Advertisements

हेलो दोस्तों आज हम बात करेंगे खांसी-जुकाम के देसी इलाज के बारे में, की कैसे देसी इलाज से खांसी-जुकाम ठीक किया जा सकता है, तो आइये जानते है। मौसम बदल रहा है और लोगों में बीमारियां घर कर रही हैं।  जुखाम-खांसी नाम से तो छोटे लगते हैं और सुनने में भी लेकिन इम्यूनिटी पर भारी असर डालते हैं।  इसके कारण लोगों में बुखार की शिकायत रहती है।  जो ठीक होने में कम से कम तीन से चार दिन तक ले लेता है।

Advertisements
खांसी-जुकाम का देसी इलाज
Advertisements

आज हम आपको दो ऐसे यूट्यूबर्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो सूखी खांसी तक का इलाज आपको देसी नुस्खों से बताने जा रहे हैं।  ये ऐसे नुस्खे हैं जिन्हें आप घर पर आसानी से तैयार कर इस्तेमाल में ला सकते हैं।  पुरानी से पुरानी खांसी तक इनसे ठीक कर सकते हैं।  इम्यूनिटी भी बनी रहेगी और आप स्वस्थ भी रहेंगे।

खांसी के कारण (Due to cough):-

खांसी कई कारणों से हो सकती है। फिर वह चाहे सूखी खांसी हो या गीली या बलगम वाली खांसी। सबसे बड़ी बात यह है कि अगर आपने खांसी का इलाज जल्द से जल्द नहीं किया तो आपके आस-पास के लोगों को भी खांसी की परेशानी से गुजरना पड़ सकता है। खांसी होने के कारण कई सारे हो सकते हैं जैसे की-

1. मौसम के बदलने से
2. धूम्रपान करने
3. दमा जैसी बीमारी होने
4. धूल-मिट्टी के संपर्क में रहने से
5. ठंडी चीजों का सेवन करने से
6. टॉन्सिल के संक्रमित होने से
7. काली खांसी होना
8.  बीमार इंसान की व्यक्तिगत चीजों का इस्तेमाल करना
9. फेफड़ों का कैंसर

खांसी के प्रकार (Types of cough):-

खांसी निम्न प्रकार के होते है-
1. सूखी खांसी
2. बलगम युक्त खांसी
3. गीली खांसी
4. कुक्कुर खांसी
5. तेज खांसी
6. पुरानी खांसी

Advertisements

Read:- Periods के दर्द को कम करने के घरेलु उपाय

खांसी-जुकाम का देसी इलाज क्या है

तो दोस्तों अभी तक आपने जाना ही खांसी-जुकाम के कारण और ये कितने type के होते है। मगर अब आप यहाँ जानोगे की खांसी-जुकाम का देसी इलाज क्या है। और आप इसे घर बैठे कैसे ठीक कर सकते हो। इसके लिए आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा। तो चलिए शुरू करते है। यदि आपको ये आपके किसी नजदीकी को खांसी-जुकाम है तो आप इन तरीको का इस्तेमाल करके इसे ठीक कर सकते हो।

तुलसी(Basil):- 

समान्‍य कोल्‍ड और खांसी के उपचार के लिए बहुत ही कारगर घरेलू उपाय है तुलसी, यह ठंक के मौसम में लाभदायक है। तुलसी में काफी उपचारी गुण समाए होते हैं, जो जुकाम और फ्लू आदि से बचाव में कारगर हैं। तुलसी की पत्तियां चबाने से कोल्ड और फ्लू दूर रहता है। खांसी और जुकाम होने पर इसकी पत्तियां (प्रत्येक 5 ग्राम) पीसकर पानी में मिलाएं और काढ़ा तैयार कर लें। इसे पीने से आराम मिलता है।

काली मिर्च(Black Pepper):-

जुकाम और खांसी के इलाज के लिए यह बहुत अच्‍छा देसी ईलाज है। दो चुटकी, हल्दी पाउडर दो चुटकी, सौंठ पाउडर दो चुटकी, लौंग का पाउडर एक चुटकी और बड़ी इलायची आधी चुटकी, लेकर इन सबको एक गिलास दूध में डालकर उबाल लें। इस दूध में मिश्री मिलाकर पीने से जुकाम ठीक हो जाता है। शुगर वाले मिश्री की जगह स्टीविया तुलसी का पाउडर मिलाकर प्रयोग करें।

हल्दी (Turmeric):-

हल्दी में anti-viral, anti-bacterial, और anti-inflammatory गुण होते है। हल्दी के इन गुणों की वजेह से ये वायरल इन्फेक्शन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है एक चमच हल्दी को अजवाइन के साथ मिला कर उबालने के लिए एक गिलास पानी में डाल दे, इस मिश्रण को तब तक उबाले जब तक के गिलास का पानी आधा ना रह जाये और फिर इस में थोडा स शहद मिला लीजिये इस मिश्रण का दिन में तीन बार सेवन करे।

Read More- हल्दी दूध पीने के फायदे

शहद(Honey):-

शहद बहुत  समय  पहले से ही खांसी के  इलाज के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। शहद में anti-oxidant और anti-microbial गुण होते है। शहद को गर्म दूद में मिला कर सेवन करने से खांसी से आराम तो मिलेगा ही साथ ही खांसी के कारण छाती के दर्द से भी राहत  मिलेगी।

अदरक (Ginger):- 

अदरक के छोटे छोटे टुकड़े कर के उस का चूरन बना लीजिये और पानी में डाल कर उबाल लीजिये, जब पानी ठंडा हो जाये फिर इस को पी लीजिये, और इस विधि को दिन में तीन बार करे। साथ साथ अदरक का तेल अपने सीने पर मालिश करे।

लहसुन (Garlic):-

एक गिलास पानी को उबलने के लिए रखें इस में थोडा सा लहसुन और अजवाइन की पत्ती डाल दे और जब से मिश्रण ठंडा हो जाये इस में शहद मिला कर दिन में तीन बार इस का सेवन करे।

Read More- लहसुन के फायदे

नींबू (lemon):-

हमारी रसोई घर का हमजोली खुशबूदार और रसीला निम्बू भी हो हर मुश्किल आसान कर देता है। निम्बू विटामिन C का बहुत अच्छा स्त्रोत है और विटामिन C खांसी के इलाज का बहुत अच्छा साबित होता है।
2 चम्मच नींबू के रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर दिन में चार बार लेने से गले की खराश दूर हो जाती है और सूखी खांसी से भी राहत मिलती है।

मुलेठी(Muleti):- 

मुलेठी का चूर्ण श्वसन तंत्र में सूजन को कम करता है, तथा म्यूकस को ढीला करता है। इसके लिए दो बड़ी चम्मच मुलेठी के चूर्ण को 2-3 गिलास पानी में डालकर उबालें, और 10-15 मिनट तक इसका भाप लें।

बादाम(Almond):- 

8-10 बादाम लेकर रात को पानी में भिगा दें। सुबह इन्हें छिलकर दरदरा पीस लें। इसमें थोड़ी-सी मक्खन और चीनी मिला लें। दिन में तीन बार इसका सेवन करें। यह गीली खांसी में बेहद फायदेमंद है।

गर्म पानी के गरारे(Hot Water Garbage):-

खांसी और उससे होने वाली गले की तकलीफों से निज़ाद पाने का सबसे पुराणस और सबसे आसान नुस्खा है गरम पानी के गरारे। सुबह और शाम एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक मिला कर अच्छे से गरारे करने से गले में कष्ट देने वाले कीटाणुओं का नाश हो जाता है और गले को आराम मिलता है।

Note– यूँ तो उपरोक्त सभी उपाए देसी व सदियों से आज़माये हुए हैं पर फिर भी यदि खांसी ज़्यादा दिन तक रहे या इन सभी उपायों से ठीक न हो, तो ऐसी स्थिति में  डॉक्टर से संपर्क अवश्य करें।

यदि आपको हमारे द्वारा बताये गए जानकारी खांसी-जुकाम का देसी इलाज क्या है अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को दुसरो के साथ शेयर भी कर सकते हो। इस पोस्ट को पढ़ने के लिए बहोत धन्यवाद है। आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमे कमेंट करके पूछ सकते हो हम उसका उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे।


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!