दोस्तो, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉक पर। वैसे तो महिला के बालों की उपमा काले बादलों से दी जाती है परन्तु बालों की सुन्दरता के लिये मजबूत, घने, काले, रेशमी ये चार शब्द हैं जो किसी महिला के सिर के बालों की सुन्दरता के आयाम होते हैं। आज के युग में प्रदूषण के साथ-साथ सौंदर्य प्रसाधनों में रसायनों का प्रयोग बहुत बढ़ गया है जो कहीं ना कहीं स्वास्थ को नुकसान पहुंचाते हैं। जहां तक बालों के स्वास्थ की बात है तो ऐसे बहुत से शैंपू और कंडीशनर हैं जिनमें प्रयुक्त होने वाला रसायन सिर की त्वचा और सिर के बालों को नुकसान पहुंचाते हैं। जबकि, यदि कुछ घरेलू सामग्री का उपयोग बालों के लिये किया जाये तो बाल प्राकृतिक तौर पर स्वस्थ रहेंगे, घने और मजबूत बनेंगे, सिल्की हो जायेंगे और सुन्दर लगेंगे। यही है हमारा आज का टॉपिक “बालों को सिल्की बनाने के घरेलू उपाय”। 

दोस्तो, आपको याद होगा कि देसी हैल्थ क्लब ने पिछले आर्टिकल बालों को झड़ने से रोकने के उपाय में बालों के बारे में विस्तृत जानकारी दी थी कि बाल की संरचना, बालों का झड़ना क्या होता है, बाल झड़ने के कारण और बालों के झड़ने से रोकने के उपाय आदि। एक और आर्टिकल में डैन्ड्रफ़ हटाने के घरेलू उपाय भी बताये थे। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुऐ देसी हैल्थ क्लब इस लेख के माध्यम से आज आपको बालों को रेशमी और मुलायम बनाने के उपाय बतायेगा। लेकिन इससे पहले यह जानना जरूरी है कि बालों का विकास कैसे होता है और बाल खराब होने के क्या कारण होते हैं। तो सबसे पहले जानते हैं कि बालों का विकास कैसे होता है। इसके बाद फिर बाकी बिन्दुओं पर जानकारी देंगे।

बालों को सिल्की बनाने के घरेलू उपाय

बालों का विकास – Hair Growth

दोस्तो, बालों के विकास की तीन निम्नलिखित अवस्थाऐं होती हैं –

1. एनेजन (Anagen)- यह बालों के विकास की पहली अवस्था होती है जिसमें बाल आधा इंच प्रति माह की दर से बढ़ते हैं। सर्दियों की अपेक्षा गर्मियों में बालों की वृद्धि अधिक होती है। यह अवस्था 3 से 5 वर्षों की होती है और इस अवस्था में बाल 18 से 30 इंच तक बढ़ सकते हैं।

2. कैटेजेन (Catagen)- यह दूसरी अवस्था केवल 10 दिनों की होती है और इस अवस्था में बालों में हल्का सा बदलाव होता है।

3. टेलोजेन (Telogen)- इस अंतिम अवस्था में बाल विकसित होकर बदलाव के कारण गिरने लगते हैं। हर बाल फिर से विकसित होता है, गिरता है, फिर विकसित होता है। यह प्रक्रिया जारी रहती है।

बाल खराब होने के कारण – Cause of Hair Loss

दोस्तो, जब बालों के विकास में बाधा आती है तो उनका घनापन कम होने लगता है और चमक भी खोने लगती है। बाल टूटने लगते हैं कई बार तो बाल दो-मुंहे हो जाते हैं। तो जानते हैं बाल खराब होने के कारणों के बारे में जो निम्नलिखित  हैं –

1. अस्वस्थ होना (To be Unwell)- लंबी बीमारी की स्थिति में जैसे कई हफ्तों से बुखार रहना आदि, शरीर की चयापचय (Metabolism) प्रणाली की गति कम हो जाती है जिससे बालों को जरूरत के अनुसार पोषक तत्व नहीं मिल पाते। परिणाम स्वरूप, बालों का ग्रोथ रुक जाता है और बाल एनेजन से टेलोजेन की स्थिति में आकर झड़ने शुरु हो जाते हैं।

2. तनाव (The Stress)- तनाव का सीधा प्रभाव बालों पर पड़ता है जिससे उनका झड़ना शुरु हो जाता है।

ये भी पढ़े- तनाव से छुटकारा पाने के उपाय

3. पोषक तत्वों की कमी (Nutritional Deficiencies)- भोजन से जब पर्याप्त मात्रा में  विटामिन, खनिज और प्रोटीन नहीं मिल पाते तो बालों को पोषण नहीं मिल पाता, उनकी जड़ें कमजोर हो जाती हैं और बाल खराब होकर टूटने लगते हैं। विशेष रूप से भोजन से प्राप्त होने वाला अमीनो एसिड जो बालों के निर्माण और विकास के लिये सबसे जरूरी होता है, इसकी कमी का सीधा प्रभाव बालों पर पड़ता है।

4. सूर्य की हानिकारक किरणें (Harmful Rays of the Sun)- विशेषकर गर्मियों के मौसम में सूर्य की अल्ट्रावायलेट (Ultraviolet – UV rays) त्वचा को नुकसान पहुंचाती हैं। दोस्तो, इंफ्रारेड और रेडियो तरंगों के समान ही अल्ट्रावायलेट लाइट भी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन है। इन किरणों को नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता परन्तु सूर्य के अधिक सम्पर्क में रहने से इसके प्रभावों को महसूस किया जा सकता है। यह रेडिएशन सनबर्न, स्किन कैंसर और अन्य बीमारियों का बनता है। स्पेक्ट्रम पर, यू।वी। लाइट 4 से 400 नैनोमीटर तक वेवलेंथ के साथ वायलेट लाइट और एक्स किरणों के बीच होता है। सबसे पहले सिर इन किरणों के प्रभाव में आता है। ये किरणें बालों की कोशिकाओं को नष्ट कर देती हैं जिससे बाल रूखे और बेजान होकर टूटने लगते हैं।

5. हार्मोन में बदलाव (Hormone Changes)- बचपन से यौवन अवस्था में आने पर, गर्भावस्था के समय या रजोनिवृति के समय हार्मोन में बदलाव आते हैं जिनके कारण बालों का स्वास्थ प्रभावित होता है, उनका विकास भी बाधित होता है और बाल झड़ने लगते हैं।

6. खोपड़ी में रक्त प्रवाह बाधित होना (Blood Flow to the Scalp)- यदि खोपड़ी और बालों को समुचित देखभाल ना की जाये तो खोपड़ी में रक्त प्रवाह की गति रुक जाती है जैसे सिर की मसाज ना करना, बालों को कंघी ना करना, इनको बांध कर ना रखना, खुले छोड़ देना। परिणाम स्वरूप बाल खराब होने लगते हैं और टूटने लगते हैं।

7. दो मुंहे बाल (Double Hair)- दो मुंहे बाल होने का मतलब है बालों का स्वास्थ खराब होना जो अक्सर हमारी ही लापरवाही से होता है जैसे बालों की ठीक से देखभाल ना करना, प्रोटीन, विटामिन और खनिज युक्त भोजन ना करना। ऐसी हालत में बालों का ग्रोथ रुक जाता है।

8. डैन्ड्रफ (Dandruff)- सीबम और डैन्ड्रफ बालों के स्वास्थ और विकास में बाधक होते हैं। डैन्ड्रफ के कारण बालों का गिरना सामान्य से अधिक होता है।

9. हीट प्रोडक्ट्स (Heat Products)- सैलून में या घर में भी बालों को सीधा करने या कर्ली करने के लिये या किसी अन्य रूप में बालों को हीट दी जाती है जो बालों की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती है। नतीजा बालों का कमजोर होकर टूटना।

10. कॉस्मैटिक्स (Cosmetics)- बालों के लिये प्रयुक्त होने वाले कॉस्मैटिक्स के कैमिकल भी बालों के स्वास्थ को बिगाड़ सकते हैं जिससे बालों का विकास रुक जाता है। हर्बल प्रोडक्ट्स बहुत लाभकारी होते हैं जिनसे बाल सुरक्षित रहते हैं।

बालों को सिल्की बनाने के घरेलू उपाय – Home Remedies to Make Hair Silky

1. मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti)- मुल्तानी मिट्टी सबसे उत्तम प्राचीन उपाय है बालों को प्राकृतिक रूप से घने, मुलायम और रेशमी बनाने का। मुल्तानी मिट्टी क्लींजिंग एजेंट के रूप में काम करती है। मुल्तानी मिट्टी के उपयोग से बाल मजबूत होते हैं, उनका टूटना बंद हो जाता है। एक कटोरी मुलतानी मिट्टी पाउडर में दो चम्मच चावल का आटा और एक अंडे का सफेद वाला भाग मिलाकर थोड़ा सा पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को बालों में लगाकर छोड़ दें। एक घंटे बाद शैंपू से सिर धो लें और बाद में कंडीशनर लगा लें।

ये भी पढ़े- मुल्तानी मिट्टी के फायदे

2. दही (Curd)- दही एक प्रकार से प्राकृतिक कंडीशनर है, इसमें प्रोबायोटिक नामक कंपाउंड होता है, जो बालों के रोम (Hair follicles) के ऐनाजेन (Anagen) स्टेज (बालों के विकास का पहला चरण) को बढ़ता है। दही के उपयोग से बालों की जड़ें मजबूत होती हैं। दही से बालों में चमक आ जाती है। बालों के लिये दही का उपयोग निम्न प्रकार कर सकते हैं –

(i)  दही और आँवला (Curd and Amla)- किसी बर्तन में एक कप दही और दो बड़े चम्मच आँवला पाउडर डालकर अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे बालों में लगाकर सिर की अच्छी तरह मसाज करें ताकि इसका अर्क बालों की जड़ों में भी जाये। आधा घंटे बाद शैंपू से सिर धो लें और बाद में कंडीशनर लगा लें।

(ii)  दही और अंडा (Curd and Egg)- एक कप दही में एक अंडे का सफेद भाग फैंट कर मिलायें। इसे बालों में लगाकर मसाज करें। 20 मिनट बाद शैंपू लगाकर सिर धो लें और कंडीशनर भी लगा लें।

(iii) दही और मेथी दाना(Curd and Fenugreek Seeds) – रात के भीगे हुऐ मेथी दाने को पीसकर इसका पेस्ट दही में मिलाकर पैक बनालें। इसे बालों में लगायें और आधा घंटे बाद सिर धो लें।

(iv) दही और मुल्तानी मिट्टी (Curd and Multani Mitti)- दही में मुल्तानी मिट्टी पाउडर मिलाकर बनाये गये पैक से भी बालों में चमक आ जायेगी। 

(v) दही और बेसन (Curd and Besan)- दही में बेसन मिलाकर पैक तैयार करें। इसका उपयोग करने से बालों को पोषण मिलेगा, बालों की जड़ें मजबूत होंगी और बाल स्वस्थ, रेशमी और मुलायम रहेंगे।

(vi) दही और फिटकरी (Curd and Alum)- दही में चुटकी भर ‍फिटकरी पाउडर और एक चौथाई चम्मच हल्दी डालकर अच्छे से मिला लें। इसे बालों में लगायें और सिर की 5-10 मिनट तक मसाज करें। फिर सिर धो लें। इससे सिर की सारी गंदगी खत्म हो जायेगी और यदि कोई सिर में संक्रमण भी होगा तो वह भी खत्म हो जायेगा। इससे बालों में चमक आ जायेगी और आप पा सकेंगे मजबूत और रेशमी बाल।

(vii) दही और एलाेवेरा (Curd and Aloe Vera)- एक कटोरी दही में एलाेवेरा की ताजा पत्ती से इसका पल्प निकालकर अच्छी तरह मिक्स कर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को बालों में लगाकर छोड़ दें। आधा घंटे बाद सिर धो लें।  इसे हफ्ते में दो बार लगा सकते हैं। इससे बालों को मजबूती मिलेगी और बालों में चमक आकर वे सिल्की भी हो जायेंगे।

3. एलोवेरा जैल (Aloe Vera Jail)- एलोवेरा शारीरिक स्वास्थ के लिये तो लाभकारी है ही, त्वचा और बालों के स्वास्थ के लिये भी फायदेमंद है। एलोवेरा के एंटीसेप्टिक और एंटीफंगल गुण बालों को डैंड्रफ से बचाते हैं और बालों को रेशमी बनाने में मदद करते हैं। एलोवेरा बालों की जड़ों को मजबूत बनाता है जिससे उनका विकास होता है। एलोवेरा जैल का पैक बनाने के लिये एक कप एलोवेरा जैल में दो चम्मच मेथी पाउडर और दो चम्मच अरंडी का तेल डालकर अच्छे से मिक्स कर लें। इस मिश्रण को बालों में लगा कर सिर की अच्छी तरह मालिश करें। आधा घंटे बाद शैंपू से सिर धो लें और बाद में कंडीशनर लगा लें।

4. प्याज (Onion)- प्याज के रस में सल्फर मौजूद होता है जिससे खोपड़ी को आवश्यक पोषक तत्व मिल जाते हैं और रक्त का प्रवाह में सुधार होता है। सिर की त्वचा से सम्बन्धित अनेक समस्याऐं प्याज के रस से दूर हो जाती हैं। यह  बालों को मजबूती देने, बढ़ाने और बालों में चमक लाने में मददगार होता है। दो प्याज का रस निकाल कर इसमें लैवेंडर ऑयल की दो-तीन बूंदें डालकर मिला दें। रुई की मदद से इस मिश्रण को सिर में लगायें, फिर सिर की पांच मिनट तक मालिश करें। 15 मिनट के बाद शैंपू से बालों को धो लें। इसे हर तीसरे दिन कर सकते हैं।

5. गुलाब की पंखुड़ियां (Rose Petals)-  गुलाब की पंखुड़ियों में बालों की चमक और त्वचा में निखार को बढ़ाने वाले प्राकृतिक रसायन होते हैं। इसका पेस्ट बनाने के लिये आधा कप ताज़ा गुलाब की पंखुड़ियों को पीस लें। फिर इस में अंडा और चार चम्मच बादाम का तेल मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को बालों पर लगा कर छोड़ दें। एक घंटे के बाद बालों में शैम्पू लगाकर धो लें। आपके बाल एकदम मुलायम और रेशमी हो जायेंगे।

6. मेथी दाना (Fenugreek Seeds)-  मेथी दाने में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन होता है जो बालों के विकास के लिये आवश्यक माना जाता है। इसमें प्रोटीन और निकोटिनिक एसिड भी होता जिससे बालों को जड़ें  मजबूत बनती हैं और बालों की आभा को निखारने में मदद करता है। इसका पेस्ट बनाने के लिये रात को मेथी के दाने पानी में भिगो दें, अगले दिन सुबह इनमें हल्का सा पानी डालकर बारीक पीसकर पेस्ट बना लें।  इस पेस्ट को बालों और सिर की त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। आधा घंटे बाद बालों को शैंपू लगाकर धो लें।

ये भी पढ़े- मेथी दाने के फायदे

दूसरा उपाय यह है कि पिसे हुऐ मेथी दाने में दो बड़े चम्मच दही, एक बड़ा चम्मच ऑलिव ऑयल, और एक बड़ा चम्मच शहद डालकर पेस्ट बना लें। इसे बालों और सिर की त्वचा पर लगाकर छोड़ दें। आधा घंटे बाद बालों को शैंपू लगाकर धो लें।

7. सेब का सिरका (Apple Vinegar)- सेब का सिरका बालों के पीएच स्तर को संतुलित करने में मदद करता है, बालों के अंदर जमा गंदगी को साफ़ करता है और अतिरिक्त तेल को भी निकालता है। जिससे बाल मजबूत, घने, लंबे और रेशमी है जाते हैं। इसका उपयोग करना बेहद आसान है क्योंकि इसका कोई पैक नहीं बनाना। बस एक कप पानी में एक चम्मच सेब का सिरका मिलाकर एक तरफ वहां रख देना है जहां आप नहाते हैं। इसका उपयोग करने के लिये पहले अपने बालों को शैंपू लगाकर धो लें, फिर कंडीशनर लगा लें। फिर इसके बाद सेब के सिरके वाले पानी को बालों में लगा को लें। 5-10 मिनट के बाद फाइनली पानी से धो लें। हफ्ते में एक बार इसका उपयोग कर सकते हैं। इससे बाल रेशमी होकर चमक उठेंगे।

8. अंडा (Egg)- अंडा प्रोटीन से भरपूर होता है। इसके अतिरिक्त  इसमें आयरन, ज़िंक, सल्फ़र और अन्य पोषक तत्व भी होते हैं जो बालों को मजबूती देकर सुन्दर और रेशमी बनाने में मदद करते हैं। इसका पैक बनाने के लिये एक अंडा तोड़कर इसमें एक बड़ी चम्मच शहद और एक बड़ी चम्मच ऑलिव ऑयल अच्छी तरह मिला लें। इसे बालों में लगा लें। आधा घंटे बाद शैंपू लगाकर बालों को ठंडे पानी से धो लें।

9. बेसन (Besan)- बेसन भी अंडे की तरह प्रोटीन से भरपूर होता है। बेसन के पैक से बालों को पोषण मिलता है जिससे बालों की जड़ें मजबूत हो जाती हैं और अन्य सामग्री के संयोजन (Combination) से बाल सुन्दर और रेशमी हो जाते हैं। बेसन पैक बनाने के लिये निम्नलिखित सामग्री का उपयोग कर सकते हैं –

(i)  बेसन में दही और नींबू का रस मिलाकर पैक बना सकते हैं इससे बाल झड़ने की समस्या भी नहीं होगी।

(ii) अंडे की सफ़ेदी, शहद, नींबू का रस बेसन में मिलाकर पैक बना सकते हैं। इससे बालों का रूखापन खत्म हो जायेगा और बाल मुलायम हो जायेंगे। 

(iii) बेसन और ऑलिव ऑयल के मेल से बना पैक  बालों को मजबूती देगा।

(iv) घने, लंबे, मजबूत सिल्क एंड शाईनी बालों के लिये बेसन में बादाम पाउडर, दही, नींबू का रस और शहद मिलाकर पैक बनायें और इस्तेमाल करें।

10. मसूर की दाल (Masur Dal)-  मसूर की दाल को धोने पर उसके बचे हुए पानी का उपयोग बालों पर करें। इसके लिये पहले शैंपू लगाकर बाल धो लें। फिर इस दाल के पानी से बाल धोयें। बाल रेशमी हो जाएंगे।

11. चाय की पत्ती (Tea leaf)- दो गिलास पानी में एक चम्मच चाय की पत्ती डालकर तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा रह जाये। फिर इसमें एक नींबू निचोड़ दें। ठंडा होने पर इस पानी से बाल धोयें। बाल शाइन करेंगे।

12. बीयर एक उत्तम हेयर टॉनिक है। बीयर में प्रोटीन और विटामिन-बी की प्रचुर मात्रा होती है। ये दोनों ही खोपड़ी के स्वास्थ के लिये और बालों के विकास के लिये अति आवश्यक हैं। बीयर में फास्फोरस, मैग्नीशियम, आयरन के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट के गुण भी होते हैं। बीयर से बाल सिल्की और शाइनी हो जाते हैं। बालों को शैंपू करने के बाद बीयर को बालों की जड़ों में लगायें और पांच मिनट बाद बालों को धो लें। महीने में दो बार इसका प्रयोग करें। इससे बाल घने और चमकीले हो जायेंगे।

दूसरा उपाय यह है कि एक गिलास में सात-आठ चम्मच बीयर, दो चम्मच योगर्ट, एक चम्मच बादाम तेल, डेढ़ चम्मच शहद और आधा चम्मच नींबू का रस अच्छी तरह मिला लें। यदि बाल रूखे हैं तो एक चम्मच ग्लिसरीन भी मिला लें। इसको खोपड़ी और बालों में लगाकर मसाज करें। 15-20 मिनट बाद बालों में शैंपू लगाकर धो लें और बाद में कंडीशनर कर लें। इसे हफ्ते में दो बार लगा सकते हैं।

Conclusion

दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको बालों को सिल्की बनाने के घरेलू उपाय के बारे में विस्तार से जानकारी दी। बाल खराब होने के क्या कारण होते हैं, इस के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस लेख के माध्यम से बालों को रेशमी मुलायम बनाने के बहुत सारे उपाय भी बताये। आशा है आपको ये लेख अवश्य पसन्द आयेगा।

दोस्तो, इस लेख से संबंधित यदि आपके मन में कोई शंका है, कोई प्रश्न है तो लेख के अंत में, Comment box में, comment करके अवश्य बताइये ताकि हम आपकी शंका का समाधान कर सकें और आपके प्रश्न का उत्तर दे सकें। और यह भी बताइये कि यह लेख आपको कैसा लगा। आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और  सगे – सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कीजिये ताकि सभी इसका लाभ उठा सकें। दोस्तो, आप अपनी टिप्पणियां (Comments), सुझाव, राय कृपया अवश्य भेजिये ताकि हमारा मनोबल बढ़ सके। और हम आपके लिए ऐसे ही Health-Related Topic लाते रहें। धन्यवाद।

Disclaimer – यह लेख केवल जानकारी मात्र है। किसी भी प्रकार की हानि के लिये ब्लॉगर/लेखक उत्तरदायी नहीं है। कृपया डॉक्टर/विशेषज्ञ से सलाह ले लें।

Summary
बालों को सिल्की बनाने के घरेलू उपाय
Article Name
बालों को सिल्की बनाने के घरेलू उपाय
Description
दोस्तो, आज के लेख में हमने आपको बालों को सिल्की बनाने के घरेलू उपाय के बारे में विस्तार से जानकारी दी। बाल खराब होने के क्या कारण होते हैं, इस के बारे में भी विस्तार पूर्वक बताया। देसी हैल्थ क्लब ने इस लेख के माध्यम से बालों को रेशमी मुलायम बनाने के बहुत सारे उपाय भी बताये।
Author
Publisher Name
Desi Health Club
Publisher Logo
Categories: Beauty Tips

1 Comment

Shiv Kumar Kardam · September 3, 2021 at 11:50 am

So nice. Informative and beneficiary Article

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!