हेल्लो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में यूरिन से सम्बंधित जैसे- यूरिन इंफेक्शन, यूरिन करते समय जलन या दर्द के बारे में बात करेंगे,और जानेंगे की कैसे देसी इलाज से यूरिन इंफेक्शन ठीक किया जा सकता है। मॉर्डन लाइफस्टाइल के कारण आजकल युरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन(UTI) इंफेक्शन या दर्द काफी आम समस्या बन गया है।  इसके पीछे एक बड़ा कारण गंदे पब्लिक टॉयलेट इस्तेमाल करना भी है।  हालांकि यह रोग खतरनाक तो नहीं है लेकिन समय रहते इसका इलाज नहीं किया गया तो यह किडनी पर बुरा असर डाल सकता है। वहीं दूसरी तरफ अगर घर के टॉयलेट की नियमित रूप से सफाई न हो तो भी ये रोग आपको अपना शिकार बना सकता है। Urine में जलन और दर्द का देसी इलाज क्या है।

यूरिन में जलन और दर्द का देसी इलाज

कभी-कभी तो यह थोड़े समय के लिए होती है लेकिन कभी-कभी यह महीने तक चल जाती है। यह बीमारी किसी को भी हो सकती है। जब कोई व्यक्ति बहुत अधिक गरम और अम्लीय वस्तुओं का सेवन करता है तो उस व्यक्ति के पेशाब में जलन होने लगती है। यूरीन इन्फेक्शन वाले परेशान रोगी को घर में बैठने पर भी बहुत परेशानी हो सकती है। ऐसे तो ये समस्‍या कुछ दवाएं जैसे की एंटीबायोटिक लेने से ठीक भी हो जाती है। लेकिन इसके लिए हम कुछ घरेलू उपाय भी अपना सकते है जो की बहुत असरदार होते है।

Read:- खांसी-जुकाम का देसी इलाज क्या है

यूरिन इन्फेक्शन के कारण (Causes of Urine Infection):- 

  हालांकि मूत्रमार्ग में इन्फेक्शन होने की संभावना महिलाओं में ज़्यादा होती है, पुरुषों को भी यह हो सकता है।  अक्सर इस इन्फेक्शन के कारण लोगों को पेशाब में जलन महसूस होता है। मूत्रमार्ग में इन्फेक्शन तब हो जाता है जब मूत्रमार्ग के किसी हिस्से में बैक्टीरिया इकट्ठा हो जाता है। अगर ये बैक्टीरिया मूत्रनाली (Urethra) में उत्पन्न हो जाए तो वहाँ सूजन और जलन पैदा कर सकता है।  इस स्तिथि को यूरेथ्राइटिस (Urethritis) कहते है।  अगर ये बैक्टीरिया ब्लैडर तक पहुँच जाए तो वह भी सूजन और जलन का कारण बन सकता है।  इसको सिस्टाइटिस (Cystisis) कहते है।

“परन्तु सिस्टाइटिस होने की संभावना पुरुषों में काफ़ी कम होती है क्योंकि पुरुषों की मूत्रनली बहार की तरफ होती है जो बैक्टीरिया को ब्लैडर तक पहुँचने ही नहीं देता |” प्रोस्टेट में भी इन्फेक्शन उत्पन्न हो जाता है जब बैक्टीरिया ब्लैडर के द्वारा प्रोस्टेट ग्रंथि तक पहुँच जाता है | इसको प्रोस्टाइटिस (Prostatitis) कहते है |

पेशाब में जलन के अलावा दूसरे लक्षण जो मूत्रमार्ग में इन्फेक्शन होने पर दिखाई देते हैं, वह हैं  –

1. बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना
2. गाढ़ा पेशाब निकलना (cloudy urine) और उससे भारी गंध आना
3. कभी-कभी पेशाब में रक्त आना (blood in urine)

यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण (Symptoms of Urine Infection):- 

1. पेशाब करते समय जलन या दर्द होना।
2. बार बार पेशाब आना।
3. पेशाब का रंग गहरा होना।
4. पेशाब में से अधिक बदबू आना ।
5. गुप्त अंगो में खाज खुजली होना।
6. कमर से नीचे वाले हिसशे में pain होना।
7. Urine में ब्लड आना।
8. पानी कम पीना।
9. गर्भावस्था के दौरान मूत्राशय या इन्फ़ैकशन होना।
10. साफ सफाई का ध्यान ना रखना।

पचास के बाद पुरुषों को होता है खतरा

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को यह बीमारी ज्यादा होती है, क्योंकि महिलाओं के शरीर का भीतरी ढांचा ऐसा होता है कि उसमें यह संक्रमण तेजी से फैल जाता है।  50 साल से कम आयु के पुरुषों में यह बीमारी बहुत कम होती है।  ज्यादा उम्र के पुरुषों को यह बीमारी प्रोस्टेट ग्रंथि के बड़ा होने, डाइबिटीज, एचआईवी या फिर युरिनरी ट्रैक्ट में स्टोन होने के कारण होती है।  इस तरह की बीमारियों से ग्रस्त लोगों को विशेष तौर पर सावधान रहना चाहिए।

Urine में जलन और दर्द का देसी इलाज

तो दोस्तों अभी तक आपने जाना है की यूरिन इन्फेक्शन के क्या कारण होते है। और इसके क्या लक्षण होते है जिससे की आप इसे पहचान पाए। लेकिन अब हम यहाँ जानेगे की Urine में जलन और दर्द का देसी इलाज क्या है जिससे आप इसको बिना किसी डॉक्टर के पास जाये घर पर ही ठीक कर सकते हो। तो चलिए जानते है।

1. नींबू (Lemon)

पेशाब के दौरान जलन व दर्द की समस्या से छुटकारा पाने के लिए नींबू बहुत असरदार है। आपको करना बस इतना है कि सुबह-सुबह खाली पेट एक गिलास गर्म पानी करना है ध्यान रहे पानी गुनगुन हो। इस पानी में आप एक नींबू निचोड़े और उसमें थोड़ा सा शहद डालें। इसे रोजाना पीने से आपको इस समस्या में राहत मिलेगी।

2. पालक(Spinach):-

लगभग  50 ग्राम पालक के रस को 100 ग्राम  नारियल के पानी में मिलाकर पीने से रुक-रुक कर आने वाले पेशाब और जलन में लाभ मिलता हैं।

3. तुलसी की पत्ती (Basil leaf):-

पांच या छ: पत्तियां तुलसी की सुबह शाम खाली पेट चबा-कर खाने से भी यूरिन में हो रही जलन की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता हैं।

4. शुद्ध पानी का उपयोग(Use of pure water) :-

गर्मी के समय दूषित पानी पीने तथा पानी की शरीर में कमी होने के कारण पेशाब का रंग पीला पड़ जाता और पेशाब की नली में जलन होने लगती हैं. इस समस्या से बचने के लिए अधिक से अधिक फिल्टर पानी (Filter Water) को पीने में उपयोग करे अगर फिल्टर वाटर नहीं मिलता हैं तो पानी को अच्छी तरह उबाल कर हर घंटे एक-एक गिलास पीये जिससे ब्लैडर (Bladder)  में जमा बैक्टीरिया (Bacteria) पेशाब के रास्ते निकल जाते हैं और पेशाब करते समय होने वाले जलन और दर्द से आराम मिलता हैं. बार-बार पेशाब आने से शरीर में होने वाली पानी की कमी से भी निजात मिलता हैं।

5. आंवला(Gooseberry):- 

यूरिन जलन में आंवला भी काफी फायदेमंद होता हैं आंवला में विटामिन सी की भरपूर मात्रा पायी जाती हैं जो मूत्राशय (Bladder) मार्ग में हो रही जलन पैदा करने वाले बैक्‍टीरिया (Bacteria) को ख़त्म करता हैं।

6. नारियल पानी (Coconut Water):-

नारियल के पानी (Coconut Drink)में थोडा सा गुड और धनिया पाउडर को मिक्स करके पीये इससे जलन और दर्द की समस्या में लाभ मिलेगा।

7. हल्दी(Turmeric):-

 हल्दी (Turmeric) के अंदर कई औषधीय गुणों के भण्डार पाए जाते हैं, हल्दी भी इस जलन की समस्या में काम आता हैं क्युकि हल्दी प्राक्रतिक रूप से एंटीसेप्टिक (Antiseptic) और जीवाणुरोधी  होती हैं. पिसी हुई हल्दी ठन्डे दूध के साथ एक-एक चम्मच सुबह शाम लेने से ब्लैडर में जमा बैक्टेरिया को पेशाब के रास्ते बाहर निकाल देता हैं।

8. बादाम और इलायची(Almonds and Cardamom):-

पाँच गिरी बादाम की और 6 या 7 पीस इलायची को कुछ दाने मिश्री के मिला कर चूर्ण बना ले और उस चूर्ण को पानी में मिला कर पीये इससे पेशाब में होने वाली जलन और दर्द में जल्द आराम मिलेगा।

9. बेकिंग सोडा(Baking Soda):-

बेकिंग सोडा के अंदर जीवाणुरोधी रोधी, एंटी-सेप्टिक तत्व भी पाए जाते हैं।  अगर एक चम्मच बेकिंग सोडा को एक गिलास पानी में मिला कर पीते हैं तो, हमारी सबसे पहले एसिडिटी दूर होती है और साथ ही पेशाब में हो रही जलन भी ठीक होती हैं।

10. गेंहू(Wheat):-

लगभग एक मुट्ठी गेंहू को रात्री के समय पानी में भिगो कर रख दे और सुबह गेंहू के पानी को साफ़ कपडे से छान ले एक गिलास में और उसमे स्वादनुसार मिश्री को मिला दे और उसे पीये इससे जलन में काफी आराम मिलेगा।

11. ककड़ी(cucumber):- 

ककड़ी को भी इस बीमारी में सबसे उपयोगी माना गया हैं क्युकि यह ठंडा और पाचक होता हैं।   इसमे खीरे (Cucumber) से भी ज्यादा मात्रा में पानी पाया जाता हैं जिसके कारण पेशाब खुल कर आता हैं, और पेट में जमा बैक्टीरिया (Bacteria) मूत्र मार्ग के द्वारा बाहर आ जाते हैं।  और पेशाब में होने वाली जलन में राहत मिलती हैं।

12. फलों का सेवन(Fruit Intake):- 

पेशाब में हो रहे जलन में राहत पाने के लिए हमें सबसे ज्यादा विटामिन सी (Vitamin C) से भरपूर फलों का खाने में उपयोग करना चाहिए. विटामिन सी से भरपूर फलो में  यूरिन (Urine) के अंदर इंफैक्शन (Infection) पैदा करने वाले बैक्‍टीरिया (Bacteria) को मारता है।  और मूत्र के द्वारा उसे बहार निकाल देता हैं।

1. नींबू,
2. सेव
3. मौसमी
4. अनार
5. फालसा

Conclusion

इस समस्या में हमें कुछ बातो का जरुर ध्यान देना चाहिए जैसे चाय-कॉफी और शराब,  धूम्रपान, दूसरे नशीले पदार्थों का उपयोग ना करे।  गर्म तासीर वाले भोजन से बचे, अधिक जले-भुने और तेज मसाले का अपने खाने में उपयोग ना करे।   पेशाब आने पर उसे रोके ना। अगर आपको ज्यादा ही परेशानी हो रही है तो आप एक बार डॉक्टर से जरूर मिल ले।

यदि आपको हमारे द्वारा बताये गए जानकारी Urine में जलन और दर्द का देसी इलाज क्या है अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को दुसरो के साथ शेयर भी कर सकते हो। इस पोस्ट को पढ़ने के लिए बहोत धन्यवाद है। आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमे कमेंट करके पूछ सकते हो हम उसका उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!