Advertisements

जीरा के फायदे – Benefits of Cumin in Hindi

हैलो प्रिय मित्रगण स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। हमारा आज का टॉपिक है जीरा के फायदे के बारे में बताएँगे। जिसका नाम सुनते ही मन में खुश्बू फैल जाती है। आखिरकार ये है ही ऐसा। भोजन में खुश्बू का बादशाह। जिसके बिना स्वादिष्ट भोजन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। दोस्तो जानते हैं इसके बारे में कि जीरा है क्या? और क्यों है ये खुश्बू का बादशाह। इसकी खुश्बू सब मसालों की तुलना में सबसे तेज होती है। इसी वजह से जीरा को खुश्बू का बादशाह कहा जाता है। और तेज खुश्बू के कारण इसके तेल का उपयोग काफी कम मात्रा में किया जाता है।

संस्कृत में जीरा का जीरक नाम मिलता है जिसका अर्थ होता है जीर्ण होने में (पचने में) सहायता करने वाला यानि भोजन को पचाने में मदद करने वाला। यह ऐसा पौधा है जो पुष्प वर्ग में आता है।  यूं तो जीरे की खेती पूरे भारत में होती है लेकिन पंजाब, उत्तरप्रदेश, राजस्थान में इसकी खेती ज्यादा होती है।

Advertisements
जीरा के फायदे
Advertisements

जीरे के प्रकार – Types of Cumin

दोस्तो जीरा तीन प्रकार का होता है 

Advertisements

1. काला (श्यामल) जीरा(Black Cumin)- इसका इस्तेमाल सफेद जीरे की भांति गरम मसाला बनाने में किया जाता है। काले जीरे की खुश्बू सफेद जीरे की खुश्बू की तुलना में बहुत कम होती है परन्तु इसकी कीमत सफेद जीरे से बहुत ज्यादा होती है। काला जीरा अक्टूबर में बोया जाता है। ठंडा मौसम और बर्फ काला जीरा के लिए प्रकृति का वरदान साबित होते हैं। इसकी खेती उत्तराखंड, गुजरात, कश्मीर,  अफगानिस्तान, बलूचिस्तान में होती है। विदेशों में इसके  तेल को उच्च क्वालिटी की शराब में मिलाकर सुगंधित बनाया जाता है। काला जीरा आम जीरे से कुछ मोटा होता है और इसमें हल्की-सी कड़वाहट होती है। इसका ज्यादा उपयोग सर्दियों में किया जाता है क्योंकि इसकी तासीर होती है। इसलिये एक दिन में तीन ग्राम से ज्यादा काला जीरा का सेवन नहीं करना चाहिये। यह खाने में स्वाद बढ़ाने के अलावा पेट की बीमारियों को ठीक करता है।

ये भी पढ़े- गुड़ के फायदे

2. सफेद जीरा (White Cumin)- सफेद जीरा गरम मसाला बनाने के लिये प्रयोग में लाया जाता है। इसकी खुश्बू बहुत तेज होती है। सफेद जीरा तीखा, गर्म और ताकत देने वाला होता है। यह पचने में हल्का होता है। यह शरीर में  कफ और वात दोषों को संतुलित करने का काम करता है। इसकी खेती पूरे भारत में होती है।  पंजाब, उत्तर प्रदेश, राजस्थान में विशेषकर इसकी खेती बहुत ज्यादा होती है.

Advertisements

3. जंगली जीरा (Jungly Cumin)- जंगली जीरा का उपयोग  बुखार, खांसी, पेचिस। दमा आदि बीमारियों में और अनेक प्रकार के संक्रमण नियंत्रण के लिए किया जाता है। जंगली जीरा पर अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है.

दोस्तो, अब बताते हैं आपको काले और सफेद जीरे के फायदे और साइड इफेक्ट्स के बारे में। 

काला जीरा के फायदे – Benefits of Black Cumin in Hindi

1.संक्रमण को रोके (Prevent Infection)- काला जीरा को एंटी-बैक्टीरियल गुणों की खान कहा जाता है। विशेषकर स्टैफिलोकोकस ऑरियस में, जो त्वचा और सॉफ्ट टिश्यू संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। फोड़े-फुंसियों, घाव पर काले जीरे के पाउडर का लेप लगाने से ये जल्दी ठीक हो जाते हैं। 

2. जुकाम में फायदेमंद (Beneficial in Cold)- सर्दी-जुकाम, खांसी, अस्थमा आदि में बेहद फायदेमंद है। जुकाम के कारण यदि नाक बन्द हो जाये तो काला जीरा भून कर, रूमाल में बांध कर सूंघिये। बहुत आराम मिलेगा। 

3. वजन कम करे (Lose weight)- वजन कम करने में काला जीरा बेहद फायदेमंद है। यह पेट की फालतू चर्बी को गला कर मल-मूत्र के जरिये बाहर निकाल देगा। तीन महीने लगातार इसका सेवन करके देखिये। 

    (i) प्रतिदिन सुबह काला जीरा पाउडर को पानी में मिलाकर, दो-चार बूंद शहद की डालकर पीयें। शहद के साथ नींबू भी मिला सकते हैं.

    (ii) दही में एक चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर भी खा सकते हैं.

    (iii) काले जीरे में अदरक और नींबू भी मिला सकते हैं.

    (iv) रात को दो चम्मच काला जीरा पानी में भिगो दें .सुबह इस पानी को जीरा सहित उबाल कर ठंडा करके धीरे धीरे पीयें। 

4. रोग-प्रतिरोधक क्षमता (Immunity)- काला जीरा हमारे शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है। बोन मैरो, नेचुरल इंटरफेरॉन और रोग-प्रतिरोधक सेल्स की मदद करता है। यह इम्यून सेल्स को स्वस्थ सेल्स में बदलकर ऑटोइम्यून विकारों को दूर करता है। 

5. पेट की समस्या दूर करें (Stomach Problem)- काला जीरा में एंटीमाइक्रोबियल गुण  मौजूद होते हैं जो पाचन तन्त्र को दुरुस्त रखते हैं। काला जीरा पेट में कीड़े, पेट दर्द, गैस बनना, पेट फूलना आदि समस्याओं से छुटकारा दिलाता है। 

6. सिर दर्द (Headache)- सिर में दर्द होने पर या माइग्रेन जैसे दर्द होने पर, काले जीरे का तेल सिर और माथे पर लगायें। आराम मिलेगा। 

7. दांत दर्द में आराम (Toothache)- काले जीरे के तेल की कुछ बूंदें गर्म पानी डाल कर कुल्ला करें। दांत दर्द में आराम मिलेगा। 

ये भी पढ़े- खजूर के फायदे

8. जी मिचलाने पर(On a run) – जी मिचलाने पर काले जीरे को चबा चबाकर रस चूसिये। आपको फौरन आराम मिलेगा.

9. बुखार में फायदेमंद (Fever)- भुना हुआ काला जीरा खाने से  बुखार में आराम लग जाता है। वैसे काले जीरे में गुड  मिलाकर गोलियां बना लें। दिन में तीन बार खायें। 

10. आयरन की कमी पूरी करे (Iron Deficiency)- आयरन की कमी पूरी करने का अच्छा विकल्प है ये काला जीरा। ये गर्भवती महिलाओं के लिए तो वरदान है। क्योंकि ये आयरन की मात्रा बढ़ाने में सहायता करता है। 

11. त्वचा रोगों को करे दूर (Skin Diseases)- काला जी त्वचा के लिये भी बेहद फायदेमंद है। काला जीरा में विटामिन सी पाया जाता है, जो त्वचा के लिए काफी अच्छा होता है। 

      (i) फेसपैक में थोड़ा सा काला जीरा पाउडर मिला कर प्रयोग करें। इससे त्वचा में कसावट आयेगी और निखार भी। 

      (ii) काले जीरा पाउडर का पेस्ट चेहरे पर लगाने से चेहरे के दाग, धब्बे, मुंहासे आदि आराम मिलेगा। 

      (iii) काले जीरे को पानी में उबाल कर ठंडा करके मुंह धोने से चेहरे पे चमक आ जाती है.

काला जीरा खाने के नुकसान  – Side Effects of Black Cumin

1. कच्चा या आधा पका काला जीरा खाने से पेट में दर्द हो सकता है। 

2. काला जीरा बहुत ज्यादा सेवन करने से किडनी में पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है क्यों कि मिनरल्स किडनी की परत पर जमने से पथरी हो सकती है। काला जीरा में बहुत मिनरल्स होते हैं। 

3. काला जीरा अधिक खाने से डकारें भी ज्यादा आ  सकती हैं.

4. डायबिटीज मरीजों को काला जीरा का सेवन करते समय सचेत रहना चाहिये। क्योंकि काला जीरा बल्ड शूगर के लेवल को नीचे ला सकता है। 

5. निकट भविष्य में यदि सर्जरी होनी है दो सफताह पहले काले जीरे का सेवन बन्द कर देना चाहिये। क्योंकि सर्जरी के समय ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है। 

6. यद्यपि गर्भवती के लिए काला जीरा अच्छा माना जाता है परन्तु इसका ज्यादा मात्रा में सेवन गर्भवती महिला व गर्भस्थ शिशु के लिये हानिकारक हो सकता है। इसलिये काले जीरे के सेवन से पहले डॉक्टर से परामर्श अवश्य कर लें। 

7. मासिक धर्म के समय काले जीरे का सेवन हानिकारक हो सकता है.

सामान्य (सफेद) जीरा के फायदे – Benefits of White Cumin

1. एनीमिया में फायदेमंद (Benefits in Anemia)- जीरे में आयरन की प्रचुर मात्रा होती है जो ब्लड के रेड सेल्स को बढ़ाते हैं। एक चम्मच जीरे का पाउडर शरीर को चार मिलीग्राम आयरन को पूरा  करता है। जीरे के सेवन से खून की कमी की पूर्ती होती है और एनीमिया जैसे रोगों का अंत। महिलाओं, विशेषकर (गर्भवती) और बच्चों के लिये बेहद लाभकारी होता है।  

2. त्वचा के लिए वरदान (For Skin)- जीरा में मौजूद विटामिन-ई, एंटी ऑक्सीडेंट की भांति कार्य करता है। जीरा पाउडर और हल्दी को शहद के साथ मिलाकर पेस्ट बना लीजिये। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर सूखने दीजिये। इससे त्वचा नर्म और चमकदार बनती है।  जीरे के एंटीफंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुण त्वचा के संक्रमणों को भी रोक सकते हैं। यह त्वचा की नमी और लचीलेपन में सुधार के साथ साथ प्राकृतिक एंटी-एजिंग के रूप में भी काम करता है। 

3. खुजली में फायदेमंद (Itchy)- जीरा को पानी में उबाल कर थोड़ा  ठंडा कर लें, गुनगुना रहना चाहिये। अब इस पानी से नहा लें। आपको खुजली से राहत मिलेगी। 40 ग्राम जीरा और 20 ग्राम सिन्दूर लें। इसे 320 मिली कड़वे तेल में पकाकर खुजली प्रभावित त्वचा पर लगायें.

4. बालों के लिये फायदेमंद (Hair)- जीरा में विटामिन, प्रोटीन और आयरन की पर्याप्त मात्रा होती है जो बालों का पोषण  करते हैं। जीरे के पानी से बालों को धोना लाभदायक है। इससे बालों की जड़ मजबूत होती हैं और बालों  का झड़ना भी बंद हो जायेगा। 

ये भी पढ़े- करेले जूस के फायदे

5. वजन कम करे (Lose Weight)- जीरा का सेवन वजन कम करने के  रामबाण उपाय माना गया है। जीरा को भूनकर, अच्छी तरह पीस कर इसका पाउडर बना लें। प्रतिदिन दही में एक चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर सुबह-शाम दोनों समय खायें। वजन घटने लगेगा। 

6. जोड़ों के दर्द में फायदा (Joint Pain)- जीरा में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। ये जोड़ों के दर्द, गठिया आदि की समस्या से निजात दिलाते हैं। जीरे का सेवन नियमित रूप से कीजिये। जीरा तेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

7. कब्ज़ में फायदा (Constipation)- यदि आपका पेट ठीक नहीं रहता है, कब्ज से परेशान हैं तो भुना हुआ जीरा और काला नमक छाछ में मिलाकर पीयें। निश्चित रूप से आपको फायदा होगा.

8. मासिक धर्म की समस्या को दूर करे (Period)- महिलाओं को भोजन में जीरे को अवश्य शामिल करना चाहिये। पीरियड के समय होने पेट व कमर दर्द में आराम मिलेगा। मासिक धर्म में अनियमितता की समस्या भी खत्म हो जायेगी.

9. गर्भवती महिलाओं के लिये (Pregnant Women)- गर्भवती महिलाओं के लिये तो जीरे का सेवन बहुत ही लाभप्रद है। एक गिलास दूध में एक चम्मच जीरा पाउडर मिलकर उबाल लें फिर इसमें थोड़ा शहद मिलाकर रोजाना रात को पीयें। निश्चित रूप से कमजोरी दूर होगी और ताकत बनी रहेगी। 

10. स्तन में दूध बढ़ाये (Increase Breast Milk)-  जीरे में कैल्शियम और आयरन प्रचुर मात्रा में होते हैं। ये पौष्टिक तत्व महिला के स्तनों में  दूध को बढ़ाने में मदद करते हैं। घी में जीरा को सेक कर दाल में ज्यादा जीरा डालकर खायें। आटे के लड्डू बनाते समय घी में भुने हुए जीरे को मिलायें। इनके सेवन से स्तनों में दूध बनता है। शतावरी, चावल, तथा जीरे के चूर्ण को गाय के दूध के साथ सेवन करने से भी दूध बढ़ता है.

11. प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ाये (Immune System)- तनाव के कारण प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है। विटामिन सी के नियमित सेवन से स्वास्थ ठीक रहता है प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। जीरे में विटामिन सी होता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है। 

12. हड्डियों को मजबूती दे (Strengthen Bones)- जीरा में कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम जैसे खनिज और विटामिन बी-12  होते हैं। ये सभी हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी हैं। इसलिये जीरे का सेवन अति आवश्यक है। 

13. पाचन क्रिया को रखे ठीक (Digestion Process)- पेट दर्द, अपच, दस्त, पेट फूलना, मतली, गैस आदि बीमारियों के लिये जीरा को उत्तम औषधि माना जाता है। एक गिलास पानी में एक चम्मच भुना जीरा पाउडर मिलाकर  दिन में एक या दो बार पीयें। छाछ के साथ एक चौथाई चम्मच भुना जीरा पाउडर और काली मिर्च पाउडर डाल कर पीयें। इससे पाचन क्रिया ठीक रहेगी। 

14.  नींद ना आने का उपाय (Fall Asleep)- मेलाटोनिन सोने में सहायता करता है। जीरे में मेलाटोनिन पाया जाता जो, अनिद्रा से या किसी अन्य जो सोने में व्यावधान डाले, ऐसे विकारों से लड़ता है। मसले हुऐ केले में एक चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर सोने से पहले खायें। 

ये भी पढ़े- निम्बू पानी के फायदे और नुकसान

15. ल्यूकोरिया में फायदेमंद (Leucorrhea)- पांच ग्राम जीरा के चूर्ण और दस ग्राम मिश्री के चूर्ण को मिला कर खायें। ल्यूकोरिया से ग्रसित महिलाओं के लिये बेहद फायदेमंद है।  

16. मलेरिया में जीरा लाभकारी (Malaria)- चार ग्राम जीरे के चूर्ण को गुड़ में मिलाकर खाने से एक घण्टा पहले खायें। या करेले के दस मिली रस में जीरे का पांच ग्राम चूर्ण मिलाकर दिन में तीन बार पीने से लाभ होगा। 

17. मुंह की दुर्गंध दूर करे (Halitosis)-  जीरा और सेंधा नमक के चूर्ण को दिन में दो बार लें।  

18. छोटे बच्चों को पेट में दर्द (Pain in Little Children)- छोटे बच्चों को पेट में अक्सर दर्द हो जाया करता है। तब गर्म पानी में जीरा उबाल कर ठंडा कर के बच्चों को पिलायें.

सफ़ेद जीरा के नुकसान – Side Effect of White Cumin

1. यदि पहली बार जीरे का सेवन कर रहे हैं या जीरे से एलर्जी है तो सावधान रहें, इससे आपकी त्वचा पर रैशेज हो सकते हैं या एलर्जी हो सकती है

2. जीरे की प्रकृति गर्म होती है, इसलिए गर्भवती महिलाओं को जीरे का बहुत ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिये। डॉक्टर से सलाह लेना अच्छा रहेगा। 

3. ब्लड शुगर लेवल कम हो सकता है। 

4. मासिक धर्म के दौरान जीरे का सेवन फायदेमंद होता है। परन्तु ज्यादा मात्रा में खाने से रक्तस्राव ज्यादा हो सकता है।  

5. जीरे के ज्यादा सेवन से सीने में जलन हो सकती है या लिवर और किडनी की समस्या बन सकती है।

जंगली जीरा  के फायदे और नुकसान

दोस्तो, हम पहले ही बता चुके हैं कि जंगली जीरा का उपयोग बीमारियों और संक्रमण नियंत्रण के लिए किया जाता है। जंगली जीरा का प्रयोग, प्रभावशीलता और दुष्प्रभाव के विषय में जानकारी उपलब्ध नहीं है।

Conclusion

दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको जीरा  के फायदे के बारे में बताया। तथा इसके साथ जीरे के प्रकार के भी बारे में जानकारी दी। आशा है आपको ये पसन्द आयेगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों या सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर करें। ताकि वे भी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो हमारा आज का यह लेख आपको कैसा लगा।  कृपया अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health- Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

One thought on “जीरा के फायदे – Benefits of Cumin in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *