दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर। दोस्तो, साफ़ सफाई भला किसे पसंद नहीं, सभी को अच्छी लगती है। चाहे वो अपने घर की हो या कार्य स्थल की, या अपने कपड़ों की, या अपने शरीर की। सभी साफ़ सुथरा रहना चाहते हैं लेकिन कभी-कभी हम आलस्य के कारण या लापरवाही के कारण सफाई की तरफ ध्यान नहीं देते। इसके परिणाम स्वरूप, स्वास्थ संबंधी समस्याऐं हमारे सामने आ खड़ी होती हैं। दोस्तो, नहाना धोना तो सभी कर लेते हैं लेकिन इसके अलावा शरीर से ही सम्बंधित एक और सफाई होती है जिसकी ओर हम ज्यादा ध्यान नहीं देते, या आपस में बात करने से शर्माते हैं। विशेष तौर पर लड़कियां तो बिल्कुल भी बात नहीं करतीं और करती भी हैं तो अपनी हम उम्र सहेलियों से। कोई समस्या होने पर भी घर में मां या भाभी से हिचकिचाते हुऐ बताती हैं। हमारा इशारा यौन स्वच्छता यानी सेक्सुअल हाइजीन (Sexual hygiene) की तरफ है। दोस्तो, यही है हमारा आज का टॉपिक “सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें”। देसी हैल्थ क्लब इस लेख के माध्यम से आज आपको सेक्सुअल हाइजीन के बारे में विस्तार से जानकारी देगा और यह भी बतायेगा कि सेक्सुअल हाइजीन मेंटेन करने के क्या उपाय हैं यानी कुछ टिप्स। तो सबसे पहले जानते हैं कि शारीरिक स्वच्छता क्या होती है और सेक्सुअल हाइजीन किसे कहते हैं।

सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें

शारीरिक स्वच्छता क्या होती है? – What is Physical Hygiene?

एकदम सरल शब्दों में कहें तो समझिये कि पैर के नाखून से लेकर सिर के बाल तक को गंदगी से बचाना, इनको साफ सुथरा रखना शारीरिक स्वच्छता कहलाती है। इतना ही नहीं इनसे जुड़ी प्रत्येक वस्तु को भी गंदगी से बचाना, शारीरिक स्वच्छता का हिस्सा है जैसे कि आपके कपड़े साफ़ होने चाहियें। आपका नहाने का साबुन, टूथ ब्रश, कंघी आदि ढके हुऐ होने चाहियें ताकि इन पर धूल मिट्टी ना लगे और ना ही ये किसी कीड़े कोक्रोच आदि के सम्पर्क में आयें। निम्नलिखित शारीरिक सफाई का हिस्सा हैं :-

(i)  शौच के बाद सफाई 

(ii)  हाथ साबुन से धोना

(iii) चेहरे की सफाई

(iv) आंख, कान और नाक की सफाई

(v)  दांतों की सफाई

ये भी पढ़े- लिकोरिया का घरेलू इलाज

(vi) नहाते समय शरीर के प्रत्येक हिस्से, त्वचा यहां तक कि पैरों की और पैरों की उंग्लियों की सफाई।

(vii) सिर की सफाई

(viii) कपड़ों और फुटवीयर की सफाई

(ix) रसोई और भोजन की स्वच्छता – जैसा स्थान, जैसा भोजन वैसा आपका शरीर और स्वास्थ। इसलिये ये भी आपके शारीरिक स्वच्छता का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

(x)  चिकित्सकीय स्वच्छता यानी कहीं चोट आदि लगी है या घाव है तो उसकी देखभाल करना, धूल मिट्टी से बचाना।

सेक्सुअल हाइजीन क्या होती है? – What is Sexual Hygiene?

दोस्तो, पुरुष हो या महिला सभी के लिये अपने प्राइवेट पार्ट की सफाई करना बेहद जरूरी है। महिलाओं के लिये तो यह और भी जरूरी है क्योंकि उनके प्राइवेट पार्ट की संरचना इस प्रकार की है कि इसमें संक्रमण का संभावना  बहुत अधिक रहती है। इसलिये पुरुष या महिला के प्राइवेट पार्ट से जुड़ी वस्तुओं का स्वच्छ रहना भी बहुत जरूरी है। यहां तक कि सेक्स के पश्चात की सफाई भी बहुत मायने रखती है। अतः प्राइवेट पार्ट और उससे जुड़ी वस्तुओं, गतिविधियों की प्रत्येक दृष्टिकोण से सफाई रखने को सेक्सुअल हाइजीन कहा जाता है। दोस्तो, अब बताते हैं आपको कि सेक्सुअल हाइजीन के लिये आपने क्या करना है।

प्राइवेट पार्ट हाइजीन यानी प्राइवेट पार्ट के बालों की सफाई – Private Part Hygiene Means Cleaning the Hair of the Private Part

दोस्तो, जब सेक्सुअल हाइजीन की बात चलती है तब सबसे पहले बात प्राइवेट पार्ट के बालों की आती है। प्राईवेट पार्ट के बालों को हटाना या ना हटाना आपकी निजी पसंद हो सकती है। आपकी पसंद से परे और प्राईवेट पार्ट के बालों की उपयोगिता से भी परे; स्वच्छता की दृष्टि से यह अति आवश्यक हो जाता है कि बालों को साफ़ किया जाये। यह पुरुष और महिला दोनों के लिये जरूरी है। महिलाओं के लिये इसकी आवश्यकता और बढ़ जाती है क्योंकि प्राईवेट पार्ट क्षेत्र पर नमी होना या साफ सफाई ना होने के कारण बालों को; डर्मेटोफाइट संक्रमण (बालों के फंगल संक्रमण) और वजाइनल यीस्ट संक्रमण से ग्रस्त करती है। शरीयत में भी “शर्मगाह” (Private part) के बाल 40 दिन तक ना काटना गुनाह है ठीक उसी प्रकार जैसे कि चुगली करना और झूठ बोलना गुनाह है।

हर सप्ताह या 15 दिन 20 दिन में बाल काटने चाहियें। लेकिन गुनाह से बचने का 40वां दिन आखिरी दिन होता है। हर सप्ताह या 15 दिन 20 दिन में बाल काटने का महिलाओं को यह भी फायदा होता है कि किसी प्रकार के संक्रमण की संभावना नहीं होती आपको हमेशा सफाई का अहसास होता है।  दोस्तो, पुरुषों को प्राईवेट पार्ट के बाल हटाने में कोई समस्या नहीं होती, वे तो, ब्लेड रेजर या ट्रिमर के द्वारा बड़ी आसानी से बाल हटा सकते हैं परन्तु महिलाओं को यह सब आसान नहीं है, कटने फटने का खतरा रहता है और बाल भी सख्त हो जाते हैं सो अलग, इसलिये वे अधिकतर हेयर रिमूवल क्रीम का इस्तेमाल करती हैं। यदि आप पार्लर से बिकनी वैक्स करा रही हैं तो पहले उस जगह साफ़ सफाई जरूर चेक कर लें। दोस्तो, देसी हैल्थ क्लब अपने पिछले लेख में प्राईवेट पार्ट के बालों के बारे में विस्तार से जानकारी दे चुका है और सलाह देता है कि स्वच्छता की दृष्टि से प्राईवेट पार्ट के बाल समय-समय पर हटाते रहें ताकि सेक्सुअल हाइजीन मेंटेन हो सके। 

ये भी पढ़े- प्राइवेट पार्ट के बाल हटाने के तरीके

अंडरआर्म्स हाइजीन यानी अंडरआर्म्स के बालों की सफाई – Underarms Hygiene Means Cleaning the Hair of the Underarms

अंडरआर्म्स के बाल, यद्यपि यह सेक्सुअल हाइजीन का हिस्सा नहीं है परन्तु हाइजीन का हिस्सा अवश्य हैं। दूसरी बात यह है कि ये परोक्ष (Indirect) रूप से सेक्स को प्रभावित करते हैं। अंडरआर्म्स के बालों से आने वाली पसीने की बदबू कामक्रीड़ा में निश्चित रूप से विघ्न डालती है। इसलिये पुरुष और महिला दोनों को ही अंडरआर्म्स के बाल समय-समय पर हटाने चाहियें।  अंडरआर्म्स के बाल और उनसे आने वाली पसीने की बदबू के बारे में भी देसी हैल्थ क्लब अपने पिछले लेखों में विस्तार से जानकारी दे चुका है।

ये भी पढ़े- पसीने की बदबू दूर करने के उपाय

अंडरगारमेंट्स हाइजीन – Undergarments Hygiene

दोस्तो, पुरुष हो या महिला हर किसी को नहाने के बाद अपने अंडरगारमेंट्स (पुरुष : अंडरवियर और बनियान, महिला : पैन्टी और ब्रा) साबुन से अच्छी तरह साफ करने चाहियें और दूसरे साफ अंडरगारमेंट्स पहनने चाहियें। कुछ महीनों के अंतराल पर नये खरीद लेने चाहियें क्यों कि लंबे समय तक पुराने अंडरगारमेंट्स पहनने से संक्रमण की संभावना रहती है। विशेषकर महिलाओं को अपनी ब्रा लगभग 4 या 5 महीने बाद बदल देनी चाहिये ठीक उसी प्रकार जैसे कि टूथ ब्रश के बाल खराब होने पर बदलते हैं। परफैक्ट ब्रा आपके स्तनों को ढीला होने से रोकने में मदद करती है और काफी हद तक स्तनों के कैंसर से भी बचाती है। याद रखिये ब्रा आपके स्तनों के हाइजीन का सबसे सुन्दर और महत्वपूर्ण हिस्सा है। देसी हैल्थ क्लब स्तनों के ढीलेपन और ब्रेस्ट कैंसर के विषय में अपने पिछले लेखों में विस्तार से जानकारी दे चुका है।

ये भी पढ़े- स्तनों का ढीलापन दूर करने के उपाय

पीरियड्स में हाइजीन मेंटेन करने के उपाय – Tips to Maintain Hygiene During Periods

महिलाओं के लिये हर महीने मासिक धर्म से गुजरना बहुत कष्टकारी समय होता है। मासिक धर्म के समय होने वाले दर्द को केवल महिला ही समझ सकती है और कोई इस दर्द की कल्पना भी नहीं कर सकता। पीरियड के समय में हाइजीन का विशेष ध्यान रखना पड़ता है। देसी हैल्थ क्लब महिलाओं के लिये निम्नलिखित टिप्स दे रहा है ताकि वे पीरियड्स के समय हाइजीन का ध्यान रख सकें – 

1. जितनी बार भी आप मूत्र विसर्जन के लिये जायें उतनी ही बार पानी से योनि को अच्छी तरह साफ करें। यह सफाई आपको वेजाइनल इंफेक्शन (vaginal infection)  से बचायेगी। इस इंफेक्शन में अधिक खुजली, जलन, दर्द आदि की समस्या होती है जिसके चलते महिलाओं को बहुत असहजता महसूस होती है और उन्हें अपने घर के दैनिक काम करने में भी परेशानी होती है। 

2. पीरियड के समय के लिये पैन्टी या अंडरवियर बिलकुल अलग रखें, इनको तभी पहनें जब आप पीरियड्स के दिनों में हों। इनकी साफ़ सफाई भी का भी विशेष ध्यान रखें। इनको धोने के बाद, पानी में डिटॉल मिलाकर, डिटॉल वाले पानी में निकाल दें। इससे किसी भी प्रकार के संक्रमण की संभावना नहीं होगी। 

3. पीरियड के लिये सही और अच्छी क्वालिटी के सैनिटरी पैड, पैंटी लाइनर या टैम्पून ही इस्तेमाल करें। कृपया ध्यान रखें कि इनका उपयोग पूरे दिन ना करें। प्रत्येक छः घंटे बाद इनको बदलना चाहिये। 

4. पीरियड के समय गुनगुने पानी से नहाना बेहतर होता है।  इससे आपकी थकावट तो दूर होगी। और पीरियड/पैड के कारण शरीर में होने वाली बदबू से भी राहत मिलेगी।

5. पीरियड के समय आपको अपने कपड़े तो रोजाना बदलने ही हैं, अपने बिस्तर की चादर (Bed sheet) को भी धोयें और बदलें। 

6. पीरियड के दिनों में सेक्स करना आपकी और अपके पार्टनर की निजी पसंद हो सकती है। यह अच्छा है या बुरा, यह चर्चा का विषय हो सकता है परन्तु देसी हैल्थ क्लब का मानना है कि पीरियड के दिनों में सेक्स ना किया जाये तो बेहतर होगा क्योंकि इससे आपके पार्टनर में संक्रमण फैलने की संभावना बन सकती है। 

सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें – How to Maintain Sexual Hygiene

दोस्तो, सेक्स जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसलिये इसकी कद्र करना हमारा फ़र्ज बनता है। इसलिये सेक्स में साफ़ सफाई बनाये रखना उतना ही जरूरी है जितना हम सामान्य रूप से अपने शरीर की सफाई रखते हैं। सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें, इस बारे में देसी हैल्थ क्लब निम्नलिखित टिप्स दे रहा है। आशा है ये उपाय आपके लिये फायदेमंद होंगे –

1. सेक्स के लिये बिस्तर पर जाने से पहले यदि आपको मूत्र विसर्जन के लिये वाशरूम जाना है तो जरूर जायें, इसे रोकने की कोशिश/गलती ना करें। क्योंकि ऐसा करने से ब्लै़डर के बैक्टीरिया निकल जाते हैं और संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। वैसे भी सेक्स से पहले मूत्र विसर्जन करना हैल्दी सेक्स के लिये जरूरी होता है।

2. सेक्स के समय बहुत ज्यादा चिकनाई (Lubricant) का इस्तेमाल करने से या योनि क्षेत्र पर बहुत ज्यादा परफ्यूम लगाने से बचें क्योंकि इन सब से एलर्जी होने की संभावना बन जाती है जिससे योनि श्राव (Vaginal discharge – सामान्य श्राव से अधिक, और ज्यादा दिनों तक चलने वाला और कष्ट देने वाला श्राव), की संभावना बढ़ जाती है। 

3. यह सुनिश्चित करें कि सेक्स करने से पहले और बाद में हाथों और नाखूनों को अच्छी तरह से साबुन से धोकर साफ़ करे हों। ऐसा करने से एक दूसरे के प्राइवेट पार्ट को छूने से संक्रमण नहीं होगा।  

4. जिस प्रकार सेक्स से पहले मूत्र विसर्जन जरूरी होता है उसी प्रकार सेक्‍स के बाद भी मूत्र विसर्जन जरूरी होता है। इस बारे में दिल्‍ली की स्त्री रोग विशेषज्ञ, डॉक्‍टर पुष्‍पा चंद्रा का कहना है कि “हेल्‍दी सेक्‍स के लिए सामान्य नियम संभोग के तुरंत बाद पेशाब करना है। इससे आपको यौन संबंध के कारण आपके मूत्रमार्ग के करीब आने वाले किसी भी बैक्टीरिया को स्वाभाविक रूप से साफ करने में मदद मिलेगी।  इससे आप गंभीर संक्रमण से खुद को बचा पायेंगे।” अतः देसी हैल्थ क्लब का भी यही मानना है कि सेक्स के बाद मूत्र विसर्जन से, महिला और पुरुष दोनों को ही अपने जननांग की आंतरिक सफाई में मदद मिलेगी। यानी पुरूष और महिला के जननांग में रुका हुआ वीर्य पूरी तरह निकल जायेगा। उम्मीद है आप इस उपाय पर अमल करेंगे। 

ये भी पढ़े- डिलीवरी के बाद वजन कम करने के उपाय

5. महिलाओं के प्राइवेट पार्ट का pH एसिडिक और पुरुष का pH इसका उल्टा यानि बेसिक होता है जिससे वैजाइना का pH बिगड़ जाता है और मूत्र मार्ग संक्रमण (Urinary Tract Infection) की समस्या होने की संभावना रहती है। इसीलिए यह जरूरी हो जाता है कि सेक्स करने के बाद, मूत्र विसर्जन के साथ ही वैजाइना को तुरंत पानी से अच्छी तरह से धो लें। एक बात का अवश्य ध्यान रखें कि वैजाइना को हमेशा, यानी बिना सेक्स किये सामान्य तौर भी, आगे से पीछे की ओर ही धोयें ना कि पीछे से आगे की तरफ। क्योंकि पीछे से आगे की ओर धोने से गुदा के बैक्टीरिया पानी के साथ आगे आकर वैजाइना तक पहुंच कर हानि पहुंचा सकते हैं। 

6. वैजाइना के आसपास साबुन का प्रयोग ना करें इससे वैजाइना और इसके आसपास अच्छे वाले बैक्टीरिया नष्ट हो सकते हैं। ये अच्छे वाले बैक्टीरिया त्वचा के संक्रमण को रोकने में मदद करते हैं। 

7. दोस्तो, सेक्स के बाद जननांग की सफाई के बारे में महिला के समान पुरुष को भी अपने जननांग की हाइजीन के बारे में अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। क्योंकि यदि अपने जननांग की अच्छी तरह सफाई नहीं करेंगे तो फोरस्किन या उसके अंदर की त्वचा में जो  बैक्टीरिया या मृत कोशिका या शरीर के द्रव पदार्थ होते हैं, ये बैक्टीरिया किसी भी प्रकार की एलर्जी या यौन संचारित रोगों (Sexually transmitted diseases) की वजह बन सकते हैं। सेक्स के बाद पुरुष अपने जननांग की त्वचा को आगे पीछे करके हल्के गुनगुने पानी से साफ़ करे। जननांग की फोरस्किन पर और मूत्रछिद्र पर पानी की हल्की-हल्की धार छोड़े इससे अच्छी तरह सफाई हो जायेगी। 

8. महिला और पुरुष जिसके लिये भी यदि जननांग पानी से धोना संभव नहीं है तो कपड़े, तौलिया आदि से साफ ना करे क्योंकि यौननांगों की त्वचा अन्य शरीर के हिस्से की त्वचा से अधिक संवेदनशील होती है, यह छिल सकती है। इसके लिये सेनेटरी वाइप्स या सेक्‍सुअल हाइजीन वाइप्स का इस्तेमाल किया जा सकता है। स्त्री रोग विशेषज्ञ, डॉक्‍टर पुष्पा चन्द्रा कहती हैं कि “सेक्स के बाद यौन अंगों को साफ करने के लिये रेगुलर वाइप्‍स का उपयोग करना ठीक नहीं है। हमेशा सेनेटरी वाइप्स या सेक्‍सुअल हाइजीन वाइप्स का इस्‍तेमाल करना चाहिये, जो अब सभी मेडिकल स्‍टोर्स पर आसानी से उपलब्ध होते हैं। कपड़ों से यौन अंगों को रगड़ना नहीं चाहिये”।

9. सेक्स के बाद बिस्तर की चादर अवश्य बदल दें।

10. सेक्स के बाद यदि स्त्री पुरुष किसी को भी जननांग में जलन या अन्य किसी भी प्रकार की समस्या महसूस होती है तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिये। 

Conclusion – 

दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें के बारे में विस्तार से जानकारी दी। शारीरिक स्वच्छता क्या होती है, सेक्सुअल हाइजीन क्या होती है, प्राइवेट पार्ट की हाइजीन को कैसे मेंटेन करें, अंडरगारमेंट्स हाइजीन का ध्यान कैसे रखें, इन सबके बारे में भी विस्तारपूर्वक बताया।  देसी हैल्थ क्लब ने इस लेख के माध्यम से आपको पीरियड्स में हाइजीन मेंटेन करने के उपाय बताये और सेक्स में हाइजीन मेंटेन करने के भी उपाय बताये। आशा है आपको ये लेख अवश्य पसन्द आयेगा। 

दोस्तो, इस लेख से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो लेख के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह लेख आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और  सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health- Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।


Disclaimer – यह लेख केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है।  कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें - How to Maintain Sexual Hygiene
Article Name
सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें - How to Maintain Sexual Hygiene
Description
दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको सेक्सुअल हाइजीन कैसे मेंटेन करें के बारे में विस्तार से जानकारी दी। शारीरिक स्वच्छता क्या होती है, सेक्सुअल हाइजीन क्या होती है, प्राइवेट पार्ट की हाइजीन को कैसे मेंटेन करें, अंडरगारमेंट्स हाइजीन का ध्यान कैसे रखें, इन सबके बारे में भी विस्तारपूर्वक बताया है।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo
error: Content is protected !!