Advertisements

फार्मूला मिल्क क्या है? – What is Formula Milk in Hindi

फार्मूला मिल्क क्या है?

स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग में। हमारा देता औ  आज का आर्टिकल शिशुओं और छोटे बच्चों की भूख से जुड़ा है। यदि मां के स्तनों में पर्याप्त मात्रा में दूध नहीं आ रहा है या कम आ रहा है या किसी कारणवश मां शिशु को अपना दूध पिलाने में असमर्थ है तो ऐसे में शिशु को क्या दिया जाए जिससे उसका पेट भर जाए। मगर शिशु तो केवल दूध ही पीता है। फिर क्या विकल्प है? दोस्तो, विकल्प स्वरूप शिशु को दूध ही पिलाना पड़ता है मगर पाउडर वाला जिसे फार्मूला मिल्क कहा जाता है। 

इससे शिशु का पेट भी भर जाता है और उसे जरूरी पोषक तत्व भी मिल जाते हैं। इसी तरह छः महीने से ऊपर के बच्चे को भी हल्के फुल्के भोजन के साथ-साथ मां के दूध की भी जरूरत पड़ती है ऐसी स्थिति में उसे भी फार्मूला मिल्क दिया जा सकता है। बस फार्मूला मिल्क का नम्बर बदल जाता है यानि छः महीने तक के शिशु को फार्मूला मिल्क स्टेज 1 तथा छः महीने से ऊपर के बच्चे के लिए फार्मूला मिल्क स्टेज 2. फार्मूला मिल्क स्टेज 2 व्यस्क व्यक्ति भी इस्तेमाल कर सकता है। आखिर यह फार्मूला मिल्क है क्या? दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक “फार्मूला मिल्क क्या है?”। 

देसी हैल्थ क्लब इस आर्टिकल के माध्यम से आपको “फार्मूला मिल्क” के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बताएगा कि इसके क्या फायदे होते हैं। तो सबसे पहले जानते हैं कि फार्मूला मिल्क क्या है और यह क्यों दिया जाता है। फिर, इसके बाद बाकी बिंदुओं पर जानकारी देंगे।

Advertisements

फार्मूला मिल्क क्या है? – What is Formula Milk

फार्मूला मिल्क वस्तुतः दूध का विकल्प है यानि यह एक कृत्रिम दूध है। इसको पाउडर बेस्ड मिल्क भी कहा जाता है। प्रोटीन, फैट, शुगर, विटामिन्स और खनिजों के संयोजन से इस दूध को बनाया जाता है। यह पाउडर के रूप में मिलता है। यहां हम स्पष्ट कर दें कि फार्मूला मिल्क को दूध का विकल्प माना जा सकता है परन्तु यह माता के दूध का स्थान कदापि नहीं ले सकता और ना ही यह गाय या भैंस के दूध का मुकाबला कर सकता है। 

इसे भारत में बहुत कंपनियां बनाती हैं जिनका जिक्र हम आगे करेंगे। फार्मूला मिल्क दो स्टेज में आता है – स्टेज 1 तथा स्टेज 2। फार्मूला मिल्क स्टेज 1, छः महीने तक के शिशुओं के लिये होता है और फार्मूला मिल्क स्टेज 2, सात महीने की आयु के बाद के बच्चों के लिये। डॉक्टरों के अनुसार फार्मूला मिल्क स्टेज 2, एक वर्ष तक दिया जा सकता है तथा इसे सभी व्यस्क सामान्य दूध के तौर दूध के विकल्प के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

ये भी पढ़े- बच्चो की त्वचा की देखभाल कैसे करें

Advertisements

फार्मूला मिल्क क्यों दिया जाता है? – Why is Formula Milk Given?

डॉक्टर्स निम्नलिखित स्थितियों में बच्चों को फार्मूला मिल्क पिलाने की सलाह देते हैं इसे शिशु के लिए सुरक्षित विकल्प माना जाता है –

  1. शिशु जब किसी वजह से अपनी मां का स्तनपान नहीं कर पा रहा हो।
  2. मां के स्तनों में दूध ना बनना।
  3. मां के स्तनों में दूध बहुत कम मात्रा में बनना जो शिशु के लिए पर्याप्त ना हो।
  4. जब मां के स्तनों में दूध की गुणवत्ता खराब हो चुकी हो और दूध शिशु को फायदा करने के बजाय नुकसान पहुंचाने की संभावना हो।
  5. मां किसी गंभीर बीमारी या संक्रमण से पीड़ित हो।
  6. छः महीने के बाद, हल्के-फुल्के भोजन के साथ, यदि मां का दूध पूरी मात्रा में नहीं आ रहा है तो डॉक्टर फार्मूला मिल्क स्टेज 2 देने की सलाह दे सकते हैं। 

फार्मूला मिल्क के पोषक तत्व – Nutrients of Formula Milk

चूंकि फार्मूला मिल्क कई कंपनियां बनाती हैं इसलिये हर ब्रांड के पोषक तत्वों की मात्रा कम ज्यादा हो सकती है। अतः हम फार्मूला मिल्क स्टेज 1 और स्टेज 2 के सामान्य पोषक तत्वों के बारे में बता रहे हैं जो निम्न प्रकार हैं –

(A) फार्मूला मिल्क स्टेज 1 के पोषक तत्व – 

एनर्जी, विटामिन-ए, डी, सी, के, बी-1, 2, 3, 6, 12, पेनथोथेनिक एसिड, बायोटिन, टॉरिन, कोलिन, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, शुगर, फैट, सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, क्लोराइड, कॉपर, ज़िंक, सेलेनियम, आयोडीन और मैंगनीज। 

(B) फार्मूला मिल्क स्टेज 2 के पोषक तत्व – 

एनर्जी, विटामिन-ए, डी, सी, के, बी-1, 2, 3, 6, 12, पेनथोथेनिक एसिड, बायोटिन तथा कोलिन, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, कोलेस्ट्रॉल, शुगर, फैट, सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, क्लोराइड, कॉपर, ज़िंक, सेलेनियम, आयोडीन और मैंगनीज। 

मां के दूध और फार्मूला मिल्क में अंतर – Difference Between Mother’s Milk and Formula Milk

दोस्तो, मां का दूध अतुल्य (incredible) तथा अतुलनीय (beyond compare) है। यह बच्चे के लिए अमृत के समान होता है। इसकी तुलना किसी के साथ हो ही नहीं सकती। मां के दूध में ग्लिसरॉल मोनोलॉरेट नामक एक घटक उपस्थित होता है, जो हानिकारक बैक्टीरिया को पनपने से रोकता है और बच्चे की रक्षा करता है। गाय के दूध की तुलना में मां के दूध में ग्लिसरॉल मोनोलॉरेट लगभग 200 गुणा अधिक होता है।

ये भी पढ़े- बच्चो की पेट के कीड़े कैसे निकाले

फार्मूला मिल्क के प्रकार – Types of Formula Milk

फार्मूला मिल्क कई प्रकार के होते हैं, कुछ का विवरण निम्न प्रकार है –

1. गाय के दूध वाला फार्मूला मिल्क (Cow Milk Formula Milk)- यह फार्मूला मिल्क गाय के दूध के प्रोटीन से बनाया जाता है। ताकि यह शिशु को ब्रेस्टमिल्क की भांति लगे। इसमें लैक्टोज और मिनरल भी शामिल होते हैं। यहां हम स्पष्ट कर दें कि कोई भी फार्मूला मिल्क मां के दूध के समान नहीं होता

2. सोया आधारित फॉर्मूला मिल्क (Soy Based Formula Milk)- इस फार्मूला मिल्क को सोया प्रोटीन से बनाया जाता है। यह विशेषतौर पर उन बच्चों के लिए तैयार किया गया है जो लैक्टोज पचाने में अक्षम होते हैं। यह फार्मूला मिल्क सरलता से पच जाता है।

3.  हाइपोएलर्जेनिक फार्मूला मिल्क (Hypoallergenic Formula Milk)- जिन बच्चों को दूध प्रोटीन से एलर्जी है, विशेषतौर पर उनके लिये यह फार्मूला मिल्क तैयार किया गया है। प्रोटीन से एलर्जी होने पर त्वचा पर रैशेज पड़ जाना, सांस लेने में परेशानी या घरघराहट जैसे लक्षण प्रकट होते हैं। इस फार्मूला मिल्क की कीमत अन्य की तुलना में थोड़ा ज्यादा होती है।

4.  व्यापक हाइड्रोलाइज्ड फार्मूला (Comprehensive Hydrolyzed Formula)- जिन बच्चों को पोषक तत्व पचाने में दिक्कत होती है या जिन्हें एलर्जी है, उनके लिए यह उचित फार्मूला मिल्क है। यह फार्मूला मिल्क प्रोटीन को छोटे-छोटे हिस्सों में तोड़ देता है जिससे बच्चों को पचाने में आसानी रहती है। 

5. लैक्टोज फ्री फार्मूला (Lactose free Formula)- जिन बच्चों को लैक्टोज से एलर्जी होती है अथवा वे लैक्टोज युक्त खाद्य पदार्थों को पचा पाने में असमर्थ होते हैं उनके लिये यह परफेक्ट दूध है। ऐसे मामलों में डॉक्टर लैक्टोज फ्री फार्मूला मिल्क सलाह देते हैं। 

6. स्पेशलाइज्ड फार्मूला (Specialized Formula)- जो बच्चे समय से पहले जन्म लेते हैं या जिनको कोई विशेष स्वास्थ्य समस्या/विकार है, उनके लिए यह विशेष रूप से तैयार किया गया है। इसमें अन्य फार्मूला मिल्क की तुलना में लगभग 20% पोषक तत्व ज्यादा होते हैं।

फार्मूला मिल्क के प्रसिद्ध ब्रांड – Famous Brands of Formula Milk

भारत में उपलब्ध कुछ प्रसिद्ध फार्मूला मिल्क ब्रांड निम्न प्रकार हैं –

  • इन्फामिल इन्फेंट फॉर्मूला (Enfamil infant formula)
  • नेस्ले लेक्टोजेन (Nestle Lactogen)
  • नेस्ले नैन प्रो (Nestle NAN PRO)
  • सिमिलैक एडवांस इन्फेंट फॉर्मूला (Similac Advance Infant Formula)
  • फैरेक्स 1 इन्फेंट फॉर्मूला रीफिल (Farex 1 Infant Formula Refill)
  • आप्टामिल गोल्ड (Aptamil Gold)
  • डेक्सोलैक शिशु फार्मूला मिल्क पाउडर (Dexolac Infant Formula Milk Powder)
  • लैक्टोडेक्स स्टार्टर फार्मूला (Lactodex Starter Formula)
  • फैरेक्स 1 शिशु फार्मूला रिफिल (Farex 1 Infant Formula Refill) 
  • नेस्ले लेक्टोजेन 4 (Nestle LACTOGEN 4)

कुछ सावधानियां – Some Precautions

दोस्तो, फार्मूला मिल्क के बारे में और बच्चे को देते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें –

  1. फार्मूला मिल्क खरीदते समय इसकी समाप्ति की तारीख (expiry date) चैक कर लें। 
  2. फार्मूला मिल्क बनाने से पहले बोतल, बोतल का ढक्कन और निप्पल को अच्छी तरह पानी में उबाल लें। 
  3. फार्मूला मिल्क बनाने के लिए भी पानी को अच्छी तरह उबाल कर बहुत हलका गुनगुना होने तक ठंडा कर लें। 
  4. बच्चे को फार्मूला दूध देने से पहले अपने हाथ पर दूध की कुछ बूंदें गिराकर दूध का तापमान चैक कर लें। यह बहुत गर्म या बहुत ठंडा ना हो। 
  5. दूध की बोतल सीधी पकड़ें, बच्चे का सिर थोड़ा ऊपर उठा होना चाहिए, नीचे की तरफ ना हो ताकि बच्चा आराम से दूध पी सके।
  6. बचे हुए दूध को फैंक दें, इसे दुबारा ना पिलाएं।
  7. जितनी बार भी दूध बनाएं, हर बार बोतल और निप्पल को उबाल कर दूध बनाएं।
  8. जिस बर्तन में पानी उबालें या बोतल, निप्पल उबालें, सुनिश्चित करें कि वह बर्तन साफ़ हो। गंदा बर्तन और बिना उबली बोतल व निप्पल से संक्रमण का खतरा रहता है।
  9. याद रखें कि फार्मूला मिल्क को कभी माइक्रोवेव में गर्म न करें। इसे गैस वाले चूल्हे पर ही गर्म करें।
  10. बच्चे को जब भूख लगे तभी दूध पिलाएं, जबर्दस्ती दूध ना पिलाएं।

फार्मूला मिल्क के फायदे – Benefits of Formula Milk

फार्मूला मिल्क के फायदे निम्न प्रकार हैं –

1. बच्चा भूखा नहीं रहता (The Child is not Hungry)- फार्मूला मिल्क का सबसे बड़ा फायदा यह है कि मां का दूध ना मिल पाने की स्थिति में बच्चा भूखा नहीं रहता। यद्यपि उसे मां के दूध के पोषक तत्वों की गुणवत्ता तो नहीं मिलती परन्तु उसकी आवश्यक पोषक तत्वों की भरपाई फार्मूला मिल्क से अवश्य हो जाती है।

2. लंबे समय तक पेट भरा रहता है (Keeps the Stomach Full for a Long Time)- जो बच्चे अपनी मां का दूध पीते हैं उनको बहुत जल्दी-जल्दी भूख लगती है क्यों कि मां का दूध  बहुत जल्दी पच जाता है। परन्तु फार्मूला मिल्क देर से पचता है इसलिए बच्चे का पेट लंबे समय तक भरा रहता है। इसके बावजूद भी बच्चे के स्वास्थ के आधार पर उसे 6 से 8 बार फार्मूला मिल्क दिया जा सकता है।

3. बच्चे के विकास में सहायक (Helpful in Child Development)- मां के दूध से बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास प्राकृतिक रूप से होता है। फार्मूला मिल्क में डोकोसैक्सिनोइक एसिड (Docosahexaenoic Acid – DHA) उपस्थित होता है जो बच्चे के शारीरिक और मस्तिष्क के विकास में सक्रिय भूमिका निभाता है। 

4. मां अपनी इच्छानुसार खा सकती है (Mother Can Eat Whatever she Wants)- जो माताएं शिशुओं को स्तनपान कराती हैं उनको बहुत सोच समझकर खाने के लिए अपना आहार चुनना पड़ता है क्यों कि वो जो भी कुछ खाती हैं उस भोजन का प्रभाव सीधे रूप से शिशु पर पड़ता है। 

उदाहरण के तौर पर यदि मां अचार या खट्टे खाद्य पदार्थ खाती है तो शिशु को खांसी होने की संभावना बन जाती है। शिशु को फार्मूला मिल्क देने पर मां को अपने खाने पीने के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं रहती, वह अपनी इच्छा से कुछ भी खा सकती है।

ये भी पढ़े- छोटे बच्चों का वजन बढ़ाने के उपाय

5. मां स्वछन्द रहती है (Mother is Free)- शिशु को स्तनपान कराने वाली मां एक बंधन में बंधी रहती है। उसे आराम नहीं मिल पाता और ना ही उसकी नींद पूरी हो पाती है। पब्लिक प्लेस में भी उसे स्तनपान कराने के लिए अलग से स्थान ढूंढना पड़ता है। 

बच्चे को फार्मूला दूध देने का फायदा यह है कि इसे परिवार का कोई भी सदस्य बनाकर बच्चे को पिला सकता है, जरूरी नहीं है कि मां ही बोतल पिलाए। इस प्रकार मां अपने काम समय पर कर सकती है। उसे कोई स्पेशल शेड्यूल बनाने की जरूरत नहीं होती। एक प्रकार से मां निश्चिंत हो जाती है वह बच्चे के कामों में ही नहीं घिरी रहती। वह स्वछन्द महसूस करती है।

फार्मूला मिल्क के नुकसान – Disadvantages of Formula Milk

अब नजर डालते हैं फार्मूला मिल्क के नुकसानों पर जो निम्न प्रकार हैं –

1. एंटीबॉडीज की कमी (Lack of Antibodies)- फार्मूला मिल्क का सबसे नकारात्मक पहलू यह है कि इसमें वो एंटीबॉडीज नहीं होतीं जो मां के दूध से मिलती हैं। परिणाम स्वरूप बीमारियों के विरुद्ध सुरक्षा भी मां के दूध से मिलने वाली सुरक्षा की तुलना में कम होती है।

2. मां के दूध के गुण नहीं (No Qualities of Mother’s Milk)- बेशक फॉर्मूला मिल्क का प्रारूप मां के दूध की समान है परन्तु जो गुण और पोषक तत्वों की गुणवत्ता मां के दूध में है, वह फार्मूला मिल्क में नहीं है।  

3. बनाने में समय लगता है (It Takes time to Make)- मां का दूध हर समय उपलब्ध होता है, जब भी बच्चे को भूख लगे मां पिला देती है। परन्तु फार्मूला मिल्क को बनाने में समय लगता है। यदि उबला हुआ गुनगुना पानी भी तैयार है और दूसरी बोतल भी उबली हुई तैयार है फिर भी दूध बनाने में समय लगता है। यह तुरन्त उपलब्ध नहीं होता। 

4. गैस या कब्ज की संभावना (Possibility of Gas or Constipation)- स्तनपान करने वाले बच्चों की तुलना में फार्मूला मिल्क पीने वाले बच्चों में पेट में गैस बनने अथवा कब्ज की समस्या, की संभावना अधिक रहती है।

5. संक्रमण का खतरा (Risk of Infection)- यदि आलस के कारण बोतल, निप्पल को बार-बार ना उबाला जाए तो यह असावधानी बैक्टीरियल संक्रमण को निमन्त्रण दे सकती है।

6. महंगा है (Costly)- सभी फार्मूला मिल्क महंगे होते हैं जिनको आम आदमी वहन नहीं कर सकता। 

Conclusion –

दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको फार्मूला मिल्क के बारे में विस्तार से जानकारी दी। फार्मूला मिल्क क्या है?, फार्मूला मिल्क क्यों दिया जाता है, फार्मूला मिल्क के पोषक तत्व, मां के दूध और फार्मूला मिल्क में अंतर, फार्मूला मिल्क के प्रकार, फार्मूला मिल्क के प्रसिद्ध ब्रांड और कुछ सावधानियां, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस आर्टिकल के माध्यम से फार्मूला मिल्क के फायदे बताए और कुछ नुकसान भी बताए। आशा है आपको ये आर्टिकल अवश्य पसन्द आयेगा।

दोस्तो, इस आर्टिकल से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो आर्टिकल के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह आर्टिकल केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
Advertisements
फार्मूला मिल्क क्या है?
Advertisements
Article Name
फार्मूला मिल्क क्या है?
Description
दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको फार्मूला मिल्क के बारे में विस्तार से जानकारी दी। फार्मूला मिल्क क्या है?, फार्मूला मिल्क क्यों दिया जाता है, फार्मूला मिल्क के पोषक तत्व, मां के दूध और फार्मूला मिल्क में अंतर, फार्मूला मिल्क के प्रकार, फार्मूला मिल्क के प्रसिद्ध ब्रांड और कुछ सावधानियां, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *