Advertisements

मूँगफली के फायदे और नुकसान – Benefits of Peanuts in Hindi

हैलो दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। आज हम आपका परिचय कराएंगे एक ऐसी वस्तु से जो “गरीबों का बादाम” के नाम से लोकप्रिय है। सर्दियों में इसे खाने का अलग ही आनंद है। जी हां, हम बात कर रहे हैं मूंगफली की जिसके अद्भुत गुण और फायदों के बारे में जानकर आप आश्चर्यचकित रह जायेंगे। यह पोषक तत्वों से भरपूर प्रकृति का वरदान है। इसमें प्रोटीन, मांस और फलों से कहीं अधिक होता है (मांस से 1।3, अंडों से 2।5 और फलों से 8 गुना लगभग ज्यादा)। इसमें पर्याप्त मात्रा में आयरन, कैल्शियम और जिंक पाया जाता है। इसे खाने से ताकत मिलती है। यह विटामिन ई और विटामिन बी 6 से भरपूर है। सर्दियों में मूंगफली के फायदे बहुत ही ज्यादा होते है। वस्तुतः मूंगफली एक महत्वपूर्ण तिलहन वाली फसल है। विश्व में, मूंगफली उत्पादन में चीन के बाद भारत का नाम आता है। यह गुजरात, आन्ध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान तथा पंजाब राज्यों में उगाई जाती है। 

अत्यधिक और अनेक गुणों वाली मूंगफली की तासीर गर्म होती है इसको खाने से क्या होते हैं फायदे, मिलते हैं इस पर नजर। 

Advertisements
मूँगफली के फायदे और नुकसान
Advertisements

मूँगफली के फायदे – Benefits of Peanuts

1. शरीर को ऊर्जा प्रदान करे (Provide Energy)- नट्स को प्रोटीन का अच्छा स्रोत माना गया है। और मूंगफली में काफी प्रोटीन होता है। जिससे शरीर को अच्छी ऊर्जा मिलती है और अंदर से शरीर मजबूत होता है। बादाम और अंडों का सेवन करने की भांति, मूंगफली में लगभग 50 प्रतिशत हेल्दी फैट होता है, जो किसी भी खाद्य पदार्थ की अपेक्षा अधिक कैलोरी  प्रदान कर दे सकता है। मूंगफली में पोटेशियम, मैंगनीज, कॉपर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, सेलेनियम और जिंक जैसे जरूरी मिनरल्स भी होते हैं। इसलिए, मूंगफली को पौष्टिक आहार कहा जा सकता है।

Advertisements

ये भी पढ़े:- गुड़ के फायदे

2. हड्डियों तथा मांसपेशियों के लिये (Bones and Muscles)- मूंगफली में कैल्शियम और विटामिन डी की प्रचुर मात्रा होती है जिससे हड्डियां मजबूत होती हैं। मूंगफली में मैग्नीशियम भी पर्याप्त मात्रा में होता है जो मांसपेशियों को स्वस्थ बनाए रखता है। अत: मूंगफली का प्रतिदिन सेवन करना  आपकी हड्डियों तथा मांसपेशियों के लिये फायदेमंद हो सकता है। 

3. दिल की बीमारी को दूर करे (Relieve Heart Disease)- मूंगफली में मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, प्लांट प्रोटीन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, फाइबर आर्जिनिन और कई बायोएक्टिव तत्व पाए जाते हैं, जो ब्लड प्रेशर को कम कर सकते हैं और दिल को स्वस्थ रख सकते हैं। मूंगफली में रेस्वेराट्रोल  नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो कार्डियोवैस्कुलर रोगों के खतरे को कम कर सकता है। अत: यह कहा जा सकता है कि मूंगफली का सेवन करने से दिल से जुड़ी समस्या का खतरा बहुत कम हो जाता है। 

Advertisements

4. खराब कोलेस्ट्रॉल कम करे (Reduce Bad Cholesterol)- मूंगफली में उच्च मोनोअनसैचुरेटेड फैट होते हैं, जो कुल बॉडी कोलेस्ट्रॉल को 11 प्रतिशत और खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) को 14 प्रतिशत तक कम कर सकते हैं। मूंगफली अच्छे कोलेस्ट्रॉल (HDL) को बनाए रखने का काम कर सकती है।

5.  डायबिटीज में फायदेमंद (Diabetes)- अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन ने मूंगफली को डायबिटीज सुपर-फूड का माना है, क्योंकि इसमें  मैग्नीशियम, फाइबर और हार्ट हेल्दी ऑयल्स मौजूद होते हैं। ये ब्लड ग्लूकोज को अधिक प्रभावित नहीं करते हैं। मूंगफली में मौजूद मैंगनीज रक्त में कैल्शियम के अवशोषण, फैट और कार्बोहाइड्रेट चयापचय और शर्करा के स्तर को संतुलित रखने में मदद करता है। फिर भी यदि डायबिटीज में मूंगफली खाना नहीं चाहते, तो पीनट बटर का इस्तेमाल किया जा सकता है। पीनट बटर के सेवन से टाइप 2 डायबिटीज का खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है। 

6. कैंसर के जोखिम को कम करे (Cancer)- सबसे पहले ये याद रखना चाहिये कि यह एक गंभीर बीमारी होती है जिसके लिए डॉक्टरी इलाज कराना जरूरी है।  मूंगफली को कैंसर का इलाज नहीं माना जा सकता। हां  मूंगफली में पाए जाने वाले अनसैचुरेटेड फैट्स, कुछ विटामिन, खनिज और बायोएक्टिव तत्व कैंसर विरोधी प्रभाव दिखा सकते हैं। मूंगफली में मौजूद फाइटोस्टेरॉल,रेस्वेराट्रोल कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। साइंटिफिक रिसर्च कहती है कि मूंगफली के माध्यम से फाइटोस्टेरॉल का सेवन, प्रोस्टेट ट्यूमर के मामलों में 40 प्रतिशत और शरीर के अन्य भागों में फैलने वाले कैंसर की घटनाओं में लगभग 50 प्रतिशत कमी ला सकता है।  पी-कौमारिक एसिड में पेट के कैंसर के जोखिम को कम करने की क्षमता होती है। मूंगफली विशेष रूप से महिलाओं में पेट के कैंसर को कम कर सकती है।

7. कब्ज में फायदेमंद (Constipation)- मूंगफली के सेवन से (प्रतिदिन 100 ग्राम एक हफ्ते तक) कब्ज से निजात मिल सकती है। मूंगफली में मौजूद तत्व पेट से जुड़ी अन्य समस्याओं में फायदा दे सकते हैं।

8. त्वचा के लिए फायदेमंद ( For Face)- मूंगफली में अर्जीनाइन (Arginine) नामक अमीनो एसिड पाया जाता है, जो त्वचा को स्वस्थ रखने में मददगार हो सकता है। क्योंकि शरीर में अमोनिया और अन्य विषाक्त पदार्थों के प्रभावों को बेअसर करके, अर्जीनाइन लिवर को डिटॉक्स करने में मदद कर सकता है। ओमेगा 6 त्वचा को कोमल और नम बनाए रखता है। मूंगफली के पेस्ट का इस्तेमाल फेस पैक के रूप करके सर्दियों में अपनी रूखी त्वचा से निजात पा सकते हैं। मूंगफली में फैटी एसिड सूजन और त्वचा की लालिमा को कम करता है। मूंगफली में सूजन कम करने वाले गुण सोरायसिस और एक्जिमा जैसे त्वचा रोगों को खत्म करते हैं। 

9. एंटी एजिंग (Anti aging)- मूंगफली में एंटीऑक्सीडेंट खनिज (सेलेनियम, मैंगनीज, कॉपर) और फ्लेवोनोइड्स पाए जाते हैं। और विटामिन ई, क्लोरोजेनिक एसिड, कैफिक एसिड, कौमारिक एसिड और फेरुलिक एसिड भी होते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट बढ़ती उम्र के लक्षणों जैसे बारीक रेखाएं और झुर्रियों को बनने से रोकते हैं। मैग्नीशियम से भरपूर मूंगफली हमारे तंत्रिका तंत्र, मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं को शांत करके त्वचा के लिए बेहतर रक्त प्रवाह प्रदान करती है। जिससे एक युवा और स्वस्थ त्वचा मिलती है। 

ये भी पढ़े:- खाली पेट चाय पीने के नुकसान 

10. अल्जाइमर में फायदेमंद (Alzheimer)- अल्जाइमर रोग दिमाग से संबंधित एक विकार है, जिसमें व्यक्ति की याददाश्त प्रभावित हो जाती है। इस बीमारी से बचाव में मूंगफली के फायदे देखे गए हैं। मूंगफली में मौजूद रेस्वेराट्रोल (resveratrol) नामक एक यौगिक होता है जो डीएनए की रक्षा करने और अल्जाइमर के रोगियों में तंत्रिका संबंधी क्षति को रोकने में फायदेमंद होता है। उबाली हुई या भुनी हुई मूंगफली का सेवन ज्यादा लाभकारी होता है जो रेसवेरट्रोल के स्तर को बढ़ा देती है। मूंगफली में नियासिन (niacin) की उच्च मात्रा होती है और यह विटामिन-ई का एक अच्छा स्रोत है। अध्ययनों से पता चला है कि नियासिन से भरपूर खाद्य पदार्थ अल्जाइमर रोग के खतरे को 70% तक कम कर सकते हैं।

11. सर्दी जुकाम में फायदेमंद (Cold and Cough)- सर्दी के में मूंगफली सर्दी का सेवन से जुकाम में बहुत लाभदायक होगा, आपका शरीर गर्म रहेगा। यह खाँसी में भी लाभप्रद है तथा फेफड़ों को भी मजबूत करती है।

12. महिलाओं के लिए (For Ladies)- महिलाओं के मूंगफली के सेवन से उनकी प्रजनन शक्ति बेहतर बनती है। गर्भवती महिलाओं के लिए मूंगफली खाना लाभप्रद होता है। इससे महिला को ताकत मिलती है और गर्भ में पल रहे बच्चे का विकास बेहतर तरीके से होता है। मूंगफली में फोलिक एसिड होता है। फोलिक एसिड, गर्भावस्था के दौरान, बच्चे में हो सकने वाले गंभीर न्यूरल ट्यूब दोष के खतरे को 70% तक कम कर देती है। 

13. पुरुषों में प्रजनन शक्ति बढ़ाये (Increase fertility in men)- 

मूंगफली में अर्जिनाइन पाया जाता है, जो फर्टिलिटी बढ़ाने में लाभदायक हो सकता है।  इसके अलावा, मूंगफली को जिंक का अच्छा स्रोत माना जाता है, जो शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में मदद कर सकता है। जिंक की कमी शुक्राणुओं की संख्या को प्रभावित करती है। अत: मूंगफली का सेवन पुरूषों में प्रजनन शक्ति बढ़ाने की दृष्टि से बहुत फायदेमंद है।  

14. शारीरिक विकास के लिये (Physical Strength)- मूंगफली में शरीर के लिए आवश्यक कई एमिनो एसिड और प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। जो शरीर के विकास के लिए अच्छे होते हैं। अगर आप किसी भी कारण से दूध नहीं पी पाते हैं तो मूंगफली का सेवन बहुत अच्छा विकल्प है। बढ़ते हुए बच्चों के अच्छे विकास के लिए उन्हें मूंगफली का सेवन करवाना चाहिये। 

15. अवसाद कम करने में (Depression)- मूंगफली में रेस्वेराट्रोल नाम का शक्तिशाली तत्व एंटीडिप्रेसेंट (अवसाद कम करने वाला) दवा की तरह काम कर सकता है। यह मस्तिष्क के हिस्सों (Brain regions) और तंत्रिका मार्गों (Neural pathways) पर असर डाल सकता है।  अवसाद के कई मामलों में फायदेमंद हो सकता है। 

16. पित्त की थैली में पथरी (Stone)- मूंगफली में बहुत सारे तत्व होते हैं, जो पित्त की थैली में पथरी बनने के खतरे को कम कर सकते हैं। परिणामस्वरूप सर्जरी से बचा जा सकता है। 

17. वजन कम करने में सहायक (Lose Weight)- मूंगफली में प्रोटीन और फाइबर भरपूर मात्रा में होते हैं । यह एनर्जी का अच्छा स्रोत भी है। अतः इसे खाने पर जल्दी भूख नहीं लगती। ये दोनों पोषक तत्व भूख को कम करने में प्रभावशाली होते हैं जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है। अतः रोजाना मूंगफली का सेवन वजन कम करने में सहायक हो सकता है। 

18. बालों के लिये (Hair)- भोजन में लाइसिन की कमी से बाल कमजोर और पतले हो सकते हैं। लाइसिन मुख्य रूप से बालों की जड़ के भीतरी भाग में मौजूद होता है, जो बालों को आकार और घनापन देता है। यह अमीनो एसिड जिंक और आयरन के अवशोषण को भी बढ़ाता  है। लाइसिन की कमी को करने में मूंगफली का सेवन कर सकते हैं क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में अमीनो एसिड पाए जाते हैं, जो बालों को जरूरी पोषण पहुंचाते हैं। अमीनो एसिड पुरुषों में गंजेपन के इलाज के लिए बहुत उपयोगी है और स्वस्थ बालों के विकास को प्रोत्साहित करता है। 

19. स्वस्थ दिमाग और स्मरण शक्ति (Healthy Mind and Memory)- मूंगफली में   पाये जाने वाला रेस्वेराट्रोल नामक एक फ्लेवोनोइड तत्व दिमाग में खून के प्रवाह को 30% बढ़ा देता है इससे दिमाग स्वस्थ रहता है। विटामिन बी 3 दिमाग तेज कर  स्मरण शक्ति को अच्छी करता है।

20. आंखों के लिए (Eyes)- मूंगफली में बीटी कैरोटीन पाया जो आंखों  को स्वस्थ रखता है। बच्चों को सुबह भीगी हुई मूंगफली के कुछ दाने खिलाने से इसमें मौजूद विटामिन आंखों की रोशनी और याददाश्त तेज करते है। आंखों के लिये मूंगफली रामबाण है। मूंगफली में विटामिन बी6 और विटामिन ए होता है इसलिए सर्दियों में रोज सुबह भीगी मूंगफली में किशमिश मिलाकर खाने से आँखों की रौशनी बढ़ती है।

21. जोड़ों और कमर दर्द में दे आराम (Joint and Back Pain)- भीगी हुई मूंगफली को थोड़े गुड़ के साथ खाने से जोड़ों और कमर दर्द में बहुत आराम मिलता है। 

22. अच्छा मूड (Good Mood)- मूंगफली में टिस्टोफेन होता है जिसके कारण मूंगफली खाने से मूड भी अच्छा और खुशनुमा रहता है।

मूंगफली के नुकसान – Side Effects of Peanut in Hindi

1. मूंगफली ज्यादा खाने से पेट में दर्द,गैस, सीने में जलन या एसिडिटी की समस्या हो सकती है।

2. गर्मी में इसका सेवन से पेट खराब हो सकता है। क्योंकि मूंगफली की तासीर गर्म होती है। इसलिए सर्दी में ही इसे खाना चाहिए। गर्मियों में बहुत ही कम मात्रा में खाना चाहिये। खाली पेट तो मूंगफली खानी ही नहीं  चाहिए। इसे भिगोकर खाया जाए तो बेहतर है। इसका पाचन आसान हो जाता है।

3. यदि मूंगफली से एलर्जी है तो इसका सेवन नहीं करना चाहिये।

ये भी पढ़े:- सोने के सही तरीके क्या है

4. यदि आपकी त्वचा संवेदनशील है तो आपको मूंगफली का सेवन बहुत नुकसानदायक हो सकता है। त्वचा में खुजली व रैशेज अथवा त्वचा, चेहरे पर या गले में सूजन की समस्या हो सकती है। 

5. इसके ज्यादा सेवन से अस्थमा या दमा का अटैक हो सकता है। यदि मूंगफली खाने से सांस लेने में परेशानी हो तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिये।

6. अफलाटॉक्सिन, एक टॉक्सिक पदार्थ है जिसकी ज्यादा मात्रा शरीर में ज्यादा मूंगफली खाने से बढ़ जाती है।  कार्सिनोजन होता है जो लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है। 

7.  मूंगफली में लैक्टिन ज्यादा मात्रा में होता है। ये चिपचिपा, गाढ़ा और जटिल संरचना वाला कारक होता है, जो रक्त में मौजूद शुगर के साथ मिलकर इंफ्लेमेशन पैदा करता है और शरीर में सूजन और दर्द बढ़ा देता है। यह पचाने में भी आसान नहीं होता है। अर्थराइटिस के रोगी को मूंगफली के सेवन से बचना चाहिए। 

8. ओमेगा-3 फैटी एसिड शरीर के लिए बहुत जरूरी है। इसकी कमी से हृदय रोग, इंफ्लेमेशन जैसी समस्या हो जाती है।  और मूंगफली में मौजूद ओमेगा-6 फैटी एसिड की अधिक मात्रा यही काम करता है। यानी शरीर में ओमेगा फैटी एसिड-3 की मात्रा को कम कर देता है जो कि हानिकारक है। अतः मूंगफली का बहुत ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिये। 

Conclusion

दोस्तो, आज इस लेख के माध्यम से हमने आपको मूँगफली के फायदे बारे में जानकारी दी। आशा है आपको यह अवश्य पसन्द आयेगा। कृपया अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health- Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – किसी भी रोग/समस्या के लिये कृपया डॉक्टर/आहार विशेषज्ञ से सलाह लें। यह लेख केवल जानकारी मात्र है। किसी रोग का उपचार/विकल्प नहीं। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर उत्तरदायी नहीं है।

2 thoughts on “मूँगफली के फायदे और नुकसान – Benefits of Peanuts in Hindi

  1. Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *