दोस्तो, आपका स्वागत है हमारे ब्लॉग पर। इससे पहले कि हम आपको आज का टॉपिक बतायें, हिन्दी फिल्म का एक गाना याद आ रहा है, आपने भी सुना होगा “अपने होठों की बंसी बनाले मुझे मेरी सांसों में तेरी सांस घुल जाये। आरजू तो हमारी भी है ये मगर डर है मौसम कहीं ना बदल जाये”। दोस्तो, यदि सांसों में सांस की महक की जगह बदबू का ज़हर घुल जाये तो क्या होगा? आप सहज ही कल्पना कर सकते हैं कि अच्छा भला रोमान्टिक मूड और मौसम का सत्यानाश हो जायेगा और नजदीकी दूरी में बदल जायेगी। और दाम्पत्य जीवन में आ सकती है दरार। इस लिए हम आपको मुंह की बदबू हटाने के देसी उपाय के बारे में निचे विस्तार से बताने जा रहे है।

बस, यही है हमारा आज का टॉपिक मुंह की बदबू हटाने के देसी उपाय । इसी विषय पर आपको देंगे जानकारी। मुंह से बदबू आने के कारण सामाजिक जीवन में भी लोगबाग दूरियां बनाने लगते हैं। जिसके मुंह से बदबू आती है उससे मिलना तो दूर, कोई बात करने को भी राजी नहीं होता। सभी कतराने लगते हैं। कार्य स्थल पर भी वह अपने को अकेला ही महसूस करता है क्योंकि उसके साथी भी उसको Co-operate नहीं करते यहां तक कि उसके साथ कोई Lunch करना भी पसंद नहीं करता। 

दोस्तो, सबसे पहले जानते हैं दुर्गंध और सुगंध के बारे में क्योंकि सुगंध से भी होती है किसी किसी को एलर्जी।

मुंह की बदबू हटाने के देसी उपाय

1. दुर्गंध(Foul smell)- एक ऐसी गंध जो आपको बेचैन कर दे, आपको पसन्द ना आये, आपको एलर्जी हो सकती है जैसे कि किसी फूल, इत्र (Perfume), Body Spray की तेज गंध। लेकिन कुछ गंध ऐसी होती हैं जो सभी को बुरी लगती हैं वो होती हैं वास्तव में दुर्गंध जैसे कि:-

     (i)  कचरा सड़ने की गंध।

     (ii) पशु के मरने पर उसके सड़ने की गंध।

     (iii) शमशान में चिता जलने की गंध

     (iv) मल-मूत्र की गंध

     (v)  मुंह से आने वाली गंध जो दूसरे को परेशान कर दे।

2. सुगंध(Fragrance)- ऐसी गंध जो अधिकतर सभी को पसंद आये जैसे कि :-

     (i)   फूलों की गंध

     (ii)  बरसात में मिट्टी की सौंधी-सौंधी गंध

     (iii) भोजन व्यंजनों, फल, पेय पदार्थ  आदि की गंध

     (iv) पूजा-पाठ में घी, धूपबत्ती, अगरबत्ती, हवन सामग्री आदि की गंध

      (v) इत्र, Body Spray आदि की गंध।

मुंह की दुर्गंध – Bad Smell 

दोस्तो, अब जानते हैं कि मुंह की दुर्गंध क्या होती है? एक ऐसी गंध जो ना खुद को अच्छी लगे ना दूसरों को, उसे कहते हैं मुंह की दुर्गंध यानि बदबू। यह स्त्री, पुरुष किसी भी आयु वर्ग का हो किसी को भी हो सकती है। कई व्यक्ति जो ना तो धूम्रपान करते हैं, ना शराब आदि का कोई नशा, ना बीमार हैं और ना कोई दवाई ले रहे हैं फिर भी उनके मुंह से बदबू आती है। तो क्या है मुंह की बदबू का वैज्ञानिक आधार, जानते हैं इसके बारे में। 

मुंह की बदबू का वैज्ञानिक आधार – Scientific Basis of Bad Smell 

दोस्तो, Medical Term में मुंह की बदबू को हेलिटोसिस (Halitosis) कहा जाता है। हमारे मुंह में कुछ बैक्टीरिया हमेशा होते हैं। जब हम भोजन करते हैं तो भोजन के टुकड़े दांतों और मसूड़ों के बीच फंस जाते हैं। हमारे मुंह के बैक्टीरिया लार (सलाइवा) के साथ मिलकर भोजन और प्रोटीन को तोड़ने का काम करते हैं  इस क्रिया के करते समय जो गैस निकलती है वही मुंह की बदबू  कहलाती है। दूसरी बात ये कि रात को सोते समय थोड़ा बहुत मुंह सभी का सूखता है जिसके कारण लार के श्राव पर असर पड़ता है। लार की कमी से मुंह में और अधिक बैक्टीरिया पैदा होते हैं, जिनसे निरन्तर सल्फर कंपाउंड्स निकलते हैं जो मुंह से बदबू आने का कारण भी होते हैं। 

ये भी पढ़े- दांतों का पीलापन कैसे दूर करे

मुंह में बदबू होने के कारण – Cause of Bad Smell

दोस्तो, मुंह में बदबू होने के अनेक कारण हो सकते हैं। कुछ कारण निम्नलिखित हैं –

1 मुंह की साफ सफाई (Clean Mouth)- मुंह की बदबू का सबसे पहला और बड़ा तो यही है कि दांतों की, मसूड़ों की, जीभ की ठीक से सफाई ना करना या ब्रश ना करना, या बहुत जल्दबाजी में जल्दी जल्दी करना। यदि प्रतिदिन ब्रश ना किया जाये तो भोजन के टुकड़े दांतों में ही फंसे रह जाते हैं। ये बैक्टीरिया पैदा करते हैं और हाइड्रोजन सल्फाइड भाप बनाते हैं जिससे दांतों में सड़न पैदा हो जाती है और नतीजा मुंह की बदबू।  

2. दांतों की समस्या (Dental Problem)- यदि दांत, मसूड़ों की समस्या है तो जैसे दांतों में कैविटी, सड़न, मसूड़ों में जख्म, सूजन आदि है तो दुर्गंध की संभावना रहती है।

3. भोजन (Food)-  भोजन के टुकड़ों का दांतों और मसूड़ों के बीच फंसे रहना। सब्जियां, मसाले और पतले तैलीय पदार्थ वाला भोजन भी मुंह की बदबू के कारण बनते हैं। इस प्रकार का भोजन पचते समय तेज गंध वाला तेल खून के जरिये फेफड़ों तक पहुंचते हैं। जब तक यह भोजन पूरी तरह खत्म न हो तब तक सांसों में यह दुर्गंध के रूप में रहता है। प्याज और लहसुन की महक तो 72 घंटे बाद तक बनी रहती है। 

4. तंबाकू (Tobacco)- धूम्रपान करने से और तंबाकू वाले अन्य पदार्थों जैसे, खैनी, गुटका आदि के सेवन से मुंह और दांतों की बीमारियां पैदा होती हैं। इनके सेवन से मुंह  सूखता है और दुर्गंध पैदा होती है।  धूम्रपान करने वालों के मुंह से तो बदबू आती ही रहती है। बेशक ये कितनी भी, लौंग, इलायची, सौंफ आदि खायें बदबू इनके मुंह से जाती ही नहीं है।

5. मुंह सूखना (Dry mouth)- लार के कारण मुंह में नमी बनी रहती है जो बैक्टीरिया को कम करती है परन्तु जब मुंह की कोशिकाएं मरने लगें तो ये जीभ, मसूड़े और गालों के नीचे जमा होती हैं। इन मृत कोशिकाओं के जमा होने से मुंह में बदबू पैदा होती है। वैसा थोड़ा तो सोने पर भी मुंह सूखता है जिससे सुबह के समय हम खुद अपने मुंह में बदबू महसूस करते हैं।  

6. बीमारियां (Diseases)- कुछ बीमारियां भी मुंह में बदबू की वजह बनती हैं जैसे फेफड़े का संक्रमण, फेफड़े में गांठें, खराब पाचन क्रिया, कैंसर आदि।

7. नशा करना (To get drunk)- किसी भी प्रकार का नशा, चाहे वो शराब हो या ड्रग्स इनसे मुंह सूखता है जिसके परिणाम स्वरूप लार बहुत कम मात्रा में बनती है और बैक्टीरिया को पनपने का मौका मिलता है जो बदबू का कारण बनते हैं।

मुंह की बदबू हटाने के देसी उपाय –  Home Remedies to Remove Bad Smell

कुल्ला – निम्नलिखित वस्तुओं के प्रयोग कुल्ला करके मुंह की बदबू से छुटकारा पाया जा सकता है :-

1. नमक (Salt)- प्रतिदिन गुनगुने पानी में नमक मिलाकर कुल्ला करें। रात को भोजन करने के बाद भी इसी प्रकार कुल्ला करें। कुछ दिनों पश्चात बदबू खत्म हो जायेगी। 

2. नींबू (Lemon)- गुनगुने पानी में एक नींबू निचोड़ लें। चाहें तो इसमें थोड़ा सा नमक भी मिला सकते हैं। इस नींबू वाले गुनगुने पानी से प्रतिदिन सुबह, दोपहर और खाना खाने के बाद रात को कुल्ला करें। नींबू का एसिड मुंह में बैक्टीरिया को पनपने से रोकेगा। लेकिन जिनको दांतों में झनझनाहट (Sensitivity) की समस्या है वे इसका प्रयोग ना करें। 

3. अदरक (Ginger)- एक चम्मच अदरक का रस निकाल कर एक गिलास गुनगुने पानी में  मिलाकर रोजाना तीन चार बार कुल्ला करें। 

4. पुदीना (Mint)- पुदीना को पीसकर पानी में मिलाकर दिन में तीन चार बार कुल्ला करने से मुंह की बदबू की समस्या से छुटकारा मिलेगा। पुदीना के जीवाणुरोधी गुण मुंह में बैक्टीरिया को पनपने से रोकने में मदद करेगा।

5. अनार (Pomegranate)-  अनार के वृक्ष की छाल को पानी में उबाल लें। जब ये ठंडा हो जाये तो छान कर इस पानी से दिन में कई बार कुल्ला करें। अनार के पेड़ की छाल ना मिले तो अनार के छिलके को पानी में उबाल कर इससे कुल्ला कर सकते हैं। मुंह की बदबू धीरे धीरे कम होती जायेगी।

6. दालचीनी (Cinnamon)- दालचीनी को पीसकर पाउडर बनालें। एक चम्मच दालचीनी पाउडर पानी में मिलाकर 15 मिनट उबालें। ठंडा होने पर इस पानी से रोजाना 3-4 बार कुल्ला करें। खुशबू के लिये इसमें इलायची भी मिलाई जा सकती है। दालचीनी में सिनेमिक असेंशियल ऑयल होता है जो बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है।

7. टी ट्री ऑयल (Tea tree oil)- टी ट्री ऑयल मुंह में लार के बैक्टीरिया को समाप्त करने में सक्षम होता है। इस ऑयल को पानी में मिलाकर प्रतिदिन कुल्ला करें।

8. बेकिंग सोडा (Baking Soda)- एक चम्मच बेकिंग सोडा को पानी में घोल कर इससे, कम से कम 5 मिनट तक कुल्ला करें। मुंह की बदबू से राहत मिलेगी। बेकिंग सोडा की यह विशेषता होती है कि यह मुंह का पौटेंशियल ऑफ हाइड्रोजन संतुलित करता है। इसके असंतुलन से दांतों में कैविटी और मसूड़ों की कमजोरी की समस्या पैदा हो जाती है। 

अन्य – Others

9. पानी (Water)- जल जीवन का आधार है तो जल उपचार का भी आधार है। किसी भी औषधी का असर पूरी तरह से असर भी होता है जब पानी भी पर्याप्त मात्रा पीया जाये। वैसे भी प्रतिदिन दिन 8 से 10 गिलास पानी अवश्य पीना चाहिये। कम पानी पीने से भी मुंह में बदबू बन जाती है। रही बात भोजन की तो, भोजन करने से पहले पानी पीना चाहिये और भोजन करने के आधा घंटा बाद पानी पीना चाहिये। 

10. सौंफ (Anise)- खाना खाने के बाद सौंफ चबा-चबा कर खाइये। इससे मुंह में बदबू पैदा करने वाले बैक्टीरिया समाप्त होते हैं। सौंफ के रोगाणुरोधी (Antimicrobial) गुण ऐसे रोगाणु से लड़ते हैं जो मुंह में बदबू पैदा करते हैं। यह मुंह में बदबू पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मार देती है। सौंफ पाचनक्रिया दुरुस्त करती है जो मुंह में बदबू का बड़ा कारण है। सौंफ को दालचीनी और लौंग के साथ सेवन करने से ज्यादा फायदा होता है। 

11. ब्रश करना (Brushing)- दोस्तो, ब्रश तो सभी करते हैं लेकिन कितनी देर और कैसे? यह बात समझने वाली है। ब्रश पर पेस्ट लगाने से पहले ब्रश को अच्छी तरह साफ करलें। फिर इस पर कम मात्रा में पेस्ट लगायें। ज्यादा पेस्ट लगाने से ज्यादा झाग आते हैं जिससे ब्रश करने में परेशानी आती है। पहले पिछले दांतों के सामने वाले हिस्सों पर ब्रश करना शुरू करें। ब्रश करते समय 45° का कोण (Angle) होना चाहिए। यह कोण होंठ और ब्रश के बीच बनना चाहिये। ये वो जगह होती है जहां मसूड़े और दांत मिलते हैं और बैक्टीरिया भी इसी एंगल पर होते हैं। दांतों पर ब्रश जोर से ना रगड़ें बल्कि धीरे धीरे पूरे दांतों पर ब्रश करें। ब्रश कम से कम दो मिनट अवश्य करें। ब्रश प्रतिदिन दो बार यानि सुबह और रात को खाना खाने के बाद करें। ब्रश करने के बाद जीभ को भी साफ करें।   

12. जीभ साफ करें (Clean the Tongue)- जीभ में अनेक प्रकार के बैक्टीरिया पैदा होते हैं और इस पर भोजन की सफेद परत भी बन जाती है। ये दोनों मिलकर सांसों में बदबू पैदा करते हैं जिससे दांत की व अन्य समस्यायें भी हो जाती हैं। इसलिये जीभ को भी नियमित रूप से साफ करना अति आवश्यक है। जीभ साफ करने के लिये, हो सके तो कॉपर के टंग क्लीनर का इस्तेमाल करें बजाय प्लास्टिक वाले टंग क्लीनर के। क्योंकि कॉपर बैक्टीरिया-प्रतिरोधी धातु होती है। कॉपर के एंटीबैक्टीरियल गुण मुंह से टॉक्सिन को बाहर निकाल कर बैक्टीरिया को खत्म करते है। कॉपर के स्थान पर स्टेनलैस स्टील का टंग क्लीनर भी प्रयोग कर सकते हैं।  

13. बबूल या नीम (Acacia or neem)- बबूल या नीम का दातुन करने से दांत तो साफ होते ही हैं, इसके अतिरिक्त मुंह की बदबू भी दूर होती है। बबूल और नीम दोनों ही एंटीबैक्टीरियल होते हैं। इन दोनों के टूथपेस्ट भी मिलते हैं।  

14. टी ट्री ऑयल मिश्रित टूथपेस्ट (Tea tree oil mixed toothpaste)- टी ट्री ऑयल वाले पाने से कुल्ला करने के बारे में तो हम बता ही चुके हैं। बाजार में कुछ ऐसे टूथपेस्ट मिल जायेंगे जिनमें टी ट्री ऑयल मिक्स होता है। इस प्रकार के टूथपेस्ट से ब्रश करने के बाद टी ट्री ऑयल वाले पानी से कुल्ला कर सकते हैं।  

15. ग्रीन टी (Green Tea)- ग्रीन टी के एंटीबैक्टिरियल प्रभाव होते हैं जो मुंह के बैक्टीरिया को खत्म करती है। अतः ग्रीन टी का सेवन मुंह की बदबू से छुटकारा मिल जायेगा। यह मुंह की अन्य बीमारियों में भी फायदेमंद है।

ये भी पढ़े- पीलिया से छुटकारा पाने का देसी उपाय

16. मुलेठी (Muleti)-  मुलेठी के सेवन से भी मुंह की बदबू से छुटकारा पाया जा सकता है। रोजाना थोड़ी सी मुलेठी चबायें। दो छोटी इलायची भी मुलेठी के साथ मिलाकर चबा सकते हैं।

17. तुलसी (Basil)- तुलसी के पत्ते चबाने से मुंह की बदबू दूर हो जायेगी।  

18. लौंग (Cloves)- लौंग का सेवन मुंह की बदबू खत्म करने में लाभकारी होती है। लौंग में पाये जाने वाला एरोमेटिक ऑयल एंटी माइक्रोबाइल व एंटीसेप्टिक होता है। भोजन के पश्चात दो लौंग मुंह में रखकर चूसिये। या लौंग को हल्का भूनकर चबायें। या चार लौंग एक कप पानी में उबालकर ठंडा होने पर पीयें।  

19. पुदीना (Mint)- खाना खाने के बाद पुदीना चबाने से मुंह की दुर्गंध हो जायेगी।

20. धनिया (Coriander)- धनिया भी मुंह की बदबू भगाने का अच्छा विकल्प है। प्याज, लहसुन आदि की तेज गंध भी हरा धनिया चबाने से खत्म हो जाती है। सूखे धनिया को भी  माउथफ्रेशनर के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

21.  सेब का सिरका  (Apple vinegar) खाना खाने से पहले एक चम्मच सेब का सिरका पानी में मिलाकर पीयें। मुंह से बदबू नहीं आयेगी। सेब के सिरके में एसिड होता है जो बैक्टीरिया को बढ़ने नहीं देता। सिरका मिले पानी से भोजन के पश्चात कुल्ला भी कर सकते हैं। जिनको सेंसेटिविटी की समस्या है वे इसका उपयोग ना करें। 

22. अजवाइन (Celery)- अजवाइन लार को बढ़ाती है जिससे बैक्टीरिया नहीं बनते। इसे चबाने से मुंह की दुर्गंध से छुटकारा पा सकते हैं। अजवाइन को माउथवॉश के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिये आपको दो कप पानी में एक चम्मच पाउडर (अजवाइन पीसकर) मिलाकर उबालना होगा। 

23. मेथीदाना (Fenugreek)- मेथीदाना भी अजवायन की तरह मुंह में लार को बढ़ाती है और कैविटी पैदा करने वाले बैक्टीरिया को समाप्त करती है। एक चम्मच मेथीदाने को आधा लीटर पानी में उबालकर, ठंडा होने पर पीयें। निश्चित तौर पर मुंह की बदबू से राहत मिलेगी।

24. अमरूद की पत्तियां (Guava leaves)- अमरूद की कोमल पत्तियों को चबाने से भी मुंह की बदबू कम होती चली जायेगी। अमरूद खाने से मुंह से शराब की बदबू भी नहीं आती।

25. गुलाब की पंखुड़ी (Rose Petals)-  गुलाब की पंखुड़ियां भी मुंह की बदबू  दूर करने में मदद करती हैं। इसके लिये गुलाब की ताजी पंखुड़ियां चबायें और मसूढ़ों पर मलें।

Conclusion

दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको मुंह की बदबू हटाने के देसी उपाय के बारे में विस्तृत जानकारी दी। मुंह से आने वाली बदबू का क्या वैज्ञानिक आधार होता है, बदबू के क्या कारण होते हैं?  इसके बारे में बताया। और इस लेख के माध्यम से मुंह की बदबू से छुटकारा पाने के बहुत सारे देसी उपाय भी बताये। आशा है आपको ये लेख अवश्य पसन्द आयेगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और  सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर करें। ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, हमारा आज का यह लेख आपको कैसा लगा, इस बारे में कृपया अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health- Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer- यह लेख केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर उत्तरदायी नहीं है।  कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

error: Content is protected !!