Advertisements

साफी पीने के फायदे – Benefits of Drinking Safi in Hindi

साफी पीने के फायदे

स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग में। दोस्तो, किसी समय लोग सुबह-सुबह मॉर्निंग वॉक करते हुए नीम की कोंपल (नीम की कोमल पत्तियां) चबाया करते थे और नीम की दातुन किया करते थे। गांवों में तो अधिकतर लोग यही करते थे। इनका बहुत सीधा-सादा तर्क होता था कि नीम के पत्ते चबाने से खून साफ होता है। समय बदलने के साथ-साथ हर चीज का रूप बदलता रहा। पेड़ कम होते गए और इनसे मिलने वाली वस्तुओं का व्यावसायीकरण होने लगा। नीम के पत्तों का भी अर्क अन्य वस्तुओं के साथ सिमट कर रह गया एक छोटी सी दवा की शीशी में जिसे नाम दिया गया साफी। साफी एक प्राकृतिक रक्त शोधक दवा जिसे यूनानी दवाओं की सूची में शामिल किया गया। साफी एक ऐसी दवा जो रक्त को साफ़ करने के अलावा, पाचन तंत्र को ठीक करने, कब्ज दूर करने तथा त्वचा विकारों से राहत पाने आदि के लिए भी अत्यंत लाभदायक होती है। आखिर यह साफी है क्या? दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक “साफी पीने के फायदे”।

देसी हैल्थ क्लब इस आर्टिकल के माध्यम से आपको साफी के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बताएगा कि इसके क्या फायदे होते हैं। तो, सबसे पहले जानते हैं कि साफी क्या है और साफी की सामग्री। फिर, इसके बाद बाकी बिंदुओं पर जानकारी देंगे।

साफी क्या है? – What is Safi?

दोस्तो, साफी एक हर्बल दवा है जो सिरप के रूप में मिलती है। इस दवा को यूनानी दवा की श्रेणी में रखा गया है। इसका निर्माण हमदर्द लैबोरेटरीज (वक्फ) द्वारा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जिला गाजियाबाद में तथा पाकिस्तान और बांग्लादेश में किया जाता है।

Advertisements

जहां तक इसके नाम की बात है तो हम बता दें कि सफ़ी अरबी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ होता है “शुद्ध”। इसी के नाम पर इस दवा का नाम रखा गया साफी। साफी को हमदर्द साफी प्राकृतिक रक्त शोधक (Hamdard Safi Natural Blood Purifier) के रूप में बेचा जाता है। इसे नेचुरल टॉनिक भी कहा जाता है क्योंकि इसमें किसी भी रसायन का उपयोग नहीं किया जाता।

साफी को 28 प्रकार की जड़ी बूटियों के संयोजन से तैयार किया जाता है। इसका रंग गहरा काला होता है और इसका स्वाद बहुत कडवा। इसे खरीदने के लिये किसी डॉक्टर की पर्ची की जरूरत नहीं होती, सीधा किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद सकते हैं। मुख्य रूप से साफी का उपयोग रक्त को साफ़ करने, पाचन तंत्र को ठीक करने, कब्ज से मुक्ति पाने, फोड़े, फुंसियों और त्वचा विकार के उपचार के लिए किया जाता है। इसे 14 वर्ष से ऊपर की आयु के बच्चों को दिया जा सकता है इससे कम को नहीं।

ये भी पढ़ें- हॉर्लिक्स पीने के फायदे

Advertisements

साफी की सामग्री – Safi Supplies

दोस्तो, यदि साफी की सामग्री की बात की जाए तो इसमें  तुलसी, नीम, सनाय, रिवंड चीनी, चिरायता सहित 28 जड़ी-बूटियां होती हैं। इनमें से कुछ का विवरण निम्न प्रकार है। साफी में प्रति 5ml में सामग्री –

ब्राह्मी : 9.09 मिलीग्राम

नीम : 19.43 मिलीग्राम

गिलोय : 14.09 मिलीग्राम

बबूल : 42.84 मिलीग्राम

चिरायता : 17.38 मिलीग्राम

सनाय : 160.45 मिलीग्राम

बेर : 11.36 मिलीग्राम

शीशम : 13.40 मिलीग्राम

चंदन : 11.36 मिलीग्राम

गुलाब : 24.77 मिलीग्राम

शंखपुष्पी : 14.09 मिलीग्राम

हरड़ : 22.04 मिलीग्राम

नीलकंठी : 16.13 मिलीग्राम

बनअदक : 11.36 मिलीग्राम

दारूहरिद्रा : 9.43 मिलीग्राम

कसौंदी : 13.40 मिलीग्राम

बज्रदंती : 18.06 मिलीग्राम

निशोथ : 25.45 मिलीग्राम

कासनी : 9.09 मिलीग्राम

साफी की मात्रा – Amount of Safi

साफी की मात्रा व्यक्ति की बीमारी/समस्या पर निर्भर करती है जो हर किसी के लिए अलग-अलग हो सकती है। इसलिए इसके सेवन के लिये डाक्टर से परामर्श लेना उचित होगा। वैसे सामान्य तौर पर निम्नलिखित मात्रा विशेषज्ञ निम्नलिखित मात्रा की सलाह देते हैं –

1. व्यस्क – 10 मिलीग्राम, दिन में दो बार

2.  बच्चे – 5 मिलीग्राम, दिन में दो बार

कुछ सावधानियां – Some Precautions

साफी के बारे में कुछ निम्नलिखित सावधानियां बरतना भी अति आवश्यक है –

  1. साफी खरीदने से पहले इसकी समाप्ति की तारीख (expiry date) जरूर चैक कर लें।
  2. इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखें।
  3. साफी को कभी फ्रिज़ में ना रखें।
  4. इसे ठंडे, सूखे और अंधेरे स्थान पर रखें।
  5. डॉक्टर द्वारा निर्धारित मात्रा के अनुसार ही इसका सेवन करें, इससे कम या ज्यादा नहीं।
  6. कम से कम एक महीने तक इस दवा का सेवन करें।
  7. यदि आप कोई दवा पहले से ही ले रहे हैं तो साफी का सेवन करने से पहले इस बारे में डॉक्टर को अवश्य बताएं।
  8. जब तक आप साफी का सेवन करें तब तक बीड़ी, सिगरेट, शराब, नशीली वस्तुओं, ड्रग्स तंबाकू का किसी भी रूप में सेवन को अवॉइड करें क्योंकि ये रक्त में विषाक्तता फैला सकते हैं। 
  9. साफी के सेवन से यदि किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत महसूस हो रही है तो तुरन्त इसका सेवन बंद कर दें।
  10. अधिक या गंभीर समस्या होने पर तुरन्त डॉक्टर से संपर्क करें।
  11. साफी को हमेशा पानी मिलाकर ही पीना चाहिए। बिना पानी के साफी पीना अवॉइड करें। 

ये भी पढ़ें- शरीर में जमी गंदगी कैसे निकाले

साफी पीने के फायदे – Benefits of Drinking Safi

साफी पीने के फायदे निम्नलिखित हैं –

1. रक्त साफ़ करे (Clean Blood)- साफी पीने का सबसे प्रमुख फायदा यही है इसके पीने से रक्त साफ़ होता है। इसको नियमित रूप से खाना खाने के बाद पीना चाहिए। नीम, गिलोय जैसे अर्क रक्त को शुद्ध करने का काम करते हैं। रक्त के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम भी इसमें व्याप्त जड़ी-बूटियां करती हैं।

2. भूख बढ़ाए (Increase Appetite)- जिन लोगों को भूख नहीं लगती या कम लगती है और जो अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं उनके लिए साफी एक अच्छा विकल्प है। नियमित रूप से साफी का सेवन करने से खुलकर भूख लगती है। जब खुलकर भूख लगेगी तो खाना भी अधिक खाया जाएगा और ज्यादा कैलोरी मिलेगी। परिणामस्वरूप वजन भी बढ़ेगा। 

3. पाचन को ठीक करे (Improve Digestion)- जिन लोगों को पाचन की समस्या रहती है यानि उनका भोजन समय पर और ठीक से नहीं पचता उनको पेट से जुड़ी समस्याएं रहती हैं, कब्ज, पेट में गैस बनना आदि से वे परेशान रहते हैं। उनको साफी का सेवन करना चाहिए। इसमें मौजूद जड़ी-बूटियां भोजन को पचाने में मदद करती हैं जिससे कब्ज जैसी समस्या नहीं होगी।

4. पेट दर्द में फायदा (Benefit in Stomach Ache)- हमने ऊपर बताया है कि साफी के सेवन से पाचन सही रहता है। इससे भोजन जल्दी पचता है जिससे पेट से संबंधित बीमारियां नहीं होतीं। भोजन ना पचने से अक्सर पेट में दर्द हो जाता है। वैसे भी कभी-कभी पेट दर्द में होना सामान्य बात है। ऐसे में साफी का सेवन करना चाहिए। इससे पेट में दर्द खत्म हो जाएगा।

5. डायरिया में फायदा (Benefit in Diarrhea)- साफी के फायदे डायरिया की समस्या में भी देखे जा सकते हैं। दस्त लगने पर व्यक्ति बार-बार शौच जाने में परेशान हो जाता है उसको शारीरिक कमजोरी महसूस होने लगती है। टांगों की तो जैसे जान निकल जाती है। ऐसे में साफी का सेवन इस समस्या से छुटकारा दिला सकता है। साफी पीने से उसका पेट एकदम साफ़ है जाएगा और दस्त भी बंद हो जाएंगे।

ये भी पढ़ें- डायरिया क्या है?

6. थकावट दूर करे (Relieve Fatigue)- थोड़ा सा ही काम करने पर सांस फूलने लगना, कमजोरी और थकावट महसूस होना, पसीना आना ये सब शारीरिक कमजोरी के लक्षण हैं। इनसे छुटकारा पाने लिए नियमित रूप से साफी में बराबर का पानी मिलाकर पीएं। कुछ दिनों में आराम लग जाएगा।

7. सिर दर्द से राहत दिलाए (Relieve Headache)- तनाव या अन्य कारणों से अक्सर सिर में दर्द हो जाया करता है जो कि स्वाभाविक है। या कभी काम की वजह से खुद पर ही झुंझलाहट आती है इसे एंजायटी (anxiety) कहा जाता है। साफी तनाव को दूर कर मस्तिष्क को शांत करती है जिससे सिर दर्द में आराम आ जाता है और मूड भी फ्रैश हो जाता है। 

8. चेहरे पर चमक लाए (Bring Glow to Face)- नियमित रूप से साफी पीने से रक्त साफ़ होता है और टाक्सिंस निकल जाते हैं। इसका सीधा प्रभाव त्वचा पर पड़ता है। चेहरे की गंदगी खत्म हो जाती है। त्वचा में निखार आने लगता है और चेहरे पर दमक आ जाती है। 

9. खुजली दूर करे (Relieve Itching)- बरसात और सर्दियों में अक्सर खुजली हो जाती है। कभी-कभी दाद भी बन जाता है। ऐसी स्थिति से साफी आपको छुटकारा दिला सकती है। नियमित रूप से साफी में पानी मिलाकर पीएं। खुजली और दाद बहुत जल्दी खत्म हो जाएंगे। 

10. त्वचा के विकारों को दूर करे (Cure Skin Disorders)- जैसा कि हमने ऊपर बताया कि साफी पीने से इसका सीधा प्रभाव त्वचा पर पड़ता है। नियमित रूप से साफी पीने से त्वचा में चमक आने लगती है। कील-मुंहासे, झाईयां आदि दूर हो जाते हैं। चेहरे की झुर्रियां और फाइनलाइंस कम होने लगती हैं जिससे आप अपनी वास्तविक आयु से कम दिखते हैं। तात्पर्य साफ़ है कि साफी में मौजूद जड़ी-बूटियां एंटीऐजिंग का काम करती हैं। त्वचा कोमल और मुलायम रहती है।

साफी के अतिरिक्त फायदे – Additional Benefits of Safi

इनके अतिरिक्त साफी के निम्नलिखित फायदे भी देखे जा सकते हैं –

  • साफी में मौजूद जड़ी-बूटियां बालों के विकास में सहायक होती हैं।  
  • साफी में मौजूद जड़ी-बूटियां इम्युनिटी को बूस्ट करती हैं। 
  • कब्ज से राहत दिलाए।
  • पित्त को नियंत्रित करे।
  • हार्मोनल असंतुलन को नियंत्रित करे।
  • भूख ना लगने की समस्या को दूर करे। 
  • त्वचा एलर्जी के इलाज में लाभकारी। 
  • लिवर और हृदय स्वास्थ के लिए लाभकारी। 

साफी के नुकसान – Disadvantages of Safi

यद्यपि साफी के कोई गंभीर नुकसान नोटिस में नहीं आए हैं परन्तु इसको अधिक मात्रा में पीने से निम्नलिखित लक्षण देखने को मिल सकते   हैं –

  1. जी मिचलाना
  2. उल्टी लगना
  3. पेट में दर्द या दस्त लगना
  4. त्वचा में एलर्जी हो जाना

Conclusion – 

दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको साफी पीने के फायदे के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साफी क्या है?, साफी की सामग्री, साफी की मात्रा, कुछ सावधानियां और साफी के बहुत सारे फायदे, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस आर्टिकल के माध्यम से साफी के फायदों के अलावा कुछ अतिरिक्त फायदे बताए और कुछ नुकसान भी बताए। आशा है आपको ये आर्टिकल अवश्य पसन्द आयेगा।

दोस्तो, इस आर्टिकल से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो आर्टिकल के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह आर्टिकल केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
Advertisements
साफी पीने के फायदे
Advertisements
Article Name
साफी पीने के फायदे
Description
दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको साफी पीने के फायदे के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साफी क्या है?, साफी की सामग्री, साफी की मात्रा, कुछ सावधानियां और साफी के बहुत सारे फायदे, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!