Advertisements

संतरा खाने के फायदे – Benefits of Eating Orange in Hindi

संतरा खाने के फायदे

दोस्तो, आज हम आपको एक ऐसे फल के बारे में बताएंगे कि जिसको खाने से दो प्रकार के स्वाद मिलते हैं एक मीठा और दूसरा हल्का खट्टा तथा सेहत के लिए प्रकृति का वरदान। एक ऐसा नरम फल जिसे बुजुर्ग लोग जिनके दांत नहीं हैं वे भी इसे आसानी से खा सकते हैं। एक ऐसा फल जिसे देवताओं का फल कहा जाता है और “स्वर्णिम सेब” के रूप में जाना जाता है। जी हां, हम बात कर रहे हैं संतरा की, जिसे बहुवचन मानकर संबोधित किया जाता है “संतरे”। संतरा एक ऐसा फल है जो विश्व में लोकप्रियता में चौथे स्थान पर है। दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक “संतरा खाने के फायदे”

देसी हैल्थ क्लब इस आर्टिकल के माध्यम से आपको संतरे के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बताएगा कि इसके फायदे क्या हैं। तो, सबसे पहले जानते हैं कि संतरा क्या है और संतरे की खेती कहां होती है? फिर, इसके बाद बाकी बिंदुओं पर जानकारी देंगे।

संतरा क्या है? – What is Orange?

संतरा अत्यंत स्वादिष्ट फल है जो “खट्टे फल” की श्रेणी में आता है। लोकप्रियता में यह विश्व में चौथे स्थान पर है। अमेरिका में सबसे अधिक संतरे का जूस पीया जाता है। नारंगी रंग का होने के कारण इसे नारंगी भी कहा जाता है। संतरे को देवताओं का फल कहा जाता है, इसे “स्वर्णिम सेब” कहा जाता जिसे एक कथानक के अनुसार हरक्यूलिस ने चुराया था। संतरे का व्यास लगभग दो से तीन इंच होता है। 

Advertisements

इसका छिलका नारंगी या हरे नारंगी का होता है इसका छिलका मोटा मगर मुलायम होता है जो हाथ से आसानी से छिल जाता है।  इसका फल यानि गूदा फांक के रूप में होता है जिनमें रस भरा होता है। एक संतरे में 6 से 8 फांक होती हैं। इन फांक पर धागे जैसे तंतु चिपटे रहते हैं।  संतरे की फांक को बिना दांत वाला व्यक्ति भी आसानी से चूस सकता है। विटामिन-सी और अनेक खनिजों से भरपूर संतरा अत्यंत  स्वास्थवर्धक होता है साथ ही यह औषधीय गुणों से समृद्ध होता है। विश्व में संतरे की 600 से अधिक किस्में हैं। 

संतरे के छिलके में लैमिनी (Laminee) नामक रसायन पाया जाता है जो अत्यंत ज्वलनशील होता है। लैमिनी को आम भाषा में टाटरी कहा जाता है। संतरे के छिलके को आंख के पास लाकर दबाने से इस केमिकल की फुहार आंख में जाती है और चिरमिराहट लगने लगती है। ऐसा कई लोगों ने बचपन में बहुत किया होगा। यदि इसे जलती मोमबत्ती के पास लाकर दबाया जाए तो बहुत तेजी से आवाज के साथ आग की चिंगारियां निकलने लगती हैं। जहां तक संतरे के पेड़ की बात है तो यह सदाबहार होता है यानि हर समय हरा भरा रहता है। 

यह मध्‍यम आकार का होता है। यह 5 से 15 मीटर तक ऊंचा हो जाता है। इसकी शाखाएं भूमि से लगभग 23 से 46 इंच की ऊंचाई पर निकलती हैं। इसकी टहनियां कंटीली होती हैं। इसके सफेद रंग के फूल बहुत आकर्षक, मनमोहक और खुश्बुदार होते हैं। संतरा का पेड़ 100 वर्ष तक रह सकता है। रूटेसी (Rutaceae) परिवार से संबंध रखने वाले संतरे का वानस्पतिक नाम सिट्रस साइनेंसिस (Citrus sinensis) है। इसे अंग्रेजी में ऑरेंज (Orange) कहा जाता है। 

Advertisements

ये भी पढ़े- गुलकंद खाने के फायदे

संतरे की खेती कहां होती है? – Where are Oranges Cultivated?

1. भारत के अतिरिक्त 100 से भी अधिक देशों में संतरे की खेती होती है। चीन, ऑस्ट्रेलिया, इटली, मैक्सिको, अमेरिका, मिस्र, जापान, स्पेन, टर्की, अर्जेंटीना, ग्रीस, मोरक्को, ईरान, ब्राजील, इंडोनेशिया, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, घाना, यूनान, थाईलैंड, सीरिया, पुर्तगाल, कोलम्बिया, सूडान, लेबनान, ईराक, चिली, केन्या, ताइवान, ज़िम्बाब्वे, यमन, कंबोडिया, लीबिया, इज़राइल, जॉर्डन, साइप्रस, भूटान, फ्रांस, मलेशिया, श्रीलंका, न्यूज़ीलैंड, रूस, कुवैत, कांगो, जॉर्जिया, तजाकिस्तान, फिलिपींस, फ़िजी, माल्टा, अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश आदि देशों में संतरे की खेती की जाती है। 

2. भारत के महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, असम, मेघालय, पश्चिमी बंगाल, तमिलनाडू, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार आदि राज्यों में संतरे की खेती की जाती है।

संतरे के गुण – Properties of Orange

1. संतरे की तासीर ठंडी होती है।

2. संतरे का स्वाद खट्टा मीठा होता है।

3. संतरे में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-डायबिटिक, एंटी-अर्थरिटिक, एंटी-कैंसर, एंटी-अल्सर, एंटी-टाइफाइड, एंटी-एंग्जायटी, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल, एंटीपैरासिटिक, एनाल्जेसिक आदि गुण होते हैं। 

4. संतरा विटामिन-सी, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और प्रोटीन का समृद्ध स्रोत है। इसके अतिरिक्त संतरे में विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स और कैल्शियम, पोटेशियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, आयरन जैसे खनिज होते हैं।

संतरे के पोषक तत्व मात्रा (प्रति 100 ग्राम) – Nutrient Content of Orange (per 100 grams)

  • पानी : 86.75 ग्राम
  • एनर्जी : 52 कैलोरी
  • फैट : 0.15 ग्राम
  • प्रोटीन : 0.91 ग्राम
  • शुगर : 9.35 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट : 11.75 ग्राम
  • फाइबर : 2.4 ग्राम
  • फास्फोरस : 23 मिलीग्राम
  • कैल्शियम : 43 मिलीग्राम
  • पोटेशियम : 181 मिलीग्राम
  • सोडियम : 9 मिलीग्राम
  • मैग्नीशियम : 10 मिलीग्राम 
  • आयरन : 0.33 मिलीग्राम
  • मैंगनीज : 0.029 मिलीग्राम 
  • जिंक : 0.11 मिलीग्राम
  • कॉपर : 0.064 मिलीग्राम 
  • विटामिन-ए : 11 माइक्रोग्राम
  • विटामिन-सी : 59.1 मिलीग्राम
  • विटामिन-ई 
  • (अल्फा-टोकोफेरॉल) : 0.18 मिलीग्राम
  • विटामिन-बी1 (थियामिन) : 0.068 मिलीग्राम
  • विटामिन-बी2 
  • (राइबोफ्लेविन) : 0.051 मिलीग्राम 
  • विटामिन-बी3 (नियासिन) : 0.425 मिलीग्राम
  • विटामिन-बी5
  • (पैंटोथेनिक एसिड) : 0.261 मिलीग्राम
  • विटामिन-बी6 : 0.079 मिलीग्राम
  • विटामिन-बी9 (फोलेट) : 25 माइक्रोग्राम
  • फैटी एसिड सैचुरेटेड : 0.015 ग्राम
  • फैटी एसिड मोनोअनसैचुरेटेड : 0.023 ग्राम
  • फैटी एसिड पॉलीअनसैचुरेटेड : 0.025 ग्राम

ये भी पढ़े- अंगूर खाने के फायदे

संतरे के उपयोग – Uses of Oranges

संतरे के उपयोग निम्न प्रकार से किए जा सकते हैं –

  1. संतरे को छील कर ऐसे ही खाया जाता है।
  2. संतरे का जूस निकालकर पीया जाता है।
  3. संतरे को अन्य सामग्री के साथ सलाद या चाट के रूप में खाया जा सकता है।
  4. संतरे का उपयोग सौन्दर्य प्रसाधन उत्पाद में किया जाता है। 
  5. संतरे के छिलके को सुखाकर पाउडर बनाया जाता है जो त्वचा निखार और त्वचा विकार में उपयोग में लाया जाता है। 
  6. संतरे के फूल का उपयोग इत्र बनाने के लिये किया जाता है।
  7. संतरे के जूस को कॉर्न फ्लोर के संयोजन से हलुआ भी बनाया जाता है। 
  8. संतरे का उपयोग सौंदर्य प्रसाधनों में भी किया जाता है। 

संतरा खाने का सही समय – Right Time to Eat Orange

1. संतरा खाने का सही समय दिन में दोपहर का है। यह समय पाचन की दृष्टि से उत्तम है। 

2. दोपहर का भोजन करने के एक घंटे पहले या भोजन करने के एक घंटा बाद संतरा खाना चाहिए। 

3. खट्टा फल (citrus fruit) होने के नाते इसका सेवन सुबह और रात में नहीं करना चाहिए। इससे गैस या एसिडिटी की समस्या हो सकती हैं। 

संतरा कितना खाना चाहिए? – How Much Orange Should One Eat?

1. एक्सपर्ट्स एक दिन में एक या दो संतरे खाना सुरक्षित मानते हैं इससे अधिक नहीं क्योंकि संतरे के जरिए फाइबर की अधिक मात्रा पेट में जाने से पेट से जुड़ी समस्याएं पैदा हो सकती है।

2. एक दिन में 200 मिली लीटर संतरे का जूस पीया जा सकता है। 

संतरे के बाद क्या नहीं खाना, पीना चाहिए? – What Not to Eat and Drink After Oranges?

संतरे के बाद निम्नलिखित खाद्य/पेय पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए –

  1. दूध और दूध से बनी वस्तुएं – इनसे त्वचा संबंधी समस्याएं/विकार हो सकते हैं। 
  2. संतरा खाने के बाद गाजर नहीं खानी चाहिए। इससे पित्त की आधिकता होने से सीने में जलन हो सकती है।
  3. पपीता संतरा खाने के बाद पपीता भी नहीं खाना चाहिए। इससे पित्त दोष की संभावना रहती है। 
  4. दही संतरा खाने के बाद दही खाना नुकसानदायक हो सकता है।
  5. खीर, हलुआ – संतरा खाने के बाद खीर, हलुआ का सेवन भी नुकसानदायक हो सकता है।

संतरा खाने के फायदे – Benefits of Eating Orange

अब बताते हैं आपको संतरा खाने के फायदे जो निम्नलिखित हैं –

1. इम्युनिटी मजबूत बनाए (Strengthen Immunity)-  संतरा विटामिन-सी का अपार स्रोत है जो एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है और इम्युनिटी के लिये सबसे महत्वपूर्ण घटक माना जाता है। संतरे में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण टॉक्सिंस को शरीर से बाहर निकालने शरीर को फ्री रेडिकल्स से होने वाली क्षति को खत्म कर शरीर को फ्री रेडिकल्स से मुक्त करने का काम करते हैं। इम्युनिटी बढ़ाने में संतरे में मौजूद फास्फोरस, कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज, सोडियम, आयरन, ज़िंक, कॉपर जैसे पोषक तत्व भी मदद करते हैं। 

2. पाचन तंत्र को सही रखे (Keep the Digestive System Healthy)- संतरे में फाइबर की उच्च मात्रा होती है जो भोजन को जल्द पचाने में पाचन तंत्र की मदद करता है। भोजन आसानी से और जल्द पच जाने से पाचन तंत्र की मेहनत भी बचती है और समय भी। फाइबर भोजन को रसादार बनाता है जिससे यह आसानी से पच जाता है और जल्दी भी। फाइबर की वजह से पाचन तंत्र को अधिक मेहनत नहीं करनी पड़ती और ना ही इसका अधिक समय बर्बाद होता है।  

3. कब्ज दूर करे (Relieve Constipation)- फाइबर भोजन को पचाने में पाचन तंत्र की मदद तो करता है परन्तु इसके साथ यह काम भी करता है कि फाइबर मल को ढीला और नरम करता है। परिणामस्वरूप सुबह के समय मल त्याग आराम से हो जाता है। इससे पेट प्राकृतिक रूप से साफ हो जाता है और पेट में गैस बनना या दर्द होना जैसी समस्याएं नहीं होतीं। यदि कब्ज की शिकायत रहती है तो संतरे के नियमित सेवन से यह भी ठीक हो जाएगी।

ये भी पढ़े- एप्पल जूस पीने के फायदे

4. वजन कम करे (Lose Weight)- जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं तो संतरा उनके लिए एक अच्छा विकल्प है। यह वजन कम करने में मदद करता है। दरअसल संतरे में फाइबर की फाइबर की उच्च मात्रा होती है जो लंबे समय तक भूख नहीं लगने देता। इस काम में उच्च मात्रा में मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स और प्रोटीन मदद करते हैं। 

पानी की अधिक मात्रा शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करती है जिससे कमजोरी महसूस नहीं होती। संतरे में फैट की मात्रा कम पाई जाती है। सुबह खाली पेट एक या दो संतरे खा सकते हैं या एक गिलास संतरे का जूस पी सकते हैं। 

5. ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करे (Control Blood Pressure)- हाई ब्लड प्रेशर हृदय स्वास्थ के लिए घातक माना जाता है। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने का काम पोटेशियम करता है। संतरे में पोटेशियम की उच्च मात्रा होती है और सोडियम की बहुत कम। 

ऐसा होना ब्लड प्रेशर के लिए अच्छा माना जाता है। इससे ब्लड प्रेशर का लेवल सामान्य रहता है। पोटेशियम हाई ब्लड प्रेशर को कम करने का काम करता है। इसलिए जिन लोगों का ब्लड प्रेशर हाई रहता है वे नियमित रूप से संतरे का सेवन करते हैं। 

6. कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करे (Control Cholesterol)- बढ़ता हुआ खराब कोलेस्ट्रॉल LDL भी हृदय के लिए घातक होता है। इसके बढ़ने से रक्त वाहिकाओं की क्षति होती है, ये संकुचित हो जाती हैं और इनमें प्लाक जम जाता है। परिणामस्वरूप इनमें रक्त संचालन ठीक से नहीं हो पाता और रक्त प्रवाह में रुकावट आती है। इससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। संतरे में मौजूद पाॅलीमेथाॅक्सिलेटेड फ्लेवोनोइड्स खराब कोलेस्ट्राॅल को अधिक प्रभावी ढंग से कम करने में मदद करते हैं। इसके लिए संतरा खाने के अतिरिक्त इसके छिलके की चाय बनाखर पी सकते हैं।  

7. डायबिटीज में फायदेमंद (Beneficial in Diabetes)- संतरे खाने का फायदा डायबिटीज के मरीजों को भी हो सकता है। एक रिसर्च बताती है कि ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन (HbA1c) टाइप 2 डायबिटीज का मुख्य कारण होता है और संतरे में फाइबर की उच्च मात्रा ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन और ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है। अतः टाइप2 डायबिटीज के मरीज संतरे का सेवन कर सकते हैं। 

8. कैंसर से बचाव करे (Prevent Cancer)- यद्यपि संतरे में एंटी-कैंसर गुण मौजूद होते हैं परन्तु एक सत्य यह भी है कि एंटी-कैंसर गतिविधियां एंटीऑक्सीडेंट पर निर्भर करती हैं। संतरे में विटामिन-सी उच्च मात्रा में मौजूद होता है एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है। संतरे में लिमोनेन (Limonene) नामक यौगिक पाया जाता है जो एंटी-कैंसर गतिविधियां प्रदर्शित करता है। यह लिमोनेन शरीर में 8-10 घंटे तक रहते हुए कैंसर कोशिकाओं के विस्तार को रोकने का काम करता है। इस प्रकार यह यौगिक त्वचा, मुंह, स्तन, फेफड़े, कोलन और पेट के कैंसर से बचाव करता है।

9. त्वचा स्वास्थ के लिए फायदेमंद (Beneficial for Skin Health)- दोस्तो, संतरा त्वचा के स्वास्थ के लिए अत्यंत लाभकारी है। यह त्वचा के स्वास्थ को बनाए रखता है। त्वचा स्वास्थ के लिए आप एक संतरा रोजाना खा सकते हैं या एक गिलास संतरे का जूस पी सकते हैं और संतरे के छिलके को या छिलके के पाउडर को बेसन के साथ मिलाकर फेस मास्क के रूप में उपयोग कर सकते हैं। संतरे के, त्वचा के लिए निम्नलिखित फायदे देखे जा सकते हैं –

(i) गर्मियों में संतरा या संतरे का जूस सूरज की हानिकारक अल्ट्रावायलट किरणों से रक्षा करता है।

(ii) संतरा एंटी-एजिंग प्रभाव प्रदर्शित करते हुए चेहरे की झुर्रियों और फाइनलाइंस को कम करता है जिससे आप अपनी वास्तविक उम्र से कम नजर आते हैं।

(iii) संतरे के छिलके को पीसकर फेस मास्क के रूप में उपयोग करें। यह आंखों के आसपास डार्क स्पॉट को खत्म करने में मदद करता है।

(iv) संतरे के छिलके के पाउडर और बेसन मिलाकर फेस मास्क बनाकर चेहरे पर लगाएं। इससे डैड स्किन और मुंहासों से छुटकारा मिल जाएगा। 

(v) रोजाना संतरा खाने या इसका जूस पीने और सप्ताह में दो बार इसका फेस पैक इस्तेमाल करने से चेहरे का रंग साफ़ होता है और चेहरे पर चमक बनी रहती है।

ये भी पढ़े- ऑटोइम्यून क्या है?

संतरा खाने के नुकसान –  Disadvantages of Eating Orange

संतरा अधिक मात्रा में खाने से हो सकते हैं निम्नलिखित नुकसान –

  1. संतरे में उच्च फाइबर होने के कारण, अधिक मात्रा में खाने से पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं जैसे कि पेट में गैस बनना, पेट में दर्द होना या पेट में ऐंठन।
  2. मितली, उल्टी या दस्त लगना।
  3. एस्कॉर्बिक एसिड और सिट्रिक एसिड की वजह से सीने में जलन हो सकती है।
  4. एस्कॉर्बिक एसिड और सिट्रिक एसिड दांतों की सेंसिटिविटी को बढ़ा सकते हैं विशेषकर उन लोगों के जिनके दांत अधिक सेंसिटिव होते हैं।
  5. एस्कॉर्बिक एसिड और सिट्रिक एसिड सामान्य लोगों के दांतों की एनेमल परत को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

Conclusion – 

दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको संतरे के बारे में विस्तार से जानकारी दी। संतरा क्या है, संतरे की खेती कहां होती है, संतरे के गुण, संतरे के पोषक तत्व, संतरे के उपयोग, संतरा खाने का सही समय, संतरा कितना खाना चाहिए और संतरे के बाद क्या नहीं खाना, पीना चाहिए, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस आर्टिकल के माध्यम से संतरा खाने के बहुत सारे फायदे बताए और संतरा खाने कुछ नुकसान भी बताए। आशा है आपको ये आर्टिकल अवश्य पसन्द आयेगा।

दोस्तो, इस आर्टिकल से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो आर्टिकल के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।
Disclaimer – यह आर्टिकल केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
Advertisements
संतरा खाने के फायदे
Advertisements
Article Name
संतरा खाने के फायदे
Description
आज के आर्टिकल में हमने आपको संतरे के बारे में विस्तार से जानकारी दी। संतरा क्या है, संतरे की खेती कहां होती है, संतरे के गुण, संतरे के पोषक तत्व, संतरे के उपयोग, संतरा खाने का सही समय, संतरा कितना खाना चाहिए और संतरे के बाद क्या नहीं खाना, पीना चाहिए, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *