Advertisements

सेंधा नमक खाने के फायदे –  Benefits of Eating Rock Salt in Hindi

सेंधा नमक खाने के फायदे

स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। दोस्तो, नमक एक ऐसी वस्तु है जो भोजन को खाने लायक स्वादिष्ट बनाता है और स्वास्थ के लिऐ भी लाभकारी होता है। वहीं काले नमक का उपयोग भोजन में नहीं किया जाता। इसका उपयोग पेट दर्द के लिए चूर्ण, सलाद, फ्रूट चाट, जलजीरा आदि के लिए किया जाता है। परन्तु व्रत का भोजन बनाने में साधारण नमक या काले नमक का उपयोग नहीं किया जाता। व्रत का भोजन बनाने के लिए एक विशेष प्रकार के नमक का उपयोग किया जाता है जिसका नाम है सेंधा नमक। पूरी दुनियां में केवल भारत एक ऐसा देश है जहां व्रत/पूजा पाठ का भोजन बनाने के लिए सेंधा नमक को पवित्रता का स्थान देकर सम्मानित किया गया है। सेंधा नमक को पवित्र क्यों माना गया है और इसका नाम सेंधा नमक या लाहौरी नमक क्यों पड़ा इसका जिक्र हम आगे करेंगे। अभी हम आपको यह बता दें कि खनिजों से भरपूर सेंधा नमक आयुर्वेदिक गुणों की खान है जो स्वास्थ के लिए तो लाभकारी होते ही हैं साथ ही कई बीमारियों से मुक्ति दिलाते हैं। आखिर ऐसा क्या है इस सेंधा नमक में? दोस्तो, यही है हमारा आज का यही टॉपिक “सेंधा नमक खाने के फायदे”

देसी हैल्थ क्लब इस आर्टिकल के माध्यम से आपको सेंधा नमक के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बताएगा कि इसके फायदे क्या होते हैं। तो सबसे पहले जानते हैं कि सेंधा नमक क्या है और यह कहां मिलता है।

सेंधा नमक क्या है?- What is Rock Salt?

सेंधा नमक हिमालय पर्वत माला से मिलने वाला क्रिस्टल पत्थर जैसे रूप में मिलने वाला खनिज पदार्थ है। यह प्राकृतिक रूप से शुद्ध होता है क्यों कि यह अपरिष्कृत (unrefind) तथा असंसाधित (unprocessed) होता है। इस कारण तथा जन्मस्थली हिमालय होने के नाते जिसे देवी देवताओं की भूमि माना जाता है, भारत में इसे पवित्र माना गया है तथा व्रत के भोजन के लिए स्थान दिया गया है।  

Advertisements

इसका रंग सफेद, हल्का नीला, गाढ़ा नीला, जामुनी, गुलाबी, नारंगी, पीला या भूरा हो सकता है। सेंधा नमक को सिन्धा नमक, सैन्धव नमक, लाहौरी नमक के नाम से भी जाना जाता है। इसे हैलाईट (Halite) सोडियम क्लोराइड भी कहा जाता है। इसका रासायनिक नाम सोडियम क्लोराइड है और इसका संकेत (Nacl) है।  सेंधा नमक का रासायनिक सूत्र को पोटेशियम क्लोराइड है जिसका संकेत (Kcl) है। सेंधा नमक को अंग्रेजी में रॉक साल्ट Rock Salt कहा जाता है। 

ये भी पढ़ें- शरीर में जमी गंदगी कैसे निकालें

सेंधा नमक कैसे बनता है? – How is Rock Salt Made?

यह तो स्पष्ट हो गया है कि सेंधा नमक हिमालय से मिलने वाला खनिज पत्थर है। जहां तक बाजार में इसके पहुंचने की बात है तो पहले यह छोटे-छोटे पत्थरों के रूप में मिलता था चाहे गांव हों या शहर। परन्तु अब यह पाउडर के रूप में मिलता है। 

Advertisements

इसका पाउडर बनाने के लिए किसी फिल्टर या रिफाइनरी प्रक्रिया की आवश्यकता नहीं होती। केवल हिमालय से मिलने वाले पत्थरों को पीसकर ही तैयार किया जाता है ताकि इसमें किसी भी खनिज की हानि नहीं हो, ये सभी विद्यमान रहते हैं। इसीलिये सेंधा नमक को प्राकृतिक, शुद्ध और पवित्र माना जाता है। 

भारत में सेंधा नमक की उपलब्धता – Availability of Rock Salt in India

1. दोस्तो, आपको जानकर आश्चर्य होगा और अफ़सोस भी कि हमारे देश भारत में केवल 5 प्रतिशत सेंधा नमक की उपलब्धता है। बाकी 80 प्रतिशत समुद्री नमक है और 15 प्रतिशत जमीनी। भारत में सेंधा नमक की की जरूरत को पूरा करने लिए इसे पाकिस्तान से आयात करना पड़ता है जिस पर 200 प्रतिशत का शुल्क चुकाना पड़ता है। 

यह पाकिस्तान से केवल 2 रुपये प्रति किलो के हिसाब से आता है और इतना बड़ा शुल्क चुकाने के बावजूद भी भारत के व्यापारियों को केवल 6 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिलता है। 

2. भारत में राजस्थान की सांभर झील से सेंधा नमक प्राप्त होता है। 

3. भारत में यह लघु उद्योगों और हिंदुस्तान साल्ट लिमिटेड के खदानों द्वारा सप्लाई होता है।

4. भारत ही नहीं पूरी दुनियां में पाकिस्तान, सेंधा नमक की जरूरत को पूरा करता है। 

सेंधा नमक की खान – Rock Salt Mine 

दोस्तो, सेंधा नमक की खान पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त के झेलम जिले में इस्लामाबाद से 160 किमी दूर स्थित है। इसे ‘खेवड़ा नमक खान’ के नाम से जाना जाता है। पाकिस्तान के पश्चिमोत्तर पंजाब क्षेत्र में ‘नमक कोह’ नाम की प्रसिद्ध पहाड़ियों की श्रृंखला है। इसी श्रृंखला में यह खेवड़ा नमक खान स्थित है। इस खान में सुरंगे बनाकर नमक निकाला जाता है। इसे निकालते समय सिर्फ़ 50 प्रतिशत ही निकाला और बाकी 50 प्रतिशत छोड़ दिया जाता है ताकि अन्दर खान के ढांचे को सहारा मिलता रहे। 

दोस्तो, आपको जानकर आश्चर्य होगा इस खान की इतनी खुदाई हुई है कि इसमें कमरे बन चुके हैं। मंजिल टाइप इस खान की गहराई लगभग 19 मंजिलों के बराबर है और लंबाई लगभग 730 मीटर है। इतिहास की मानें तो जब सिकंदर ने खेवड़ा क्षेत्र पर आक्रमण किया तो उसके घोड़ों नें दीवारों को चाटना शुरू कर दिया। फिर पता चला कि यहां नमक की खान है। 

सेंधा नमक के नामकरण – Nomenclature of Rock Salt

दोस्तो, अब बताते हैं आपको सेंधा नमक के नामों के बारे में कि इसके अलग-अलग नाम कैसे पड़े। विवरण निम्न प्रकार है –

1. पहाड़ी नमक (Mountain Salt)- चूंकि यह नमक पहाड़ी क्षेत्र में मिलता है इसलिये इसको पहाड़ी नमक के नाम से भी जानते हैं। यह नाम भारत के उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में प्रसिद्ध है।

2. सेंधा नमक (Rock Salt)- ‘सेंधा नमक’ और ‘सैन्धव नमक’ का तात्पर्य है कि सिंध या सिन्धु के क्षेत्र से आया हुआ। सेंधा नमक, सिंध प्रांत के पश्चिमी पंजाब के सिन्धु नदी से लगे कुछ हिस्सों और ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा के कोहाट जिले (अब पाकिस्तान में) से आया करता था। वहां यह जमीन से प्राप्त होता था। इसलिये इसे आज तक सेंधा नमक या सिन्धा नमक, और सैन्धव नमक के नाम से जाना जाता है। पश्चिमोत्तरी पंजाब (पाकिस्तान) में ही नमक कोह नामक पर्वत माला में खेवड़ा नमक खान से निकाला जाता है। इसका विवरण हम ऊपर दे चुके हैं। 

3. लाहौरी नमक (Lahori Salt)- पहले यह नमक लाहौर (पाकिस्तान) के रास्ते पूरे उत्तर भारत में आया करता था। इसलिए इसे लाहौरी नमक कहा जाने लगा। 

ये भी पढ़ें- फिटकरी के फायदे

सेंधा नमक के गुण – Properties of Rock Salt

  1. सेंधा नमक की तासीर ठंडी होती है।
  2. स्वाद में सेंधा नमक समुद्री नमक से कम नमकीन होता है।
  3. सेंधा नमक को सफेद और काले नमक से 84 गुणा बेहतर माना जाता है। 
  4. माना जाता है कि सेंधा नमक 84 रोगों के उपचार में काम आता है।
  5. मेडिकल न्यूट्रिशनिस्ट विपिन राणा के अनुसार सेंधा नमक में 84 खनिज उपस्थित होते हैं जैसे कि कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, आयरन, सेलेनियम, जिंक, कॉपर,आदि। 
  6. सेंधा नमक में लगभग 85% सोडियम क्लोराइड और बाकी 15% में आयरन, कॉपर, जिंक, आयोडीन, मैंगनीज, मैग्नीशियम, सेलेनियम आदि खनिज होते हैं।

सेंधा नमक के आयुर्वेदिक गुण – Ayurvedic Properties of Rock Salt

सेंधा नमक के आयुर्वेदिक गुणों का वर्णन निम्नलिखित श्लोक में मिल जाता है – 

सैन्धवं लवणं स्वादु दीपनं पाचनं लघु। 

स्निग्धं रुच्यं हिमं वृष्यं सूक्ष्मरं नेत्रं त्रिदोषहत्।।

अर्थात् क्षुधावर्धक (भूख को बढ़ाने वाला), पचने में हल्का, तैलीय और वातकारक (नरम या सुखदायक प्रभाव छोड़ने वाला), भोजन के प्रति रुचि बढ़ाने वाला, प्रकृति (तासीर) में शीतलता, सूक्षमता से फैलने वाला, आंखों के लिए लाभकारी, तीनों दोषों (कफ़, वात और दोष) को दूर करने वाला। 

सेंधा नमक के पोषक तत्व (मात्रा प्रति 100 ग्राम) – Rock Salt Nutrients (Quantity per 100 Grams)

  • कैलोरी : 0 Kcal 
  • फैट : 0 ग्राम
  • कोलेस्ट्रॉल : 0 ग्राम 
  • प्रोटीन : 0 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट : 0 ग्राम
  • कैल्शियम : 4 मिलीग्राम
  • पोटेशियम : 8 मिलीग्राम
  • आयरन : 0.6 मिलीग्राम
  • सोडियम : 38,758 मिलीग्राम
  • मैग्नीशियम : 1 मिलीग्राम

सेंधा नमक का उपयोग – Use of Rock Salt

  1. सम्पूर्ण उत्तर भारत में पूजा पाठ, उपवास, व्रत में बनने वाले भोजन में इसका उपयोग किया जाता है।
  2. वर्ष में दो बारे नवरात्री उत्सव में व्रत करने वाले श्रधालु अपने व्रत का भोजन बनाने में इसका उपयोग करते हैं। इन दिनों सेंधा नमक की मांग, आपूर्ति तथा बिक्री बढ़ जाती है। 
  3. आप चाहें तो सेंधा नमक का उपयोग सामान्य दिनों में भी भोजन बनाने के लिये कर सकते हैं मगर लंबे समय तक नहीं। बीच-बीच में सफेद नमक का भी इस्तेमाल करते रहें ताकि शरीर में आयोडीन की कमी ना होने पाए। हम यहां स्पष्ट कर दें कि सेंधा नमक में आयरन की मात्रा बहुत ही कम होती है।
  4. फ्रूट-चाट या सलाद के ऊपर इसे छिड़क सकते हैं। 
  5. गर्मियों में नींबू पानी, शिकंजी या किसी भी मौसम में जलजीरा बनाने में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।
  6. औषधी के रूप में सेंधा नमक का उपयोग किया जाता है।
  7. गुनगुने पानी में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर नहा सकते हैं। इससे नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती है।
  8. पैरों में दर्द या सूजन होने पर या मोच आ जाने पर सहन करने लायक गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर, पैर लटका कर बैठ जाएं। इससे आराम आ जाएगा।
  9. शरीर के अन्य हिस्से में दर्द सूजन होने पर सहन करने लायक गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर सिकाई करने से आराम आ जाता है। 
  10. मसूड़ों में सूजन और दांतों का पीलापन दूर करने के लिए सेंधा नमक का उपयोग माउथवॉश या टूथपेस्ट के रूप में कर सकते हैं।

सेंधा नमक की मात्रा – Amount of Rock Salt 

डा. प्रियंका रोहतगी, चीफ़ क्लिनिकल डाइटिशियन, अपोलो अस्पताल, बैंगलोर के अनुसार सेंधा नमक रोजाना पांच ग्राम तक सेवन किया जा सकता है। 

सेंधा नमक खाने के फायदे – Benefits of Eating Rock Salt 

और अब नज़र डालते हैं सेंधा नमक के फायदों पर जो निम्नलिखित हैं –

1. पुरुषों में कमजोरी खत्म करे (Eliminate Weakness in Men)- आज की भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में खाने का कल्चर ही बदल गया है। तसल्ली में कोई भोजन करने को तैयार नहीं है, ऊपर से काम का प्रेशर, अपना कैरियर और साथ ही बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित रहना। ये सब फैक्टर पुरुषों की यौन शक्ति, क्षमता उनकी परफॉर्मेंस और फर्टिलिटी पर पर सीधा असर डालते हैं।

इन सब से छुटकारा पाने के लिए खाने का कल्चर बदलना होगा। सिर्फ़ घर का खाना और खाने में सेंधा नमक का उपयोग। सेंधा नमक को वीर्यवर्धक माना गया है। इसके उपयोग से पुरुषों को यौन संबंधित कमजोरी और अन्य यौन समस्याएं दूर हो जाती हैं।

2. वजन नियंत्रित करे (Control Weight)- कमजोर चयापचय (metabolism) तथा कमजोर पाचन की वजह से भी वजन बढ़ता है। सेंधा नमक के सेवन से चयापचय और पाचन प्रक्रिया में सुधार होता है। इससे भोजन जल्दी पचता है और यह अतिरिक्त फैट को बढ़ने से रुक जाती है। 

यह फैट को जल्दी जलाने का काम करता है। भोजन में सेंधा नमक के सेवन से बहुत लंबे समय तक भूख रुक जाती है। मेरा (लेखक) का खुद का अनुभव रहा है कि नवरात्री के नौ दिनों के व्रत में 2 किलो वजन कम हो जाता था। 

ये भी पढ़ें- वजन कम करने के लिए डाइट प्लान

3. पाचन में लाभकारी (Beneficial in Digestion)- हमने ऊपर बताया है कि सेंधा नमक के सेवन से पाचन प्रक्रिया में सुधार होता है, इसमें मौजूद खनिज भोजन को जल्दी पचाने में मदद करते हैं। इसके सेवन से पाचन तंत्र को, भोजन को पचाने के लिए अधिक मेहनत नहीं करनी पड़ती। भोजन में सेंधा नमक के सेवन से कब्ज, गैस बनना, खट्टी डकार आना, सीने में जलन जैसी समस्याओं से राहत मिलती है। 

4. हाई ब्लड प्रेशर में फायदा (Benefit in High Blood Pressure)- जिन लोगों का बल्ड प्रेशर हाई में रहता है उनके लिये सेंधा नमक प्राकृतिक दवा के रूप में करता है। इसमें पोटेशियम की भरपूर मात्रा होती है जो हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है। यह ब्लड प्रेशर लेवल को सामान्य रखता है। 

5. तनाव दूर करे (Relieve Stress)- तनाव दूर करने के लिए साल्ट थेरेपी का सहारा लिया जाता है। इसे हेलोथेरेपी (Halotherapy) भी कहते हैं। इस थेरेपी के अंतर्गत मरीज को पानी में नमक डालकर नहलाया जाता है। स्पा के समय भी नमक का इस्तेमाल किया जाता है। इस काम के लिए सफेद नमक की तुलना में सेंधा नमक के प्राकृतिक खनिज अधिक फायदा पहुंचाते हैं। 

6. हृदय को स्वस्थ रखे (Keep Heart Healthy)- सेंधा नमक में ना तो फैट होता है और ना ही कोलेस्ट्रॉल, ऊपर से वजन और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है। ऐसी स्थिति में हृदय सुरक्षित रहता है। हृदय संबंधी रोगों या हार्ट अटैक की संभावना नहीं रहती। फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन भी हृदय स्वास्थ के लिए सेंधा नमक की 1 ग्राम और 2.5 ग्राम के बीच की मात्रा को उचित मानता है।

7. मांसपेशियों के लिए लाभकारी (Beneficial for Muscles)- दोस्तो, मांसपेशियों और तंत्रिका तंत्र की कार्य प्रणाली के लिये इलेक्ट्रोलाइट्स, आवश्यक आवश्यकता हैं। सेंधा नमक में सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स पर्याप्त मात्रा में होते हैं जो ना केवल मांसपेशियों की कार्य प्रणाली में सुधार करते हैं बल्कि मांसपेशियों की ऐंठन को दूर कर इनको आराम पहुंचाने का काम करते हैं। 

मांसपेशियों की समस्या के निवारण के लिए एक गिलास पानी में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर पी लें। आराम आ जाएगा। या टब में पानी भरकर इसमें सेंधा नमक मिलाकर कुछ देर बैठ जाएं।

8. सिर दर्द और माइग्रेन में फायदा (Benefit in Headache and Migraine)- सामान्य सिर दर्द और माइग्रेन से उठने वाले सिर दर्द में सेंधा नमक के उपयोग से राहत पाई जा सकती है। इसके लिए सरसों के तेल में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर सिर की मालिश करें। इसमें सरसों के तेल के गुण भी आ जाते हैं। आराम लग जाएगा। माना जाता है पहाड़ से निकलने वाले इस नमक के खनिजों की गुणवत्ता किसी अन्य नमक की तुलना में बेहतर होती है। 

ये भी पढ़ें- माइग्रेन का घरेलू इलाज

9. खराश/खांसी से राहत (Sore/Cough Relief)- बदलते मौसम में विशेषकर सर्दियों में अक्सर गला खराब हो जाना, गला सूज जाना स्वाभाविक है। गला खराब होने पर गले में खराश होने लगती है जो बाद में खांसी का रूप ले लेती है। इन सब से छुटकारा दिलाने में सेंधा नमक अपनी सक्रिय भूमिका निभाता है। 

इनसे राहत पाने के लिए गुनगुने पानी में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर गरारे करें। ऐसा दिन में 3-4 बार करें। आराम आ जाएगा। सेंधा नमक, गले के बैक्टीरिया युक्त म्यूकस को पतला करके बाहर निकाल देता है। इससे गले की सूजन भी खत्म हो जाती है और खांसी से राहत मिल जाएगी।

10. मसूड़ों के लिए फायदा (Benefits for Gums)- कई बार मसूड़ों से खून आने लगता है। ऐसा मसूड़ों में सूजन, प्लाक जमना या किसी अन्य वजह से होता है। पायरिया के कारण भी ऐसा होता है और मुंह से बदबू आने लगती है। इन सब समस्याओं का मुख्य कारण मुंह के हानिकारक बैक्टीरिया होते हैं।

ऐसी समस्याओं से राहत पाने के लिए गुनगुने पानी में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर रोजाना दिन में 3-4 बार कुल्ला करें। इससे मसूड़ों में दर्द और दांतों में दर्द भी खत्म होता है। सामान्य तौर पर सेंधा नमक के पानी से कुल्ला करने पर पायरिया जैसी बीमारी की संभावना नहीं होगी। 

सेंधा नमक खाने के नुकसान – Disadvantages of Eating Rock Salt

सेंधा नमक के फायदे जान लेने के बाद अब जानते हैं इसके नुकसान के बारे में जो निम्न प्रकार हैं – 

  1. सेंधा नमक का अधिक सेवन हाइपरक्लेरेमिया की वजह बन सकता है जिससे मांसपेशियां कमजोर पड़ जाती हैं और थकावट रहने लगती है। 
  2. सेंधा नमक का लंबे समय तक सेवन करते रहने से शरीर में आयोडीन की कमी होने लगती है। फलस्वरूप घेंघा रोग होने की संभावना बन जाती है। हम यहां बता दें कि सफेद नमक की तुलना में सेंधा नमक में आयरन की मात्रा बहुत कम होती है। 
  3. सेंधा नमक का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर पर सूजन आ सकती है।
  4. सेंधा नमक का अधिक मात्रा में सेवन करने से ब्लड प्रेशर लेवल हाई हो जाएगा।
  5. एडिमा के मरीजों को डॉक्टर अक्सर सेंधा नमक खाने की सलाह नहीं देते हैं।
  6. वॉटर रिटेंशन की समस्या हो सकती है।
  7. जिन लोगों को डायबिटीज और किडनी की समस्या है, उनको सेंधा नमक के सेवन को अवॉइड करना चाहिए।
  8. आयरन की मात्रा कम होने के कारण गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर सेंधा नमक खाने की सलाह नहीं देते हैं।
  9. पांच साल से छोटे बच्चों को सेंधा नमक का सेवन नहीं करना चाहिए क्यों कि यह उनकी ग्रोथ को प्रभावित कर सकता है। 

Conclusion – 

दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको सेंधा नमक खाने के फायदे के बारे में विस्तार से जानकारी दी। सेंधा नमक क्या है, सेंधा नमक कैसे बनता है, भारत में सेंधा नमक की उपलब्धता, सेंधा नमक की खान, सेंधा नमक के नामकरण, सेंधा नमक के गुण, सेंधा नमक के आयुर्वेदिक गुण, सेंधा नमक के पोषक तत्व, सेंधा नमक का उपयोग और सेंधा नमक की मात्रा, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस आर्टिकल के माध्यम से सेंधा नमक खाने के बहुत सारे फायदे बताए और कुछ नुकसान भी बताए। आशा है आपको ये आर्टिकल अवश्य पसन्द आयेगा।

दोस्तो, इस आर्टिकल से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो आर्टिकल के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह आर्टिकल केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
Advertisements
सेंधा नमक खाने के फायदे
Advertisements
Article Name
सेंधा नमक खाने के फायदे
Description
दोस्तो, आज के आर्टिकल में हमने आपको सेंधा नमक खाने के फायदे के बारे में विस्तार से जानकारी दी। सेंधा नमक क्या है, सेंधा नमक कैसे बनता है, भारत में सेंधा नमक की उपलब्धता, सेंधा नमक की खान, सेंधा नमक के नामकरण, सेंधा नमक के गुण, सेंधा नमक के आयुर्वेदिक गुण, सेंधा नमक के पोषक तत्व, सेंधा नमक का उपयोग और सेंधा नमक की मात्रा, इन सब के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *