Advertisements

दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। दोस्तो, आपने अक्सर गर्मियों में देखा होगा कि अचानक से किसी की नाक से खून आने लगता है। ये देखकर घबरा जाना स्वाभाविक है। कोई उसकी मदद के लिये उसे एक जगह छाया में बैठाता है, उससे पूछते हैं कि क्या हुआ तो वह बताता है कि बस अचानक से खून आना शुरु हो गया है कोई चोट आदि नहीं लगी है। यह सुनकर कुछ तसल्ली होती है कि चोट नहीं लगी है बल्कि ये नकसीर छूटी है और फिर उसके सिर पर पानी डालते हैं। थोड़ी देर में सिर ठंडा होने पर नाक से खून आना अपने आप बंद हो जाता है। ये नाक से अचानक खून आना क्या होता है, क्यों होता है और इसको रोकने के लिये क्या कर सकते हैं। दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक “नाक से खून को रोकने के घरेलू उपाय”

देसी हैल्थ क्लब इस आर्टिकल के माध्यम से आज आपको नाक से खून आने के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बतायेगा कि इसको रोकने के क्या उपाय हैं। तो, सबसे पहले जानते हैं कि नाक से खून आना क्या होता है और इसके कितने प्रकार हैं। फिर इसके बाद बाकी बिन्दुओं पर जानकारी देंगे।

Advertisements
नाक से खून को रोकने के घरेलू उपाय
Advertisements

नाक से खून आना क्या होता है? – What are Nose Bleeds?

दोस्तो, अचानक नाक से खून आने को प्रचलित भाषा में नकसीर फूटना कहा जाता है। इसे नकसीर छूटना या नक्की छूटना भी कहा जाता है। इस समस्या का अधिकतर गर्मी के मौसम में होना एक बात है। यह समस्या ज्यादा गंभीर नहीं होती है। कुछ उपाय अपनाने से थोड़ी देर में खून आना बंद हो जाता है। यह समस्या केवल गर्मी के मौसम में ही नहीं बल्कि सर्दी के मौसम में भी हो जाती है लेकिन ऐसा बहुत कम होता है। यह नकसीर की समस्या अधिकतर शुष्क हवाओं द्वारा नाक की रक्तवाहिकाओं के क्षतिग्रस्त होने के कारण होती है। नाक पर चोट लगना, एलर्जी, साइनस आदि और भी इसके कारण होते हैं जिनका जिक्र हम आगे करेंगे। आमतौर पर, नाक से खून आने की समस्या 2 से 10 वर्ष की उम्र के बच्चों और 50 से 80 वर्ष के व्यक्तियों में होती हैं। व्यस्कों के साथ यह समस्या बहुत कम होती है। 

नकसीर के प्रकार – Type of Nosebleed 

नाक से खून दो जगह से आता है, या तो आगे से आयेगा या नाक के पीछे वाले हिस्से से। इसी आधार पर इसे दो भागों में बांटा गया है। विवरण निम्न प्रकार है –

1. एंटीरीयर नकसीर (Anterior Hemorrhage)- नाक के आगे वाले हिस्से से खून आने को एंटीरीयर नकसीर कहा गया है। आमतौर पर इसमें नाक के सेप्टम की रक्त वाहिका से खून बहता है। इस स्थिति को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। ज्यादातर यह घर पर ही ठीक हो जाती है। 

Advertisements

2. पोस्टिरीयर नकसीर (Posterior Hemorrhage)- यह दुर्लभ मामलों में होता है। इसमें खून नाक के पिछले हिस्से से आता है। नाक के पिछले हिस्से की नसों से खून बहना अत्यंत गंभीर माना जाता है। इसमें मरीज को अस्पताल में भर्ती करवाने की जरूरत होती है। नाक, कान और गला विशेषज्ञ (ईएनटी स्पेशलिस्ट) द्वारा इसका उपचार किया जाता हैं। यह समस्या अधिकतर बुजुर्गों के साथ होती है। 

गर्मी में नाक से खून आने के कारण – Causes of Nose Bleeding in Summer

1. गर्मी के मौसम में नाक से खून आना एक आम समस्या है। शुष्क यानी गर्म हवा का नाक के अंदर जाने से नाक की झिल्ली सूख जाती है और रक्त वाहिकाऐं फट जाती हैं। इस स्थिति में नाक से रक्तस्राव होने लगता है।

2.  नाक के अंदर सूखा बलगम फंस जाने के कारण भी रक्त वाहिकाओं के फटने से नाक से खून आ जाता है।

3.  जहां तक नाक के साथ छेड़छाड़ करने वाली बात है तो इसमें किसी नुकीली वस्तु से नाक कुरेदना, ऊंगली डालना, या केंची से नाक के बाल काटना आदि शामिल हैं। इनकी वजह से नाक की रक्त वाहिकाऐं चोटिल हो सकती हैं। 

सर्दी में नाक से खून आने के कारण – Causes of Nose Bleeding in Summer

1. सर्दी के मौसम में भी शुष्क हवा नाक में प्रवेश करके नासिका मार्ग को एकदम सुखा देती है जिससे नाक के अंदर की त्वचा में पपड़ी जम जाती है और यह क्रैक हो जाती है। रक्तवाहिकाऐं भी शुष्कता के कारण फट जाती हैं। परिणामस्वरूप नाक से खून आने लगता है। सर्दियों में हवा के अंदर की नमी को सुखाने के जिम्मेदार वो लोग होते हैं जो कमरे के अंदर ब्लोअर, रूम हीटर आदि चलाये रखते हैं। इससे कमरे की हवा में नमी खत्म हो जाती है। 

2. नाक के साथ छेड़छाड़ के बारे में तो हमने ऊपर बता ही दिया है, तो यह छेड़छाड़ किसी भी मौसम में की जा सकती है। छेड़छाड़ की वजह से रक्त वाहिकाओं के क्षतिग्रस्त होने से नाक से खून आने लगता है।

3. सर्दी में एलर्जी के कारण भी रक्तस्राव होने लगता है। एलर्जी जैसे कि लगातार छींक आना, आंखों से पानी आना, नाक में खुजली होना आदि के कारण खून बहने लगता है। नाक को अंदर, बाहर से मसलने, रगड़ने से अंदर की रक्त वाहिकाऐं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। 

4. मैदानी क्षेत्र में रहने वाले लोग यदि पहाड़ी क्षेत्र में, जहां तापमान माइनस डिग्री पर रहता है, जाते हैं तो उनके साथ नकसीर की समस्या होनी स्वाभाविक है। 

नाक से खून आने के अन्य कारण – Other Causes of Nosebleeds

1. साइनस में सूजन आ जाना।

ये भी पढ़े- साइनस का घरेलू उपाय

2. एस्पिरिन दवा) का उपयोग।

3. खून का पतला करने वाली दवाओं का उपयोग।

4. हेमोफिलिया यानी रक्त जमने में दिक्कत होना।

5. नाक का लगातार बहना।

6. नाक की स्प्रे का बहुत अधिक उपयोग करना।

7. नाक में गंभीर चोट लगना।

8. नाक में ट्यूमर होना।

9. नाक का मांस बढ़ना।

10. अधिक शराब पीना।

नाक से खून आने के लक्षण – Nose Bleed Symptoms 

नाक से खून आने के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं –

1. नाक से खून बहना यह मुख्य लक्षण है। खून का बहाव कम भी हो सकता है या ज्यादा भी। 

2. नक के एक नथुने से खून आ सकता है और दोनों से भी।

3. खून के गले में चले जाने से उल्टी भी सकती है। 

4. दिल की धड़कन अनियमित हो सकती है। 

5. सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।

6. त्वचा का रंग पीला पड़ सकता है। 

नाक से खून आने का परीक्षण – Nose Bleed Test 

1. सबसे पहले डॉक्टर मरीज की पिछली मेडिकल हिस्ट्री के बारे में जानकारी लेते हैं और वर्तमान स्वास्थ की स्थिति का पता करते हैं।

2. डॉक्टर रक्तस्राव के कारणों का पता लगाने के साथ-साथ यह भी पता लगाते हैं कि रक्त नाक के अगले हिस्से से बह रहा है या पिछले हिस्से से।  

3. डॉक्टर नाक के अंदर सुन्न करने वाली दवा डालते हैं, फिर उस जगह की रक्त वाहिकाओं पर दबाव डालते हैं। फिर एक उपकरण को नाक में डालकर नाक के आंतरिक क्षेत्र को देखते हैं ताकि खून आने की वजह का पता चल सके।

4. नाक के अगले हिस्से में रक्तस्राव का स्रोत ना मिलने पर पिछले हिस्से की जांच की जा सकती है।

5. ज्यादा खून बहने की स्थिति में कंप्लीट ब्लड काउंट टेस्ट किया जा सकता है।

6. गंभीर समस्या की स्थिति में नाक की एंडोस्कोपी की जा सकती है।

7. खोपड़ी और साइनस का एक्स-रे किया जा सकता है।

8. नाक और साइनस का सीटी स्कैन किया जा सकता है।

डॉक्टरी उपचार – Medical Treatment

नाक के पिछले हिस्से से अपने आप खून बहना बंद ना होने की स्थिति में अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ सकती है। डॉक्टर खून बंद करने के लिये अपना सकते हैं निम्नलिखित उपाय –

1. दवाओं में बदलाव (Change in Medicine)- यदि मरीज रक्त पतला करने की दवा ले रहा है तो इन दवाओं की मात्रा को कम करने की सलाह दी जा सकती है या इनको पूरी तरह बंद करने को कहा जा सकता है। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने वाली दवाओं को कुछ परिवर्तन के साथ जारी रखने को कहा जा सकता है। 

2. नाक की पैकिंग (Nasal Packing) – इस प्रक्रिया के अंतर्गत डॉक्टर रिबन के गौज (gauze) या विशेष नाक के स्पंज को जितना संभव हो मरीज की नाक में डालते हैं ताकि रक्तस्राव के स्रोत पर दबाव पड़े और खून बहना बंद हो जाये। 

3. दागना (Cauterization) – लगातार या बार-बार होने वाली नकसीर की समस्या को रोकने के लिये इस प्रक्रिया को अपनाया जाता है। इसमें डॉक्टर एक प्रकार के हीटिंग डिवाइस या सिल्वर नाइट्रेट के माध्यम से नाक में मौजूद रक्त वाहिकाओं को जलाते हैं। सिल्वर नाइट्रेट ऊतकों को हटाने के लिये उपयोग किया जाने वाला एक प्रकार का यौगिक होता है। 

4. सेप्टल सर्जरी (Septal Surgery) – डॉक्टर इस सर्जिकल प्रक्रिया के द्वारा टेढ़ी या मुढ़ी हुई सेप्टम (दोनों नाक के चैनलों के बीच की दीवार) को सीधा करते हैं। सेप्टम जन्म से या किसी चोट के कारण असामान्य हो सकती है। 

5. बांधना (Ligation) – यह भी एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमें उन रक्त वाहिकाओं को बांध दिया जाता है जो रक्तस्राव का कारण होती हैं। इस प्रक्रिया में कभी-कभी धमनी, जिसमें से रक्त वाहिकाएं निकलती है को भी बांधना पड़ता है। 

6. अन्य (Others)- नाक की हड्डी टूट जाने की स्थिति को ठीक करने के लिये या नाक की हड्डी की समस्याओं को ठीक करने के लिये भी सर्जरी की जाती है। 

नाक से खून आने पर क्या करें? – What to do if Your Nose Bleeds?

नाक से खून आने की स्थिति में निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें ताकि स्थिति और ना   बिगड़े –

1. नाक से खून आने पर घबराना नहीं चाहिये, शांत रहें, ऊल-जलूल कुछ ना सोचें। 

2. आप यह समझें कि यह कोई गंभीर समस्या नहीं है, थोड़ी देर में रक्त बहना अपने आप बंद हो जायेगा। इससे आपका मनोबल बना रहेगा। 

3. छाया में एक तरफ आराम से इस प्रकार सीधे बैठ जायें जिससे सिर हृदय से ऊपर रहे। इससे ब्लड प्रेशर कम होगा और खून जल्दी बंद हो जायेगा।

4. नाक को ना सिनकें (इससे अंदर घाव हो सकता है), ना रगड़ें और ना दबायें।

5. नाक के बहते खून को किसी टिशु पेपर या साफ़ रुमाल की मदद से बाहर की तरफ से ही साफ़ करें। अंदर  से साफ़ करने की कोशिश ना करें, अन्यथा नाक अंदर से छिल जायेगी।

6. मुंह से सांस लें। नाक की हड्डी को ऊपर की ओर फैलायें, इससे खून रुकने में मदद मिलेगी। 

7. साइनस और गले में खून ना जाये इसके लिये आगे की तरफ झुकें।

8. नाक पर दबाव डालते रहें और आगे की तरफ झुकते रहें। 

9. बर्फ़ के टुकड़े किसी साफ़ कपड़े में रखकर सूंघते रहें। इससे थोड़ी देर में नाक से खून आना बंद हो जायेगा।

10. यदि 30 मिनट तक खून बंद नहीं होता है तो डॉक्टर के पास जायें।

नाक से खून को रोकने के घरेलू उपाय – Home Remedies to Stop Nose Bleeds

दोस्तो, अब बताते हैं आपको कुछ निम्नलिखित घरेलू उपाय जिनको अपना कर नाक से खून आने पर रोक सकते हैं –

1. बर्फ़ की सिकाई (Ice Training)- बर्फ़ की ठंडक से खून के थक्के जल्दी बन जाते हैं, इसलिये आमतौर पर शरीर के किसी भी अंग से खून निकले, वहां बर्फ़ लगा दी जाती है या एकदम चिल्ड वाटर की पट्टी भिगोकर रख दी जाती है। इससे खून बहुत जल्दी बंद हो जाता है। रही बात नाक से खून बहने की तो बर्फ़ के टुकड़े नाक पर जहां से खून आ रहा है, रखें और हल्का सा प्रेशर डालें ताकि ठंडक नाक के अंदर जाये। बहुत जल्दी नाक से खून आना बंद हो जायेगा। 

2. नमक का पानी (Salt Water)- नाक से बहते खून को रोकने के लिये नमक का पानी एक अच्छा विकल्प है। आधा कप पानी में छोटी धी चम्मच नमक मिलाकर इसकी बूंदें नाक में डालनी हैं, इससे नाक के अंदर की झिल्ली नम हो जायेगी और थोड़ी देर में नाक से खून आना बंद हो जायेगा। नमक के पानी में छोटी आधी चम्मच बेकिंग सोडा भी मिला सकते हैं। नाक में इस पानी की बूंदें डालने के बाद मरीज का सिर झुका होना चाहिये ताकि यह पानी बाहर निकल सके। 

3. सेब का सिरका (Apple Vinegar)- सेब के सिरके में रक्‍त वाहिकाओं को संकुचित करने का गुण होता है जिससे रक्तस्राव के रुकने में मदद मिलती है। एक चम्मच सेब के सिरके में रुई डुबोकर नाक के नथुनों में रखें और बाहर की तरफ भी लगा दें। 4-5 मिनट बाद खून बहना बंद हो जायेगा।

4. विटामिन-ई कैप्सूल (Vitamin E Capsule)- विटामिन-ई कैप्सूल का इस्तेमाल अक्सर सौंदर्यकरण के लिये किया जाता है जैसे बालों और चेहरे की सुन्दरता को निखारने के लिये। इसका उपयोग नाक से बहते खून को रोकने के लिये भी किया जा सकता है। इसके लिये विटामिन-ई कैप्सूल लेकर किसी कप या कटोरी में इसका तेल निकाल लें। इस तेल को रुई की मदद से नाक के अंदर लगायें और मरीज को बिस्तर पर लिटा दें। जब भी नाक ड्राई लगे तभी इस तेल को नाक के अंदर लगायें। इससे नाक की झिल्ली मॉइस्चराइज होगी और नाक के अंदर की त्वचा में नमी बनी रहेगी। नाक से खून निकलना भी बंद हो जायेगा। 

5. प्‍याज (Onion)- नाक से आते हुऐ खून को रोकने के लिये प्याज एक अच्छा उपाय है। इसका उपयोग चीनी चिकित्‍सा पद्धति में भी किया जाता है। नाक के खून को रोकने के लिये प्याज को काट कर मिक्सी में ब्लेंड करके इसका रस निकाल लें। इस रस में रुई डुबोकर नाक के नीचे नथुनों पर रख दें ताकि इसकी गंध अंदर नाक में जाये। इसकी गंध से बहता हुआ खून रुक जायेगा। इसकी गंध रक्त के थक्के बनाने में मदद करती है जिससे रक्तस्राव रुक जाता है। 

6. हरा धनिया (Green Coriander)- नकसीर को रोकने के लिये हरा धनिया भी कारगर उपाय है। धनिया की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को मरीज के माथे पर लगायें, इससे माथे को ठंडक मिलेगी और रकतस्राव जल्दी रुक जायेगा। हरा धनिया पर विस्तृत जानकारी के लिये हमारा पिछला आर्टिकल “हरा धनिया खाने के फायदे” पढ़ें। 

7. तुलसी (Basil)- तुलसी अनेक रोगों के उपचार में काम आती है। नाक से बहते खून को रोकने के लिये यह उत्तम उपाय है। नाक से खून बहने की स्थिति में तुलसी की 4, 5 पत्तियों को धीरे धीरे चबायें। थोड़ी देर में ही नाक से खून बहना बंद हो जाएगा।

8. बिच्छू बूटी (Nettle Leaf) –  बिच्छू बूटी प्राकृतिक एस्ट्रिंजेंट और हीमोस्‍टेटिक एजेंट से युक्‍त होती है जो एलर्जी से नाक से रक्तस्राव के उपचार में सक्षम होती है। बिच्छू बूटी के पत्तों को एक कप गर्म पानी डालें। इस पानी के ठंडा हो जाने पर इसमें कॉटन पैड डुबोकर नाक पर लगायें। खून बहना बंद हो जायेगा। 

कुछ अन्य उपाय – Some other Solutions

1. सुहागा – सुहागा पानी में घोलकर नथुनों पर लगायें। इससे नाक से खून आना बंद हो जायेगा।

2. सेब का मुरब्बा – सेब के मुरब्बे में इलायची डालकर खाने से नाक से खून आना बंद हो जाता है।  

3. गुलकंद – 15-20 ग्राम गुलकंद लेकर सुबह-शाम दूध के साथ खायें। इससे पुरानी नकसीर का रोग भी ठीक हो जायेगा। 

4. बेल के पत्ते – बेल के पत्तों को पानी में उबालकर इसमें मिश्री या बताशा मिलाकर पीयें।

5. मुलतानी मिट्टी – रात को आधा लीटर पानी में एक बड़ी चम्मच मुलतानी मिट्टी भिगो दें। सुबह इस पानी को छानकर पीयें। नकसीर की समस्या समाप्त हो जायेगी। मुल्तानी मिट्टी पर विस्तार से जानकारी के लिये हमारा पिछला आर्टिकल “मुल्तानी मिट्टी के फायदे” पढ़ें।

Conclusion – 

दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको नाक से खून को रोकने के घरेलू उपाय के बारे में विस्तार से जानकारी दी। नाक से खून आना क्या होता है, नकसीर के प्रकार, गर्मी में नाक से खून आने के कारण, सर्दी में नाक से खून आने के कारण, नाक से खून आने के अन्य कारण, नाक से खून आने के लक्षण, नाक से खून आने का परीक्षण, डॉक्टरी उपचार और नाक से खून आने पर क्या करें, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस आर्टिकल के माध्यम से नाक से बहते खून को रोकने के  बहुत सारे घरेलू उपाय बताये और कुछ अन्य उपाय भी बताये। आशा है आपको ये आर्टिकल अवश्य पसन्द आयेगा। 

दोस्तो, इस आर्टिकल से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो आर्टिकल के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह आर्टिकल केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
नाक से खून को रोकने के घरेलू उपाय
Article Name
नाक से खून को रोकने के घरेलू उपाय
Description
दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको नाक से खून को रोकने के घरेलू उपाय के बारे में विस्तार से जानकारी दी। नाक से खून आना क्या होता है, नकसीर के प्रकार, गर्मी में नाक से खून आने के कारण, सर्दी में नाक से खून आने के कारण, नाक से खून आने के अन्य कारण, नाक से खून आने के लक्षण, नाक से खून आने का परीक्षण, डॉक्टरी उपचार और नाक से खून आने पर क्या करें, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo