Advertisements

रूम हीटर के नुकसान – Side Effects of Room Heater in Hindi

रूम हीटर के नुकसान

स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। दोस्तो, जब सर्दियां आती हैं मौसम सुहाना हो जाता है। गर्मी की तपिस और बरसात के जल भराव, कीचड़, मक्खी-मच्छर, आदि से छुटकारा मिल जाता है तथा खाने पीने की मौज रहती है। अनेक प्रकार की ताजा हरी सब्जियां, फल आदि बाजार में आ जाते हैं परन्तु इन दिनों में सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि सर्दी से बचने के लिए बहुत सारे, भारी भरकम कपड़े पहनने पड़ते हैं। सर्दी से बचने के लिए लोगों को रूम हीटर चलाना पड़ता है। ये रूम हीटर कमरे के तापमान को बढ़ा कर सर्दी से राहत दिलाते हैं लेकिन रूम हीटर एक और पहलू है कि ये नुकसान बहुत पहुंचाते हैं, फायदों से भी ज्यादा। दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक “रूम हीटर के नुकसान”

देसी हैल्थ क्लब इस आर्टिकल के माध्यम से आज आपको रूम हीटर के बारे में जानकारी देगा और यह भी बताएगा कि इसके फायदों के साथ नुकसान क्या होते हैं। तो, सबसे पहले जानते हैं कि हीटर क्या है, इसके प्रकार और हीटर कैसे काम करते हैं? फिर इसके बाद बाकी बिन्दुओं पर जानकारी देंगे।

Advertisements
रूम हीटर के नुकसान
Advertisements

हीटर क्या है? – What is a Heater?

दोस्तो, हीटर (Heater) का शाब्दिक अर्थ ही हीट (Heat) यानि गर्मी देने वाला है। एक ऐसा उपकरण जो बिजली की सहायता से चलता हो और किसी वस्तु को या वायु को गर्म करे जैसे कि पानी को गर्म करना, खाना गर्म करना, कमरा गर्म करना आदि, हीटर कहलाता है, यानि इलेक्ट्रिक हीटर जोकि इलेक्ट्रॉनिक उपकरण  (Electronic Equipment) की श्रेणी में आता है। बिजली के करंट के आधार पर बाजार में हीटर दो तरह के मिलते हैं – एक एसी करंट (AC current) वाले हीटर और दूसरे डीसी करंट (DC current) वाले हीटर। विवरण निम्न प्रकार है –

Advertisements

1. एसी करंट वाले हीटर (AC Current Heater)- चूंकि सरकार की तरफ से जो बिजली उपलब्ध कराई जाती है उससे AC current मिलता है इसलिये बाजार में अधिकतर ऐसे हीटर मिलते हैं जो AC current पर चलते हैं। ऐसे ही हीटर घरों में इस्तेमाल होते हैं।

2. डीसी करंट वाले हीटर (DC Current Heater)- ये हीटर DC current पर चलते हैं जोकि बाजार में आसानी से  उपलब्ध नहीं होते। इनके लिये विशेषतौर पर दुकानदार को कहना पड़ता है तब वह इनको कंपनी से मंगवाकर देता है। इस प्रकार के हीटर की आवश्यकता, सीधे तौर पर सोलर पैनल या सोलर इन्वर्टर बैटरी से चलाने के लिये पड़ती है। यहां हम स्पष्ट कर दें कि सोलर पैनल और सोलर इन्वर्टर बैटरी, दोनों ही DC current सप्लाई करते हैं। 

ये भी पढ़े- पैसिव स्मोकिंग क्या है?

Advertisements

हीटर के प्रकार – Types of Heater

हीटर कई प्रकार के होते हैं। हम बता रहे हैं हीटर के कुछ प्रकार जो प्रचलित हैं। ये निम्न प्रकार   हैं –

1. रूम हीटर – ये कमरा गर्म करने के लिए होते हैं। रुम हीटर कई प्रकार के होते हैं। इनकी जानकारी हम आगे देंगे।

2. वाटर हीटर – ये पानी गर्म करने के लिए होते हैं। ये रॉड वाटर और गीजर के रूप में मिलते हैं।

3. कुकिंग हीटर – ये रसोई में भोजन बनाने के लिये उपयोग में लाए जाते हैं। 

4. गैस हीटर – ये हीटर गैस के द्वारा काम करते हैं। एलपीजी या गैस सिलेंडर को इसके साथ जोड़ना होता है। ये निम्न प्रकार के होते हैं –

(i) रेडियंट गैस फायर हीटर

(ii) गैस कंवेक्टर हीटर

(iii) ओपन डेकोरेटिव गैस फायर हीटर

(iv) क्लोज डेकोरेटिव गैस फायर हीटर

(v) बोटल्ड (Bottled) गैस फायर हीटर।

हीटर कैसे काम करते हैं? – How do Heaters Work?

दोस्तो, लगभग सभी प्रकार के हीटर में (ऑयल फील्ड रूम हीटर को छोड़कर) एक धातु की या कांच की रॉड लगी होती है जिसे हीटिंग एलिमेंट (Heating Element) कहते हैं। इस रॉड के अंदर स्प्रिंग की तरह निक्रोम (nichrome) से बनी एक तार डाली जाती है ताकि ये तार ना टूटे, मगर फिर भी टूट जाती हैं। टूटने पर इनको बदला भी जा सकता है। इस रॉड के दोनों सिरों पर एक कैप लगी होती है जो निक्रोम की तार से कनेक्ट होती है। रॉड को बिजली सप्लाई मिलने पर निक्रोम तार में मेग्नेटिक फ्लस्क बनता है जिसके कारण ये निक्रोम तार अपने आप गर्म होती है और तेज प्रकाश उत्पन्न होता है।

रूम हीटर क्या है? – What is a Room Heater

एक ऐसा इलेक्ट्रिक हीटर जिसका उपयोग सर्दियों में कमरे के तापमान को गर्म करने के लिये किया जाता है। ये अधिकतर AC Current पर चलने वाले होते हैं। इनका काम केवल कमरे को ही गर्म करना होता है। इसे किसी और उपयोग में नहीं लाया जा सकता। रूम हीटर को एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से लाया ले जाया सकता है। रूम हीटर कई प्रकार के होते हैं। 

इसकी जानकारी हम आगे देंगे। सभी प्रकार के रूम हीटर में (ऑयल फील्ड रूम हीटर को छोड़कर) एक कांच की रॉड लगी होती है जिसे हीटिंग एलिमेंट (Heating Element) कहा जाता है। ये रॉड एक या एक से ज्यादा भी हो सकती हैं। रॉड के अंदर स्प्रिंग के आकार की निक्रोम वायर होती है जो बिजली मिलने पर गर्म हो जाती है। इसी के गर्म होने के कारण कमरे का तापमान गर्म होने लगता है। 

रूम हीटर के प्रकार – Types of Room Heaters

अब बताते हैं आपको रूम हीटर के प्रकार और उप-प्रकार जो निम्नलिखित हैं –

1. रेडियंट रूम हीटर (Radiant Room Heater)- इनमें भी रॉड लगी होती है और ये सबसे अधिक बिकते है। इनकी कीमत बहुत ही कम होती है। ये गुणवत्ता की दृष्टि से अच्छे नहीं माने जाते क्योंकि ये कमरे में ऑक्सीजन को बहुत जल्दी खत्म करते हैं और ये नमी को भी खत्म करते हैं। नमी खत्म होने से प्यास भी अधिक लगती है। बंद कमरे में इनका उपयोग बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। इस प्रकार के हीटर का इस्तेमाल करने से पहले कमरे की एक खिड़की अवश्य खोल देनी चाहिए। रेडियंट रूम हीटर के कई प्रकार होते हैं। कुछ का विवरण निम्नलिखित है –

(i) क्वार्टज़ हीटर (Quartz Heater)- इस प्रकार के रूम हीटर में क्वार्टज़ रॉड लगी होती है इसीलिये इनको क्वार्टज़ हीटर कहा जाता है। ये टेक्नोलोजी अब बहुत पुरानी हो चुकी है। गुणवत्ता और सुरक्षा की दृष्टि से इनको ठीक नहीं कहा जा सकता। ये कमरे की ऑक्सीजन और नमी को खत्म करने के अतिरिक्त शरीर की त्वचा पर भी बुरा असर डालते हैं। त्वचा पर खारिश, खुजली होने की संभावना रहती है तथा सांस संबंधी समस्या भी हो सकती है।

(ii) हैलोजन हीटर(Halogen Heater) – इनमें हैलोजन रॉड लगी होती है इसलिए इनको हैलोजन हीटर कहा जाता है। ये एक रॉड से लेकर तीन रॉड तक के हीटर आते हैं। जितनी ज्यादा रॉड उतनी अधिक गर्मी और उतनी ही अधिक बिजली की खपत। ये क्वार्टज़ हीटर की तुलना में कुछ बेहतर हीटर माने जाते हैं।

(iii) कार्बन हीटर (Carbon Heater)- ये कार्बन रॉड वाले हीटर होते हैं जो क्वार्टज़ और हैलोजन की तुलना में बेहतर हीटर होते हैं। ये शरीर को बहुत कम नुकसान पहुंचाते हैं। ये कार्बन हीटर गर्मी अधिक देते हैं और बिजली की खपत भी बहुत कम करते हैं।

ये भी पढ़े- लैपटॉप गोदी में रखकर चलाने के नुकसान

2. कन्वेक्शन ब्लोअर हीटर (Convection Blower Heater)- ये ब्लोअर रूम हीटर होते हैं इनको सामान्य भाषा में ब्लोअर कहा जाता है। इनमें अलग से पंखा लगा होता है जो गर्मी को बाहर फेंकता है।  इस कारण कमरा जल्दी गर्म हो जाता है। ये अच्छे हीटर माने जाते हैं। ये हीटर निम्नलिखित दो प्रकार के हीटिंग एलिमेंट के साथ आते हैं –

(i) माइका इंसुलेटर (Mica Insulator)- इन ब्लोअर हीटर में माइका इंसुलेटर माइका एलिमेंट लगा होता है जिसके कारण कमरे के तापमान गर्म होता है। इसका नकारात्मक पहलू यह है कि इस प्रकार के हीटर ऑक्सीजन को धीरे-धीरे खत्म करते हैं और ये शरीर के लिए भी नुकसानदायक होते हैं। वैसे भी ये टेक्नोलोजी बहुत पुरानी हो चुकी है।

(ii) पीटीसी एलिमेंट ब्लोअर हीटर (PTC Element Blower Heater)- ये आधुनिक टेक्नोलोजी वाले ब्लोअर हीटर होते हैं। इनमें पीटीसी एलिमेंट लगा होता है। माना जाता है कि ये ऑक्सीजन को बिल्कुल भी खत्म नहीं करते और इनको मानव जीवन के लिए सुरक्षित समझा जाता है। इनका उपयोग बंद कमरे में भी किया जा सकता है। 

3. ऑयल फील्ड हीटर (Oil Field Heater)- इस प्रकार के हीटर में ऑयल डाला जाता है। इनको ऑयल फील्ड रेडिएटर भी कहा जाता है। यह ऑयल को गर्म करता है जिससे कमरे का तापमान बढ़ता है। ये हीटर ऑक्सीजन और नमी को खत्म नहीं करते। हां, कमरे को गर्म करने में बहुत समय लगाते हैं, कम से कम 15 मिनट। इन हीटर की बिक्री कम होती है क्योंकि ये बहुत मंहगे होते हैं।

4. इंफ्रारेड हीटर (Infrared Heater)- ये हीटर सामान्य हीटर से बिल्कुल अलग होते हैं, इनमें कोई क्वायल नहीं होती। ये वस्तुतः एक बल्ब ही होता है जो कमरे के तापमान को बढ़ाता है। इनमें 150W का इंफ्रारेड बल्ब लगता है। इनमें बिजली की खपत बहुत ज्यादा होती है।

रूम हीटर के फायदे – Benefits of Room Heater

दोस्तो, यदि रूम हीटर के फायदों की बात की जाए तो इसके फायदे बहुत ही कम हैं। ये इस प्रकार हैं –

1. सर्दी से बचाए (Protect from Cold)-  रूम हीटर का सबसे मुख्य फायदा यह है कि इससे कमरे का तापमान गर्म रहता है जिससे सर्दी महसूस नहीं होती। यह कड़ाके की सर्दी से राहत प्रदान करता है। इसे सोने से एक या दो घंटे पहले चला दिया जाये तो कमरे का तापमान गर्म हो जाता है जिससे आप आराम से सो सकते हैं।

2. काम के लिये उत्साह बढ़े (Enthusiasm for Work)- जब बहुत ज्यादा सर्दी पड़ती है तो ठंड की वजह से उंगलियां भी नहीं चलती। ऐसे में कोई काम ठीक से नहीं हो पाता। विशेषकर गृहणियों को सबसे जयादा इस समस्या का सामना करना पड़ता है क्योंकि उनको खाना बनाने से लेकर घर के सारे काम निपटाने होते हैं। इसी प्रकार यदि किसी का लिखने, पढ़ने या टाइपिंग का काम है तो उंगलियां साथ नहीं देतीं। ऐसे में बस एक ही विकल्प रह जाता है कि हीटर पर कुछ देर हाथ सेके जायें। और जब हाथ सेंक लिए जाते हैं तो उंगलियां गर्म होकर साथ देतीं हैं। फिर काम करने के लिए एक नया उत्साह आ जाता है। 

3. कपड़े सुख जाएं (Dry Clothes)- सर्दी के मौसम में कई बार आसमान में धुंध छाई होती है, इस वजह से सूरज दिखाई नहीं देता और धूप नहीं निकलती। इन हालात में कपड़े नहीं सूख पाते। ऐसे में कमरे में रूम हीटर चला दिया जाये और गीले कपड़े कमरे में डाल दिए जाएं तो रूम हीटर की गर्मी से कपड़े सूख जाएंगे। छोटे-छोटे कपड़ों को, जिनका सूखना बहुत जरूरी होता है, रूम हीटर के नजदीक रख दिया जाये तो ये बहुत जल्दी सूख जाएंगे।

रूम हीटर के नुकसान – Side Effects of Room Heater

दोस्तो, अब नजर डालते हैं रूम हीटर से होने वाले नुकसान पर जो निम्नलिखित हैं –

1. नमी सोखे (Soak up the Moisture)- अधिकतर रूम हीटर इस प्रकार के हैं कमरे की हवा में व्याप्त नमी को सोख लेते हैं। बहुत अच्छी गुणवत्ता वाले रूम हीटर नमी नहीं सोखते परन्तु ये बहुत मंहगे होते हैं जो आम आदमी की पहुंच से दूर होते हैं। हवा में नमी ना होने के कारण इसका सीधा असर त्वचा पर पड़ता है। सबसे ज्यादा असर उन लोगों को पड़ता है जिनकी त्वचा संवेदनशील होती है। त्वचा में शुष्कता आ जाती है और खुरदुरी हो जाती है। त्वचा में खुजली और जलन की समस्या हो सकती है। त्वचा पर रैशेज भी पड़ सकते हैं।

2. त्‍वचा पर पड़ सकती हैं झुर्रियां (Wrinkles may Appear on the Skin)- यह तो हम ऊपर बता ही चुके हैं कि कमरे में हवा की नमी को सोखने पर त्वचा पर क्या प्रभाव पड़ते हैं। हम यहां बताना चाहते हैं कि हीटर से जो गैस निकलती है उससे त्वचा की गुणवत्ता खराब होती है और र्सोंलग टिशूज भी खराब हो जाते हैं। परिणाम स्वरूप पिगमेंटेशन की समस्या हो सकती है।

3. कमरे में ऑक्सीजन की कमी (Lack of Oxygen in the Room)- ज्यादातर रूम हीटर के चलाने से कमरे में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। अधिक समय तक चलाये रखने से ये हीटर ऑक्सीजन को खत्म करने लगता है। इसका नतीजा यह होता है कि सांस लेने में दिक्कत होती है, कई बार दम घुटने लगता है। यदि कमरा पूरी तरह बंद है और कोई खिड़की थोड़ी बहुत नहीं खुली है तो कमरे की सारी ऑक्सीजन खत्म हो जाएगी। नींद में पता भी नहीं चलेगा और जान भी जा सकती है।

4. बच्चों के लिए खतरनाक (Dangerous for Children)- कमरे में रूम हीटर विशेषकर ब्लोअर हीटर चलाने से कमरे में कार्बन मोनोऑक्साइड गैस बढ़ने लगती है। यह एक प्रकार से विषैली गैस होती है। इसका असर शिशुओं और छोटे बच्चों पर पड़ता है। यह गैस इनके मस्तिषक, त्वचा और नासिका मार्ग को हानि पहुंचा सकती है। त्वचा पर रैशेज पड़ सकते हैं और ऑक्सीजन कम होने से सांस लेने में परेशानी हो सकती है। वैसे भी यह गैस बड़े लोगों के लिये भी मुसीबत का कारण बन सकती है। कई लोगों की नाक में ब्लोअर की गर्म हवा नाक में चढ़कर परेशान करती है।

5. बुजुर्गों के लिए हानिकारक (Harmful to the Elderly)- रूम हीटर के जरिये कमरे के तापमान में वृद्धि बुजुर्गों के लिए हानिकारक हो सकता है। बुजुर्गों को अधिकतर रूम हीटर की गर्मी से सांस लेने में दिक्कत होती है उनको प्राकृतिक हवा की ऑक्सीजन चाहिए। रूम हीटर वाले कमरे में उनका दम घुटने लगता है। यही हाल अस्थमा के मरीजों का होता है, उनको भी रूम हीटर की गर्मी सूट नहीं करती, उनको भी सांस लेने में दिक्कत होती है। उनको, नाक की झिल्ली सूखकर खून बहने की समस्या खड़ी हो सकती है।

6. आंखों के लिए हानिकारक (Harmful to Eyes)- कमरे की हवा की प्राकृतिक नमी को रूम हीटर द्वारा सोखे जाने से इसका आंखों पर बहुत बुरा असर पड़ता है। इससे आंखों की नमी भी खत्म होती है। इसके परिणाम स्वरूप आंखों में जलन और खुजली होने लगती है। ऐसे हालात में आंखों को मसलना नहीं चाहिये अन्यथा आंखें लाल हो जाएंगी। इससे राहत पाने के लिये आंखों में पानी के छीटें मारने चाहिए।

7. बालों की समस्या (Hair Problem)- हीटर द्वारा हवा में प्राकृतिक नमी को सोखे जाने का प्रभाव बालों पर भी पड़ता है। इससे बालों की कई समस्याएं बन सकती हैं। नमी के कारण बाल रूखे और बेजान हो जाते हैं और झड़ने लगते हैं। इसके साथ ही बालों की प्राकृतिक चमक भी खत्म होने लगती है। इसलिये कमरे में हीटर बहुत कम समय के लिए चलाना चाहिऐ। 

ये भी पढ़ें- कम उम्र में बाल सफेद होने से रोकने के उपाय

8. नाखूनों की समस्या (Nail Problems)- नाखूनों का स्वास्थ वायु की नमी और त्वचा की नमी पर आधारित होता है। हवा में प्राकृतिक नमी के खत्म हो जाने पर त्वचा में रूखापन आ जाता है। चूंकि नाखून त्वचा का अहम हिस्सा होते हैं इसलिए इनमें भी रूखापन आना स्वाभाविक है। नाखूनों का रूखापन इनके स्वास्थ के लिये ठीक नहीं है। 

9. प्रतिरक्षा प्रणाली पर असर (Effect on the Immune System)- रूम हीटर का प्रभाव प्रतिरक्षा प्रणाली के संतुलन पर भी पड़ता है। कमरे के गर्म तापमान से निकलकर बाहर के ठंडे वातावरण में प्रवेश करने पर प्रतिरक्षा प्रणाली का संतुलन लड़खड़ा जाता है। इसको सामान्य स्तर पर आने में समय लगता है। इस वजह से सर्दी-जुकाम, फ्लू जल्दी-जल्दी होते रहते हैं। छोटे बच्चों के लिये यह स्थिति जोखिम भरी हो सकती है।

10. अन्य समस्याएं (Other Problems)- रूम हीटर के अधिक और लंबे समय तक इस्तेमाल करने से और भी कई स्वास्थ समस्याएं हो सकती हैं। फेफड़ों में बलगम जमना, लगातार खांसी, जुकाम बने रहना, आलस्य, जी मचलाना, उल्टी, सिर दर्द जैसी समस्याओं की संभावना रहती है।

कुछ सावधानियां – some precautions

और अब कुछ निम्नलिखित सावधानियां जो हीटर के संबंध में आपको सुरक्षा देंगे – 

1. सबसे पहले तो यह समझना होगा कि कमरे में हीटर चलाने के लिये एक खिड़की को थोड़ा सा खोलकर रखना होगा ताकि कमरे में गैस ना बने, बाहर से शुद्ध वायु और कार्बन-डाईऑक्सइड का आवागमन होता रहे। इससे कमरे में घुटन नहीं होगी। 

2. रूम हीटर चलाने से पहले कमरे में एक बाल्टी पानी भर कर रखें ताकि कमरे की नमी बरकरार रहे। यह पानी वाष्पीकरण के रूप में कार्य करते हुए हवा में नमी बनाए रखेगा।

3. पूरी रात के लिए हीटर ना चलाएं- सोने से पहले एक या दो घंटे के लिए हीटर चलाकर बंद कर दें। इससे कमरे का तापमान सोने लायक ठीक हो जाएगा। 

4. ज्यादा तेज ना चलाएं – हीटर को अधिक तापमान पर नहीं चलाना चाहिये क्योंकि ऐसा करने से कमरा जरूरत से ज्यादा गर्म हो जाएगा, इससे बेचैनी हो सकती है। हीटर को सामान्य स्पीड पर चलाना चाहिए।

5. सुरक्षित स्थान पर रखें – हीटर को कमरे में ऐसी जगह रखें जहां कोई अन्य सामान ना रखा हो। यदि किसी वजह से हीटर गिर भी जाता है तो आग लगने का खतरा नहीं होगा। यह भी ध्यान रखें कि हीटर के पास कोई सामान लेने के लिये किसी को जाना ना पड़े विशेषकर बच्चों और बुजुर्गों को। इससे यह होगा कि कोई हीटर से टकराएगा नहीं। सब की सुरक्षा बनी रहेगी। 

6. खराब हीटर ना चलाएं – समय-समय पर हीटर की सर्विसिंग कराते रहें। खराब हीटर को जुगाड़ करके जबरदस्ती चलाने की कोशिश ना करें। खराब हीटर बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा कर सुरक्षा के लिए खतरा बन सकता है। खराब हीटर से कमरे में कार्बन-मोनोऑक्साइड का स्तर बहुत अधिक हो जाएगा जिससे जीवन को खतरा हो सकता है।

7. प्राकृतिक रूप से सर्दी से बचाव करें – यह बहुत महत्वपूर्ण है कि सर्दी से बचने के लिये हमेशा हीटर पर ही निर्भर ना रहें। अच्छी गुणवत्ता वाले ऊनी गर्म कपड़ों का सही प्रकार उपयोग करें। अपना खानपान इस प्रकार का रखें जो आपको अंदर से गर्म और मजबूत रखे। बहुत अधिक सर्दी में जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर निकलें। धूप जरूर सेकें क्योंकि सूरज सर्दियों में प्राकृतिक हीटर के रूप में आपको सर्दी से बचाता है। इससे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली भी बनी रहेगी।  रही बात रात की, तो रात को सोने से फौरन पहले बिस्तर पर एक कंबल भी बिछा दें फिर सोएं। इससे आपको नीचे कमर में सर्दी नहीं लगेगी। सुबह उठकर इस कंबल को उठाकर तह बनाकर अलमारी में रख दें ताकि सारे दिन यह खुले में रखा हुआ ठंडा ना हो जाये। इसकी आप सुरक्षा कीजिये, यह आपको सुरक्षित रखेगा।

Conclusion –

दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको रूम हीटर के नुकसान के बारे में जानकारी दी। हीटर क्या है, हीटर के प्रकार, हीटर कैसे काम करते हैं, रूम हीटर क्या है, रूम हीटर के प्रकार और रूम हीटर के फायदे, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस आर्टिकल के माध्यम से रूम हीटर के बहुत सारे नुकसान बताये और कुछ सावधानियां भी बताईं। आशा है आपको ये आर्टिकल अवश्य पसन्द आयेगा। 

दोस्तो, इस आर्टिकल से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो आर्टिकल के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह आर्टिकल केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
रूम हीटर के नुकसान
Article Name
रूम हीटर के नुकसान
Description
दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको रूम हीटर के नुकसान के बारे में जानकारी दी। हीटर क्या है, हीटर के प्रकार, हीटर कैसे काम करते हैं, रूम हीटर क्या है, रूम हीटर के प्रकार और रूम हीटर के फायदे, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया है।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo

One thought on “रूम हीटर के नुकसान – Side Effects of Room Heater in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *