके बारे में कि क्या होता है मखाना।

मखाने खाने के फायदे

मखाना क्या होता है? – What is Makhane

दोस्तो, आपने कमल के फूल तो देखे होंगे जो कीचड़ पानी में उगते हैं और पूजा पाठ में काम आते हैं। बस, इन्हीं कमल के फूल के बीजों को मखाना कहते हैं। लेकिन इनको बनाना पड़ता है। कमल के बीज काले रंग के होते हैं।  इन बीजों को पहले हाथों से तब तक धोकर साफ किया जाता है जब तक कि ये काले बीज से सफेद मखाना बाहर ना निकल आये। फिर इनको सुखाया जाता है और बाद में भूनकर ठंडा होने के लिए रख दिया जाता है। 

क्या है पवित्रता इसकी? – What is its Purity

चूंकि मखाना जलीय उत्पाद है, इसकी खेती पानी में की जाती है इसलिये इसमें कोई केमिकल फर्टीलाइजर का उपयोग नहीं होता। अतः मखाने पवित्र और ऑर्गेनिक हैं। इसीलिये इनको पूजा पाठ में सम्मलित किया जाता है और व्रत, उपवास में भोजन बनाने में प्राथमिकता दी जाती है। 

मखाने की खेती – Makhane ki kheti 

दोस्तो, मखाने को झील, तालाब या दलदली जगह पानी में उगाया जाता है। इसकी जड़ें पानी में पांच मीटर तक फैल जाती हैं। इसकी खेती चीन, रूस, जापान और कोरिया में  होती है। हमारे देश भारत में जम्मू-कश्मीर, मणिपुर और बिहार के दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर,सहरसा, सुपौल, सीतामढ़ी,  पूर्णिया, कटिहार आदि जिलों में मखाने की खेती की जाती है। हमारे यहां देश का 88% मखानों का सार्वाधिक उत्पादन बिहार में होता है।   

ये भी पढ़े – पिस्ता खाने के फायदे

शोध केंद्र – Research center

दोस्तो, 28 फ़रवरी 2002 को बिहार में दरभंगा के पास बासुदेवपुर में राष्ट्रीय मखाना शोध केंद्र की स्थापना की गयी जो भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अंतर्गत कार्य करता है। 

मखाने का उपयोग – Use of Makhane

दोस्तो, मखानों को देशी घी में भूनकर इसका उपयोग मिठाईयां, नमकीन, खीर आदि बनाने में होता है। मणिपुर में तो मखाने की जड़कंद और डंठल की सब्जी भी बनाई जाती है। विशेषतौर पर नवरात्री के अवसर पर व्रत में इसकी उपयोगिता और बढ़ जाती है। मखाने की खीर से प्रतिदिन रात्री में माता को भोग लगाकर अपने व्रत का समापन किया जाता है। इन दिनों देश में मखानों की सर्वाधिक खपत होती है। मखाने का उपयोग स्नैक्स के रूप में भी किया जा सकता है।

मखाने के गुण – Properties of Makhane

1.  मखाने की तासीर ठंडी होती है या गर्म  इसको लेकर अलग अलग मत हैं कोई ठंडी तासीर बताता है तो कोई गर्म। लेकिन सब इस बात पर सहमत हैं कि मखाने किसी भी मौसम में खाये जा सकते हैं। खैर, तासीर कैसी भी हो, मखाने स्वास्थ के लिये लाभदायक ही होते हैं।

2. मखाने में अनेकों औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो स्वास्थ के लिए लाभदायक होते हैं।

3. एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में  बताया गया है कि इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण और एंटी-ट्यूमर प्रभाव पाए जाते हैं। 

4. यह शारीरिक शक्ति को बढ़ाने के साथ साथ कामेच्छा, कामशक्ति को भी बढ़ाता है और यौन समस्याओं से राहत दिलाने में भी कारगर होता है।

5. मखाने में कम कैलोरी होती है और फाइबर, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, फास्फोरस और पोटेशियम की मात्रा ज्यादा।

पोषक तत्वों का विवरण इस प्रकार है :-

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम – 

कैलोरी 393 kcal

प्रोटीन 9.7 ग्राम

फैट 10.71 ग्राम 

कार्बोहाइड्रेट 71.43 ग्राम

फाइबर 3.6 ग्राम 

शुगर 3.57 ग्राम 

कैल्शियम 18 मिलीग्राम

सोडियम 750 मिलीग्राम

पोटेशियम 57 मिलीग्राम 

फैटी एसिड टोटल सैचुरेटेड 1.79 ग्राम

आयरन 1.4 मिलीग्राम

मखाने खाने के फायदे – Benefits of Makhane

1. एंटी-एजिंग हैं मखाने (Anti aging)- मखाने में मौजूद फ्लेवोनोइड्स (Flavonoids) एंटी-ऑक्सीडेंट गुण, मुक्त कणों से लड़कर उम्र बढ़ाने वाली प्रक्रिया की गति को कम करता है। यह गुण त्वचा पर अपना एंटी-एजिंग प्रभाव डालता है। यह झुर्रियों को दूर करने में मदद करता है और बालों को समय से पहले सफेद होने से रोकता है। जिससे आप अपनी वास्तविक उम्र से बहुत कम दिखते हैं। 

2. डायबिटीज में फायदेमंद (Diabetes)- मखाने का सेवन डायबिटीज के मरीजों को लिये भी फायदेमंद है। इसमें  रेसिस्टेंट स्टार्च में हाइपोग्लाइसेमिक (ब्लड शुगर को कम करने वाला) प्रभाव पाया जाता है जो बल्ड शुगर लैवल को नियन्त्रित करता है। डायबिटीज वालों के लिये मखाने की खीर (बिना चीनी वाली) सालम मिश्री का पाउडर डालकर खाना, बेहतर नाश्ता है।

ये भी पढ़े – कीवी खाने के फायदे

3. वजन कम करने के लिए (Lose weight)- मखाने का सेवन वजन कम करने के लिये भी मददगार हो सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में बताया गया है कि मखाना का एथेनॉल अर्क शरीर में फैट सेल्स को कम करके उन्हें नियंत्रित कर सकता है।  

4. ब्लड प्रेशर में लाभदायक (Blood Pressure)- मखाने में पोटेशियम की प्रचुर मात्रा होती है। यह रक्त के प्रवाह को संतुलित कर रक्त के दवाब को कम करता है।  इसमें पाया जाने वाला एल्कलॉइड हाइपरटेंशन की समस्या को नियंत्रित करता है जिससे उच्च रक्तचाप से राहत मिलती है। अतः उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिये मखाने का सेवन लाभकारी है।

5. हृदय के लिए (Heart)- दोस्तो, हमने देखा कि मखाने वजन कम करने में सहायक होते हैं, उच्च रक्तचाप और डायबिटीज को भी नियन्त्रित करते हैं इनका सीधा प्रभाव हमारे हृदय पर पड़ता है। अर्थात् परोक्ष रूप में मखाने हमारे हृदय के संभावित खतरे को दूर कर रक्षा करते हैं। एक शोध भी यही बताती है कि मखाने कार्डियोवस्कुलर रोग से बचाव कर सकते हैं।

6. अनिद्रा की समस्या में लाभदायक (Insomnia)- नींद ना आने की समस्या में उपचार के तौर पर मखाने का उपयोग किया जाता रहा है। यह प्राकृतिक शामक है जो बेचैनी, घबराहट आदि को दूर करता है। ब्लड सर्कुलेशन को सही रखता है, तन्त्रिकाओं में आराम मिलता है। रात को सोने से पहले गर्म दूध के साथ 6-7 मखाना खायें। आप रिलेक्स फील करेंगे और नींद अच्छी आयेगी। 

7. मसूड़ों के लिए फायदेमंद (Gums)- बैक्टीरियल प्रभाव के कारण दांतों में सड़न, मसूड़ों में ब्लीडिंग और सूजन हो जाती है। मखाने के एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-माइक्रोबियल गुण इस बैक्टीरियल प्रभाव को खत्म कर दांतों की सड़न और मसूड़ों की सूजन और ब्लीडिंग से छुटकारा दिलाते हैं।

8. गठिया के दर्द में आराम (Arthritis)- मखाने के पत्तों को पीसकर  दर्द वाले स्थान पर लगाने से गठिया, हाथ, पैरों आदि के दर्द में आराम आता है।

9. हाथ, पैरों की जलन में आराम (Burning of Hands, Feet)- कभी कभी हमारे हाथ, पैरों में जलन होती है। पैर के तलवों में से आग सी निकलती है। मखानों को दूध में डालकर पीने से जलन में आराम मिलेगा। 

10. दस्त में आराम (Diarrhea)- मखाने दस्त की समस्या से छुटकारा पाने का बेहतरीन विकल्प है। दस्त की समस्या चाहे सामान्य हो या क्रोनिक, मखाने इस समस्या से राहत दिलाते हैं। घी में भुने हुए मखानों के सेवन से दस्त में आराम लगेगा।  मखाने में उच्च मात्रा में कास्टिक गुण दस्त ठीक करने में और भूख बढ़ाने में मदद करते हैं।

11. शारीरिक कमजोरी दूर करे (Physical Weakness)- मखाने में पोषक तत्वों की प्रचुर मात्रा पायी जाती है जिनसे शारीरिक दुर्बलता खत्म होती है और शरीर को ऊर्जा मिलती है।   

12. प्रोटीन की कमी पूरा करे (Protein Deficiency)- मखानों के सेवन से शरीर में प्रोटीन की आवश्यकता पूरी होती रहती है जिससे प्रोटीन की कमी के कारण होने वाली समस्यायें नहीं होतीं। मखाने में 9।7 ग्राम प्रोटीन होता है।

13. गर्भावस्था में फायदेमंद (Pregnancy)- मखाने में आयरन, प्रोटीन, मैग्नीशियम और पाेटेशियम जैसे अनेक पोषक तत्व होते हैं जो गर्भावस्था के दौरान महिला और गर्भस्थ शिशु के स्वास्थ को बनाये रखते हैं। गर्भवती महिला में आयरन की कमी पूरी होती रहती है और कैल्शियम भ्रूण के विकास में मदद करता है।

14. प्रसव के बाद भी मखाने फायदेमंद (After Delivery)- मखाने में मौजूद अनेक पोषक तत्व प्रसव के बाद होने वाली कमजोरियों को दूर करने में मदद करते हैं। महिला को उसके भोजन में, पकवान में, दूध में दिये जा सकते हैं। मखाने प्रसव के बाद होने वाले दर्द को दूर करेंगे और महिला की कमजोरी दूर कर उसके स्वास्थ को बनाये रखेंगे।  

ये भी पढ़े – आड़ू खाने के फायदे और नुकसान

15. यौन समस्याओं में फायदेमंद (Sexual Problems)- मखानों के सेवन से यौन सम्बंधी अनेक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। मखानों में मौजूद कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, मिनरल, फैट, फॉस्फोरस जैसे पौष्टिक तत्व होते हैं जो कामोत्तेजना और कामशक्ति की क्षमता को बढ़ाते हैं। अनेक शोधों से यह प्रमाणित हो चुका है कि पुरुषों में नपुंसकता, और शुक्राणुओं की समस्या को खत्म करने में  मखाने बहुत फायदेमंद होते हैं। मखाने शीघ्रपतन जैसी समस्या को दूर कर शुक्राणुओं की गुणवत्ता में सुधार कर शुक्राणुओं की संख्या को भी बढ़ाते हैं। एक दिन में 20 से 30 ग्राम मखानों का सेवन किसी भी तरह किया जा सकता है।

मखाने खाने के नुकसान  – Side Effects of Makhane

1. यद्यपि मखाने के वैज्ञानिक आधार पर कोई side effect तो नहीं मिलते लेकिन बहुत ज्यादा खाने से पेट फूल सकता है, दर्द हो सकता है या गैस की समस्या हो सकती है।

2. किसी को एलर्जी हो सकती है। 

3. यदि किसी को पहले से ही कब्ज की शिकायत है तो उसे मखाने के सेवन से बचना चाहिये। अन्यथा कब्ज और बिगड़ सकती है।

Conclusion

दोस्तो, आज के लेख में हमने आपकोमखाने खाने के फायदे के बारे में जानकारी दी। मखाने के गुण, इसके सेवन के फायदे और अधिक मात्रा में सेवन के नुकसान भी बताये। आशा है आपको ये लेख अवश्य पसन्द आयेगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और  सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर करें। ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, हमारा आज का यह लेख आपको कैसा लगा, इस बारे में कृपया अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health- Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

error: Content is protected !!