दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। दोस्तो, इस दुनियां में पानी के अतिरिक्त यदि कोई और सबसे ज्यादा पीया जाने वाला पेय पदार्थ है तो वह है चाय। चाय के बिना अतिथि सत्कार में भी नहीं होता। यदि यह चाय स्वास्थ्यवर्धक हो जाये तो और भी अच्छा है। जी हां हम बात कर रहे हैं एक ऐसी ही चाय की जो औषधीय गुणों से समृद्ध होती है और अनेक बीमारियों से बचाकर स्वास्थ्य की रक्षा करती है। इसका रंग रूप और स्वाद भी सामान्य चाय से अलग होता है। इस चाय का नाम है ग्रीन टी। ग्रीन टी का स्वाद हर किसी को पसंद भी नहीं आता। दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक ” ग्रीन टी के फायदे और नुकसान”। देसी हेल्थ क्लब इस लेख के माध्यम से आपको ग्रीन टी के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बतायेगा कि ग्रीन टी के फायदे होते हैं और क्या नुकसान। तो सबसे पहले जानते हैं ग्रीन टी के बारे में कि ग्रीन टी क्या होती है?

ग्रीन टी के फायदे

ग्रीन टी क्या है? – What is Green Tea

ग्रीन टी “कैमेलिया साइनेन्सिस” नामक पौधे की पत्तियों से बनाई जाती है। इस पौधे की पत्तियों से ग्रीन टी के अतिरिक्त ब्लैक टी भी बनाई जाती है। ग्रीन टी को बनाने के लिये कैमेलिया साइनेन्सिस पौधे की ताजा पत्तियों को तोड़ने कर तुरंत भाप दी जाती है, ताकि ग्रीन टी का  निर्माण भली-भांति हो सके। ग्रीन टी बनाने की यह प्रक्रिया स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले प्राकृतिक पॉलीफेनोल्स को संरक्षित करती है। फिर मशीन द्वारा जरूरी एंजाइम्स को निकालने के बाद उन्हें सूखने और ऑक्सीकरण के लिए रखा जाता है।

कैमेलिया साइनेन्सिस की खेती कहां होती है? – Where is Camellia Sinensis Cultivated

1. इसकी कई किस्म होती हैं। मूल रूप से यह पूर्वी एशिया में उगने वाला पौधा, एक झाड़ी या पेड़ जितना बड़ा हो सकता है। इसकी खेती पूरे एशिया महाद्वीप, मिडल ईस्ट और अफ्रीका के कुछ भागों में भी होती है।

2. हमारे देश भारत में असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, सिक्किम, मणिपुर, मिजोरम, मेघालय और नागालैंड में चाय का उत्पादन होता है। 

ग्रीन टी के प्रकार – Types of Green Tea

दोस्तो, ग्रीन टी अनेक प्रकार होते हैं जिनमें कुछ प्रकार के नाम निम्नलिखित हैं –

1. फुकमुशी सेन्चा

2. ग्योकुरो

3. क्यूबुसेचा 

4. माचा 

5. जैस्मीन 

6. मोरक्को 

7. गेन माचा 

8. ड्रैगन वेल

9. होजीचा 

10. कुकीचा 

11.  बिलोचन 

ग्रीन टी किन रूपों में मिलती है? – What are the forms of Green Tea

1. बोतलबंद (bottled and sweetened with sugar or an artificial sweetener)।

2. टी बैग के रूप में (in single tea bags)।

ये भी पढ़े- डार्क चॉकलेट के फायदे

3. पत्तियों के रूप में (as loose-leaf)।

4. पाउडर के रूप में (in instant-powder)।

5. ग्रीन टी पूरक के रूप में (green tea supplements जोकि कैप्सूल या तरल रूप में)।

ग्रीन टी के गुण – Properties of Green Tea

1. ग्रीन टी की तासीर गर्म होती है। 

2. इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी और फ्लेवोनोइड्स गुण होते हैं।

3.  पोषक तत्व प्रति

पानी 99.93 ग्राम

एनर्जी 1 केसीएल

प्रोटीन 0.22 ग्राम

आयरन 0.02 मि.ग्रा।

मैग्नीशियम 1 मि.ग्रा।

पोटेशियम 8 मि.ग्रा।

सोडियम 1 मि.ग्रा।

कॉपर   0.004 मि.ग्रा।

जिंक 0.01 मि. ग्रा।

थियामिन 0.007 मि.ग्रा।

राइबोफ्लेविन 0.058 मि.ग्रा।

नियासिन 0.03 मि.ग्रा।

मैंगनीज   0.184 मि.ग्रा।

ये भी पढ़े- स्टेरॉयड क्या होता है ?

विटामिन बी-6   0.005 मि.ग्रा।

कैफीन 12 मि.ग्रा।

ग्रीन टी पीने का सही समय – The Right Time to Drink Green Tea

1. ध्यान रहे कि सुबह-सुबह खाली पेट ग्रीन टी ना लें। क्योंकि खाली पेट ग्रीन टी पीने से इसका सीधा प्रभाव मेटाबॉलिज्म पर पड़ता है, आपके सिर में दर्द भी हो सकता है, माइग्रेन होने की संभावना रहती है। ब्लड प्रेशर भी बढ़ सकता है। 

2. सुबह नाश्ते से पहले ग्रीन टी ना पीयें। यदि पीनी ही है तो कुछ बिस्किट्स, कोई फल या भुने चने या कुछ और पहले खा लें फिर ग्रीन टी पीयें। 

3. नाश्ता और दोपहर के भोजन के एक घंटे के बाद ग्रीन टी पीना अच्छा रहता है। 

ये भी पढ़े- OCD क्या होता है? पूरी जानकारी

4. व्यायाम करने से कम से कम आधे घंटे पहले ग्रीन टी पीने से स्टेमिना बढ़ता है।

5.  ग्रीन टी रात में ना पीयें क्योंकि इसमें मौजूद कैफीन से नींद ना आने की समस्या बन सकती है। 

ग्रीन टी के फायदे – Benefits of Green Tea

1. प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार (Defence System)- ग्रीन टी में पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने के साथ-साथ शरीर को फ्री रेडिकल्स से बचाने में भी मदद करते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार लाकर इसे मजबूत बनाते हैं। इस आशय से दिन में दो बार सुबह और शाम ग्रीन टी, पी लेनी चाहिये।  

2. वजन कम करे(Weight Lose) – ग्रीन टी पीने से वजन कम करके अपना मोटापा कम कर सकते हैं। इसमें पाये जाने वाला फ्लेवोनॉयड जिसे कैटेचिन कहा जाता है और जो की एक एंटीऑक्सीडेंट होता है और कैफीन मिलकर फैट ऑक्सीडेशन (फैट बर्निंग) का काम करते हैं। इसमें पाये जाने वाले अन्य यौगिक (Compounds) भी मेटाबॉलिज्म को बढ़ाकर वजन कम करने में मदद करते हैं। परन्तु वजन कम करने के लिये सिर्फ ग्रीन टी पीना ही काफी नहीं है इसके लिए नियमित रूप से व्यायाम, योग और संतुलित आहार भी आवश्यक है। 

3. मस्तिष्क के लिये (Brain)- ग्रीन टी पीने से मस्तिष्क का स्वास्थ सही बना रहता है। इसमें पाये जाने वाले बायोएक्टिव compounds न्यूरॉन्स पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं जिससे एकाग्रता (constration) में बढ़ोत्तरी होती है। अल्जाइमर और पार्किंसंस जैसे रोगों के कारण होने वाली क्षति से भी बचाव होता है और आपकी स्मृति शक्ति बनी रहती है। इसके लिये प्रतिदिन दो बार ग्रीन टी पीयें। 

4. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करे(Control Cholesterol) – ग्रीन टी पीने का यह भी फायदा है कि यह आपके कोलेस्ट्रॉल का लेवल सही मेंटेन रहता है। यह खराब वाले कोलेस्ट्रॉल Low Density Lipoprotein (LDL) के लेवल को कम करती है और अच्छे वाला कोलेस्ट्रॉल High Density Lipoprotein (HDL) की मात्रा को बढ़ाती है। यह बात हार्वर्ड मेडिकल स्कूल की एक रिपोर्ट में भी कही गई है कि ग्रीन-टी हानिकारक कोलेस्ट्रॉल, जो हृदय रोग को बढ़ाता है, उसके लेवल को कम कर सकती है।

ये भी पढ़े- कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय

5. रक्तचाप के लिये (Blood Pressure)-  रक्तचाप की समस्या सामान्यतः  एंजियोटेंशिन-कन्वर्टिंग एंजाइम (Angiotensin-converting Enzyme – ACE) की वजह से बनती है जो कि किडनी द्वारा उत्पादित होता है। वैसे तो इस एंजाइम को रोकने के लिए दवाएं होती हैं परन्तु ग्रीन टी एक प्राकृतिक ACE अवरोधक के प्रभाव छोड़ती है और रक्तचाप को नियंत्रित करती है। NCBI की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध में भी यही कहा गया है कि ग्रीन टी का सेवन ब्लड प्रेशर को कम कर सकता है। आंतरिक चिकित्सा के अभिलेखागार में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक यदि डेढ़ से ढाई कप ग्रीन टी का सेवन लगभग एक वर्ष तक नियमित रूप में करते रहें तो, वे उच्च रक्तचाप के खतरे से ग्रीन टी सेवन न करने वाले लोगों की अपेक्षा 46% कम प्रभावित होंगे।

6. डायबिटीज के लिये फायदेमंद (Diabetes)- ग्रीन टी डायबिटीज से बचाव करने में भी मदद करती है। ग्रीन टी में एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं। यह अग्नाशय (Pancreas) इंसुलिन (Insulin) के उत्पादन को बढ़ाती है और ब्लड शुगर के स्तर को नियन्त्रित करती है।  यह टाइप 1 डायबिटिक लोगों में शुगर को अवशोषित करती है और टाइप 2 डायबिटीज में शुगर में बढ़ोतरी को रोकने में मदद करती है।  

ये भी पढ़े- डायबिटीज के घरेलु उपाय

7. हृदय के लिये (Heart)- एक अध्ययन के अनुसार ग्रीन टी में फ्लेवोनॉयड जिसे कैटेचिन कहा जाता है, मौजूद होता है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट होता है जो एथेरोस्क्लेरोसिस (Atherosclerosis), धमनियों में प्लाक के जमने जैसी बीमारी की संभावना को कम कर सकता है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल की एक रिपोर्ट में भी कहा गया है कि  ग्रीन-टी पीना हृदय के लिए फायदेमंद हो सकता है। वैसे भी हृदय को खराब कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने, उच्च रक्तचाप और डायबिटीज से खतरा होता है। ग्रीन टी इन तीनों को ही नियन्त्रित करती है इसलिये हृदय स्वतः ही सुरक्षित हो जाता है।

8. तनाव, अवसाद में फायदेमंद (Depression)- ग्रीन टी में कैफीन पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो तनाव और अवसाद (Depression) की स्थिति को तोड़कर राहत पहुंचाने में मदद करता है। वहीं दूसरी ओर एक अध्ययन से पता चला है कि ग्रीन-टी में पाये जाने वाला पॉलीफेनोल्स तत्व एंटीडिप्रेसेंट प्रभाव उत्पन्न करता है। इसके ये एंटीडिप्रेसेंट प्रभाव तनाव और अवसाद की स्थिति को खत्म करने के लिये लाभदायक हो सकते हैं। 

9. दांतों के स्वास्थ्य के लिये फायदेमंद (Dental Health)- ग्रीन टी का सेवन दांतों के स्वास्थ्य के लिये अत्यंत लाभकारी है। ग्रीन टी में प्राकृतिक फ्लोराइड (Fluoride) और पॉलिफेनोल्स (Polyphenols) पाये जाते हैं। इसके अतिरिक्त ग्रीन टी में कैटेचिन (एक प्राकृतिक फिनोल एंटीऑक्सीडेंट) भी पाया जाता है। ये सब मुंह के लिए हानिकारक स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स नामक बैक्टीरिया को पनपने को रोकते हैं। यह बैक्टीरिया मुंह में प्लाक का निर्माण करता है और प्लाक दंत क्षय, दांतो में कीड़ा लग जाना, सांसों की बदबू जैसी समस्याओं का कारण बनता है। एक भारतीय अध्ययन के मुताबिक ग्रीन टी में मौजूद कैटेचिन, मुंह के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले पी। जिंजिवलिस (P। gingivalis), प्रीवोटेला इंटरमीडिया (Prevotella Intermedia) और प्रीवोटेला निग्रेसेंस (Prevotella Nigrescens) जैसे बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकता है। ग्रीन-टी में मौजूद पॉलीफेनोल्स एंटी-प्लाक दांतों में प्लाक को जमने से रोकते हैं।

10. हड्डियों की मजबूती के लिये (Strengthen Bones) – ग्रीन टी हड्डियों के स्वास्थ्य के लिये भी बेहतर है। ग्रीन टी पॉलीफेनोल सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के कारण हड्डियों को होने वाली क्षति की संभावना को कम करती है। ग्रीन टी में पाये जाने वाला फ्लोराइड हड्डियों में मजबूती बनाए रखने में मदद करता है। ग्रीन टी में पाये जाने वाले बायो एक्टिव कंपाउंड अस्थि खनिज घनत्व (Bone Mineral Density – BMD) में सुधार कर फ्रैक्चर के खतरे को कम करते हैं। इतना ही नहीं ये कंपाउंड हड्डी टूटने की प्रक्रिया (Osteoclastic Activities) की गतिविधियों को कम करते हैं और हड्डियों के बनने की प्रक्रिया (Osteoblastic Activities) को भी में सुधारते हैं।

11. कैंसर से बचाव (Cancer Prevention)-  दोस्तो, सबसे पहले देसी हेल्थ क्लब यहां स्पष्ट करता है कि कैंसर एक गंभीर बीमारी है जिसका उपचार केवल डॉक्टरी चिकित्सा है ना कि कुछ और। घरेलू उपाय केवल बचाव कर सकते हैं ताकि कैंसर ना बने। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट द्वारा प्रयोगशाला में पशुओं पर किये अध्यन से पता चला कि ग्रीन टी में पाये जाने वाला पॉलीफेनॉल ट्यूमर को बढ़ने से रोक सकता है और Ultraviolet Rays से होने वाली क्षति को भी कम सकता है। कई अध्ययनों से यह भी पता चला कि ग्रीन टी  के एंटीऑक्सीडेंट्स अनेक प्रकार के कैंसर जैसे ब्रेस्‍ट कैंसर, प्रोस्टेट, डिम्बग्रंथि (ovarian), कोलोरेक्टल, अग्नाशय, मूत्राशय, फेफड़े, त्वचा भोजन-नलिका,पेट का कैंसर आदि होने की संभावना कम कर सकते हैं।

12. बालों के स्वास्थ्य के लिये (Hair)- बालों के स्वास्थ्य के लिये ग्रीन टी पीने के अलावा आप बालों में लगा भी सकते हैं। इसके लिए दो गिलास पानी में चार ग्रीन टी के बैग 10 मिनट के लिए डाल दें। बालों को शैम्पू , कंडीशनर करने के बाद ग्रीन टी वाले पानी से बालों को धो लें। हफ्ते में इसे तीन दिन कर सकते हैं। ग्रीन टी में विटामिन-B (पेंथेनॉल) भी होता है, जो दो मुंहे बालों को कम करने में मदद करता है। यह बालों के कूप को मजबूत करता है और बालों को नरम बनाता है।  एक शोध के अनुसार ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट एपिग्लो कैटेचिन गैजेट (Epigallocatechin gadget – EGCG) होता है जो बालों के विकास में मदद करता है और बालों के झड़ने को रोकता है। ग्रीन टी के पानी से बाल धोने से डैंड्रफ की समस्या भी खत्म हो जाती है। 

ये भी पढ़े- बालो को झड़ने से रोकने के उपाय

कुछ ब्रांडेड ग्रीन टी – Some Branded Green Tea

1. लिप्टन ग्रीन टी (Lipton Green Tea)- यह बहुत प्रसिद्ध ब्रांड है। जीरो कैलोरी वाली यह ग्रीन टी, हृदय और त्वचा के लिये फायदेमंद है। छोटे और बड़े दोनों ही पैक में उपलब्ध है। टी बैग्स में पत्तियों की मात्रा कम होती है, इसका स्वाद कृत्रिम लग सकता है।

2. तुलसी ग्रीन टी (Tulsi Green Tea)- ऑर्गेनिक इंडिया की ब्रांड की यह तुलसी, नींबू और अदरक वाली ग्रीन टी बहुत ही स्वादिष्ट होती है। इसकी गर्म और ठंडी (Ice tea) भी बना सकते हैं।  यह फाइटोन्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है। यह हृदय स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है और इम्यूनिटी को मजबूत करती है। इसके अधिक पीने से एसिडिटी हो सकती है।

Tulsi Green Tea

3. गिरनार डिटॉक्स ग्रीन टी देसी कहवा (Girnar Detox Green Tea)- यह मिक्स्ड मसाले और जड़ी-बूटियों वाली, तेज सुगंध वाली ग्रीन टी है। इसमें सोडियम अधिक मात्रा में होता है इस वजह हो सकता है कि यह हाई ब्लड प्रेशर वालों को सूट ना करे। इसके अलग-अलग साइज के पैक मिल जाते हैं। 

Girnar Detox Green Tea

4. टाइफू ग्रीन टी (Typhoo Green Tea)- यह 100 वर्ष पुराना प्रतिष्ठित ब्रिटिश ब्रांड है, कंपनी के अनुसार इसमें चीनी, प्रिजर्वेटिव और कोई आर्टिफिशियल फ्लेवर नहीं है, यह अनोखे प्रकार के कैटेचिन से भरपूर है और इसमें शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट भी हैं। यह ग्रीन टी स्वाद में बहुत हल्की है।

Typhoo Green Tea

5. टेटली ग्रीन टी लेमन एंड हनी (Tetley Green Tea Lemon and Honey)- टेटली भी एक जाना-माना प्रतिष्ठित ब्रांड है।  इस ग्रीन टी में नींबू , शहद, अदरक, मिंट और कई अन्य मिश्रण मौजूद होते हैं जो इसके स्वाद को अनूठा बनाते हैं। यह मेटाबॉलिज्म में सुधार करती है और इम्यूनिटी को बढ़ाती है। यह छोटे-बड़े पैक में आसानी से मिल जाती है।  इसके अधिक सेवन से एसिडिटी की समस्या हो सकती है। 

Tetley Green Tea Lemon and Honey

ग्रीन टी कितनी पी सकते हैं – How Much Can You Drink Green Tea

डॉक्टरों के अनुसार एक दिन में ज्यादा से ज्यादा 3 कप ग्रीन टी पी सकते हैं,  इससे ज्यादा नहीं पीनी चाहिए।

ग्रीन टी के नुकसान – Side Effects of Green Tea

1. जैसा कि डॉक्टर्स कहते हैं कि ग्रीन टी ज्यादा से ज्यादा 3 कप पी सकते हैं। इससे ज्यादा ग्रीन टी पीने से शरीर में पानी की कमी की समस्या बन सकती है।  

2. ग्रीन टी ज्यादा पीने से शरीर में कैल्शियम मूत्र  के रास्ते निकल जाता है। यदि, कैल्शियम का निकास ज्यादा होगा तो शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाएगी और ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) अस्थि रोग की समस्या बन सकती है।

3. ग्रीन टी में कैफीन मौजूद होता है।  ग्रीन टी के अधिक सेवन से अनिद्रा, सिरदर्द, कंपकंपी,पेट की ख़राबी, उल्टी, दस्त आदि की समस्या हो सकती है। 

4. ग्रीन टी में टैनिन होने के कारण भोजन से पहले ग्रीन टी पीने से पेट में दर्द, मिचली, उल्टी या कब्ज की समस्या बन सकती है। 

5. ग्रीन टी में कैटेचिन होता है। इसके कारण भोजन से आयरन के अवशोषण (absorption) में कमी हो सकती है। 

6. ग्रीन टी में टैनिक एसिड (Tannic Acid) मौजूद होता है जिसके कारण दांतों में दाग बन सकते हैं।

7. गर्भावस्था में 300 मि।ग्रा।से अधिक कैफीन का सेवन गर्भावस्था की समय अवधि बढ़ सकती है। इसलिये गर्भावस्था में ग्रीन टी के सेवन डॉक्टर की सलाह के अनुसार करें। 

8. यदि दवाओं का सेवन कर रहे हैं, तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही ग्रीन टी का सेवन करें ताकि ग्रीन टी किसी भी दवा के साथ कोई प्रतिक्रिया ना दे। 

Conclusion – 

दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको ग्रीन टी के फायदे के बारे में विस्तृत जानकारी दी। ग्रीन टी क्या होती है, कहां इसकी खेती होती है, यह कितने प्रकार की होती है, किस रूप में मिलती है, इसके गुण क्या हैं और इसे पीने का सही समय क्या है, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। इस लेख के माध्यम से ग्रीन टी पीने के फायदे बताये, कितनी पी सकते हैं और इसे ज्यादा पीने के क्या नुकसान होते हैं यह सब भी बताया और साथ ही कुछ ब्रांडिड ग्रीन टी के बारे में भी जानकारी दी। आशा है आपको ये लेख अवश्य पसन्द आयेगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और  सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर करें। ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, हमारा आज का यह लेख आपको कैसा लगा, इस बारे में कृपया अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health- Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह लेख केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर या लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
ग्रीन टी के फायदे - Health Benefits of Green Tea in Hind
Article Name
ग्रीन टी के फायदे - Health Benefits of Green Tea in Hind
Description
दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको ग्रीन टी के बारे में विस्तृत जानकारी दी। ग्रीन टी क्या होती है, कहां इसकी खेती होती है, यह कितने प्रकार की होती है, किस रूप में मिलती है।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo
error: Content is protected !!